ताज़ा खबर
 

योगी आदित्य नाथ के विधायक ने जनसभा में महिला से पूछा- कितने बच्चे हैं; एक साथ हुए थे पैदा ?

यूपी के सीएम योगी आदित्य नाथ के लिए उनके विधायक गले की फांस बन रहे हैं। महिला आईपीएस से अभद्रता करने वाले गोरखपुर के विधायक ने एक बार अपनी हदें पार की हैं।

योदी आदित्य नाथ सरकार के विधायक राधा मोहन दास अग्रवाल ने संत कबीर नगर में हुई एक जनसभा के दौरान महिला से विवादित सवाल पूछा था। बाद में उन्होंने हर चीज को गंभीरता से न लेने की बात कहकर इस मामले में सफाई भी दी। (फोटो सोर्सः इंडियन एक्सप्रेस)

उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ के लिए उन्हीं के विधायक गले की फांस बनते जा रहे हैं। महिला आईपीएस से कथित तौर पर अभद्रता करने वाले गोरखपुर के विधायक ने एक बार अपनी हदें पार की हैं। जनसभा में इस बार उन्होंने एक महिला का यह पूछते हुए खिल्ली उड़ाई कि उसके कितने बच्चे हैं। बाद में उन्होंने अपने इस विवादित बयान पर सफाई दी है और कहा है कि हर चीज गंभीरता से नहीं ली जानी चाहिए।

मामला भाजपा के तीन साल पूरे होने के मौके पर संत कबीर नगर में जिले के मगहर में एक जनसभा का है। भाजपा विधायक राधा मोहन दास अग्रवाल वहां लोगों को संबोधित कर रहे थे। तभी वहां एक महिला उनके पास एक महिला आई। वह उनसे रहने के लिए घर की समस्या लेकर आई थी। इसी पर उन्होंने पूछा कि उसके कितने बच्चे हैं।

जब महिला ने जवाब में दो बच्चे होने की बात बताई, तो उन्होंने दोबारा सवाल किया कि क्या वे साथ पैदा हुए थे? महिला ने कहा नहीं। विधायक यही नहीं थमे। उन्होंने पूछा कि बच्चे अगर साथ पैदा नहीं हुए तो फिर वह महिला वह एक बार में सारी मांगें पूरी होने की उम्मीद कैसे रख सकती है।

अग्रवाल ने बाद में इस संबंध मंगलवार को सफाई भी दी। उन्होंने इसमें कहा कि अगर मैं पांच बच्चे होंगे, तो वे एक-एक कर के जन्म लेंगे। न कि एक बार में। कुछ चीज़ें हल्के में लेने के लिए होती हैं। अगर हर चीज़ गंभीरता से ली जाने लगे तो कोई भी सुकून से नहीं जी सकेगा।

यह पहला मौका नहीं है जब भाजपा विधायक राधा मोहन दास अग्रवाल अपनी विवादित हरकत के चलते चर्चा में आए हैं। इससे पहले भी वह आईपीएस चारू निगम के साथ अभद्रता कर चुके हैं। करीमनगर इलाके में शराब की दुकान हटाए जाने के लिए लोग प्रदर्शन कर थे। पुलिस विरोध करने वालों को वहां से हटा रही थी। तभी वहां विधायक राधा मोहन अग्रवाल पहुंचे। लोगों ने उनसे शिकायत की कि सर्किल आफिसर चारू निगम ने जबरदन शराब की दुकान का विरोध करने वालो को वहां से हटवाया। इस दौरान विधायक ने उनसे अभद्रता की थी। विधायक के व्यवहार से आहत होकर आईपीएस ने फेसबुक पर एक पोस्ट भी किया था, जिस पर सैकड़ों लोगों का उन्हें समर्थन मिला था।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App