ताज़ा खबर
 

जुनैद की हत्या पर चुप क्यों हैं गृहमंत्री : बृंदा

बृंदा करात ने कहा-गृहमंत्री चुप क्यों है? यह मामूली घटना नहीं है। आरोपियों के हौसले बताते हैं कि उन्हें सत्ता का संरक्षण प्राप्त है। माकपा चुप नहीं बैठेगी। जल्द ही गृहमंत्री से मुलाकात कर उनसे जवाब मांगेगी।

Author नई दिल्ली | June 25, 2017 2:11 AM
माकपा पोलित ब्यूरो की सदस्य वृंदा करात।

मार्क्सवादी कम्युनिस्ट पार्टी (माकपा) ने गुरुवार को दिल्ली मथुरा ट्रेन में एक विशेष समुदाय के छात्र की हत्या मामले को सुनियोजित साजिश बताते हुए आरोपियों की तत्काल गिरफ्तारी की मांग की है। मारे गए युवक व घायलों के परिजनों से उनके गांव खंडावली (हरियाणा) में शनिवार को मुलाकात के बाद माकपा पोलित ब्यूरो की सदस्य बृंदा करात, सांसद मुहम्मद सलीम, पार्टी के हरियाणा राज्य के सचिव सुरिंदर मलिक ने पत्रकारों से कहा कि यह पूरा मामला सुनियोजित साजिश है। यह बाकायदा सांप्रदायिकता फैलाने वाले जहरीला प्रचार का हिस्सा है, जिसे सत्ता का समर्थन मालूम होता है। दोषियों की अब तक गिरफ्तारी क्यों नहीं हुई? उन्होंने कहा, ‘पार्टी मांग करती है कि आरोपियों को तुरंत गिरफ्तार किया जाए। लोकन ट्रेनों में सुरक्षा की पुख्ता व्यवस्था की जाए। साथ ही मारे गए युवक जुनैद के परिजनों के लिए मुआवजा और घायलों सकीर और हशीम के इलाज का खर्च की मांग करती है’। बृंदा करात ने कहा-गृहमंत्री चुप क्यों है? यह मामूली घटना नहीं है। आरोपियों के हौसले बताते हैं कि उन्हें सत्ता का संरक्षण प्राप्त है। माकपा चुप नहीं बैठेगी। जल्द ही गृहमंत्री से मुलाकात कर उनसे जवाब मांगेगी।

पार्टी के हरियाणा राज्य के सचिव सुरिंदर मलिक ने कहा-हरियाणा और दिल्ली की पार्टी इकाइयों की इसे लेकर बैठक होनी है। हम जल्द दिल्ली में आंदोलन शुरू करेंगे। उन्होंने बताया कि हरियाण के नगर निगम के कर्मचारी से लेकर आम लोग भी इस मुद्दे पर अलग-अलग बैठक कर रहे हैं। उन्होंने कहा कि इस वारदात के बाद पूरे गांव में दहशत और गुस्सा का माहौल है। लोग सत्ता से डरा और छला हुआ महसूस कर रहे हैं। सांसद मुहम्मद सलीम ने कहा कि उनकी पार्टी इसे भगवा सांप्रदायिक एजंडे के रूप में देखती है। पूरे देश का माहौल बिगाड़ने की कोशिश हो रही है। एक वर्ग विशेष को निशाना बनाया जा रहा है।।  पीड़ितों के गांव से लौटकर उन्होंने दावा किया कि दिल्ली से मथुरा जा रही ईएमयू ट्रेन में विशेष समुदाय के छात्र जुनैद की चाकुओं से गोदकर की गई हत्या के मामले में गोमांस खाने की अफवाह फैलाई जा रही है। उन्होंने सवाल के लहजे में कहा, गाड़ी में चाकू लेकर चलने वाले क्या आम राहगीर थे? रमजान में गौमांस का सेवन का आरोप कितना प्रासंगिक है?

उन्होंने दावा किया कि असलियत में जो हुआ वो काफी हैरान करने वाला है। गुरुवार की देर रात बल्लभगढ़ के गांव खंदावली निवासी हाशिम, जुनैद, मोहसिन व मोइन दिल्ली से ईद के लिए खरीदारी करके वापस आ रहे थे। तुगलकाबाद स्टेशन पर चार लोग ट्रेन में चढ़ गए और उन्होंने सीट पर बैठने को लेकर झगड़ा करना शुरू कर दिया।जब मोहसिन और उनके साथियों ने उनका विरोध किया तो आरोपियों ने उन पर गोमांस खाने के आरोप लगाते हुए मारपीट करनी शुरू कर दी। इतना ही नहीं ट्रेन में अन्य सात-आठ लोग भी आरोपियों के साथ हो लिए और मारपीट करनी शुरू कर दी। इसी दौरान दो युवकों ने चाकू निकालकर मोहसिन, जुनैद, हासिम व मोइन पर हमला कर दिया। मोहसिन के फोन करने पर उसका भाई शाकिर बल्लभगढ़ स्टेशन पर पहुंचा। जब उसने उन्हें बचाने का प्रयास किया तो आरोपियों ने उसे भी घायल कर दिया और उन्हें असावटी स्टेशन पर ट्रेन से फेंक दिया और फरार हो गए। हमले से मरने वाले जुनैद की मौत हो गई।

 

Hindi News के लिए हमारे साथ फेसबुक, ट्विटर, लिंक्डइन, टेलीग्राम पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News AppOnline game में रुचि है तो यहां क्‍लिक कर सकते हैं।

Next Stories
1 ‘योगी राज’ में भी बेलगाम अपराधी: मेरठ में मुस्लिम व्यापारी के बेटे का अपहरण, 2 करोड़ की फिरौती मांगी
2 यूपी: सीएम योगी आदित्यनाथ ने किया मुखबिर योजना का एलान, लिंग परीक्षण करने वाले की जानकारी देने पर 2 लाख का ईनाम
3 शिया वक्फ बोर्ड के सदस्यों को हटाए जाने पर हाईकोर्ट ने जताई चिंता, 6 सदस्यों को किया बहाल
ये पढ़ा क्या?
X