scorecardresearch

कानपुर हिंसा फंडिंग मामले में बिल्डर हाजी वसी गिरफ्तार, बेटा पहले ही हो चुका है अरेस्‍ट, पढ़ें क्‍या है पूरा मामला

कानपुरः हाजी वसी पर क्राउड फंडिंग का आरोप है। इससे पहले हिंसा के मुख्य आरोपी हयात जफर हाशमी को गिरफ्तार किया था।

Kanpur violence, Nai Sadak, Builder Haji Vasi, Builder arrested, Crowd funding, Haji Vasi son, Kanpur Police
कानपुर हिंसा का आरोपी हाजी वसी। (फोटोः ANI)

पैगंबर मोहम्मद पर नूपुर शर्मा की टिप्पणी के बाद भड़की कानपुर हिंसा के मामले में पुलिस ने अब हिंसा के लिए बिल्डर हाजी वसी को गिरफ्तार किया है। बीती 3 जून को नई सड़क इलाके में हुई हिंसा के मामले में पुलिस ने दो दिन पहले हाजी वसी के बेटे अब्दुल रहमान को गिरफ्तार किया था। हाजी वसी फरार चल रहा था। माना जा रहा है कि बेटे अब्दुल रहमान की निशानदेही पर ही हजी वसी को गिरफ्तार किया गया।

कानपुर हिंसा सामने आया था कि कुछ लोगों ने ठेलों पर पत्थर लाकर पुलिस पर बरसाए थे। भीड़ को इसके लिए उकसाया गया। पुलिस ने केस दर्ज कर कार्रवाई शुरू की तो पता चला कि बिल्डर हाजी वसी के बेटे अब्दुल रहमान ने हिंसा भड़काई थी। हाजी वसी पर क्राउड फंडिंग का आरोप है। इससे पहले हिंसा के मुख्य आरोपी हयात जफर हाशमी को गिरफ्तार किया था। उसके बाद से गिरफ्तारियों का सिलसिला जारी है।

सूत्रों का कहना है कि गिरफ्तारी के बाद अब्दुल रहमान ने एसआईटी के सामने कई राज उगले थे। इसके बाद रविवार की देर रात और सोमवार को भी कई इलाकों में छापेमारी की। बेटे की निशानदेही पर बिल्डर हाजी वसी पर शिकंजा कसा। पुलिस ने उसके कई करीबियों को हिरासत में लिया। इस पूछताछ में उसके ठिकाने का पता चला। उसके बाद उसे गिरफ्तार कर लिया गया है। पुलिस का कहना है कि वसी मामले की अहम कड़ी है। उससे ही पता लग सकता है कि क्राउड फंडिंग में कौन से लोग शामिल थे। उसकी अरेस्ट एक उपलब्धि है।

ध्यान रहे कि् नई सड़क पर तीन जून को जुमे की नमाज के बाद भारी बवाल हुआ था। बवाल की जांच कर रही टीम ने 40 लोगों को चिह्नित कर उनके चौराहों पर पोस्टर चस्पा कराए थे। पुलिस ने मामले में 55 लोगों को नामजद और एक हजार अज्ञात लोगों के खिलाफ रिपोर्ट दर्ज की थी।

अब तक 60 आरोपी अरेस्ट हो चुके हैं। हयात जफर हाशमी भी इसमें शामिल हैं। सरकार एहतियात के तौर पर आरोपियों को दूसरी जेलों में शिफ्ट कर रही है। दावा है कि आरोपी एक साथ मिलकर किसी तरह की साजिश न रच सकें इसलिए जेल बदली जा रही हैं।

पढें उत्तर प्रदेश (Uttarpradesh News) खबरें, ताजा हिंदी समाचार (Latest Hindi News)के लिए डाउनलोड करें Hindi News App.

X