ताज़ा खबर
 

उत्तर प्रदेश: उपेक्षा से नाराज भाजपा सांसद ने की बगावत

सांसद ने कहा है कि वह नवाबगंज नगर पालिका के लिए पार्टी की ओर से घोषित उम्मीदवार का खुलकर विरोध करेंगे, चाहे इसके लिए उन्हें लोकसभा की सदस्यता ही क्यों न गंवानी पड़े।

Author गोण्डा | November 12, 2017 2:01 AM
तस्वीर का इस्तेमाल केवल प्रतीकात्मक रूप से किया गया है।

उत्तर प्रदेश की कैसरगंज संसदीय सीट से भारतीय जनता पार्टी के सांसद और भारतीय कुश्ती संघ के अध्यक्ष बृजभूषण शरण सिंह ने स्थानीय निकाय चुनाव में अपनी उपेक्षा से नाराज होकर बगावत का ऐलान कर दिया है।  प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के ‘मन की बात’ कार्यक्रम की तर्ज पर ‘गोण्डा की जनता से मन की बात’ कार्यक्रम में सिंह भावुक हो गए। उन्होंने कहा कि वह नवाबगंज नगर पालिका के लिए पार्टी की ओर से घोषित उम्मीदवार का खुलकर विरोध करेंगे, चाहे इसके लिए उन्हें लोकसभा की सदस्यता ही क्यों न गंवानी पड़े। बीते विधानसभा चुनाव के बाद से ही पार्टी के स्थानीय संगठन से नाराज चल रहे भाजपा सांसद ने शनिवार को अपने संसदीय कार्यालय परिसर ‘गोनार्द लान’ में शहर की जनता से बात करने के लिए ‘मन की बात’ कार्यक्रम आयोजित किया। समर्थकों से खचाखच भरे पंडाल में सांसद जब बोलने के लिए खड़े हुए तो बहुत भावुक हो गए।

HOT DEALS
  • Sony Xperia XZs G8232 64 GB (Ice Blue)
    ₹ 34999 MRP ₹ 51990 -33%
    ₹3500 Cashback
  • Lenovo K8 Plus 32GB Fine Gold
    ₹ 8184 MRP ₹ 10999 -26%
    ₹1228 Cashback

उन्होंने टिकट बंटवारे को लेकर संगठन पर करारा आरोप मढ़ा। सिंह ने कहा कि टिकट बंटवारे को लेकर हमसे (पिता-पुत्र) संगठन ने एक बार चर्चा तक नहीं की। पार्टी नेतृत्व को गुमराह किया गया। ऊपर तक सही बात नहीं पहुंचाई गई। उन्होंने कहा, ‘मैंने अपने गृह क्षेत्र नवाबगंज में पार्टी का उम्मीदवार उतार दिया है। भले ही उसे पार्टी का चुनाव चिन्ह नहीं मिला है।’ सांसद ने कहा कि नवाबगंज में पार्टी ने जिसे उम्मीदवार घोषित किया है, वह बहुजन समाज पार्टी और समाजवादी पार्टी के नेताओं की भी बहुत करीबी रही हैं। उनके समय में भी अध्यक्ष रह चुकी हैं। उनकी सगी देवरानी को समाजवादी पार्टी ने उम्मीदवार घोषित किया है।’ सांसद ने कहा, ‘मैंने नवाबगंज में पार्टी के वफादार कार्यकर्ता का नामांकन करवाकर उसे उम्मीदवार बना दिया है। उसी की मदद करुंगा और पार्टी द्वारा घोषित प्रत्याशी का विरोध करुंगा। चाहे इसका खामियाजा मुझे लोकसभा की सदस्यता गंवाकर ही क्यों न चुकाना पड़े।’

 

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App