ताज़ा खबर
 

जिन्ना को कहा था ‘महापुरुष’, अब दोबारा ‘संविधान बचाओ’ मुहिम में जुटेंगी BJP सांसद

फुले ने करीब एक महीना पहले भी लखनऊ में संविधान बचाओं रैली आयोजित की थी। इसमें उन्होंने कथित तौर पर राज्य सरकार द्वारा दलितों और पिछड़े वर्ग के अधिकारों को खत्म करने के आरोपों के तहत सरकार पर निशाना साधा था।

यूपी के बहराइच से भाजपा सांसद सावित्री बाई फुले। (एक्सप्रेस फोटो)

भाजपा सांसद सावित्री बाई फुले ने शुक्रवार (18 मई, 2018) को कहा कि वह लखनऊ में एक रैली आयोजित करने के बाद देश के अन्य राज्यों में संविधान बचाओ रैली निकालेंगी। बहराइच से सांसद ने कहा कि उत्तर प्रदेश सहित देश के विभिन्न हिस्सों से आवाज आई थी कि देश का संविधान और लोकतंत्र खतरे में है। जिसके तहत वह अब संविधान बचाओ रैली निकालेंगी। फुले ने करीब एक महीना पहले भी लखनऊ में संविधान बचाओं रैली आयोजित की थी। इसमें उन्होंने कथित तौर पर राज्य सरकार द्वारा दलितों और पिछड़े वर्ग के अधिकारों को खत्म करने के आरोपों के तहत सरकार पर निशाना साधा था। तब फुले ने राज्य की भाजपा सरकार पर ये भी आरोप लगाया कि सरकार दलित और पिछड़े वर्ग के अधिकारों की सुरक्षा करने में नाकाम साबित हुई है। उन्होंने कहा कि आंबेडकर की मूर्तियों को निशाना बनाया जा रहा है, उन्हें क्षतिग्रस्त किया जा रहा है लेकिन सरकार आरोपियों के खिलाफ कार्रवाई करने में नाकाम साबित हुई है। इस प्रकार उन्होंने लखनऊ में 20 मई को एक अन्य रैली आयोजित करने की योजना बनाई थी।

पिछले दिनों पाकिस्तान के कायद-ए-आजम मुहम्मद अली जिन्ना को महापुरुष बताने वाली भाजपा सांसद ने आगे कहा कि रैली में मुद्दे एक जैसे होंगे। इसमें आरक्षण, संविधान बचाओ, दलितों के अधिकारों और पिछड़ों जैसे मुद्दों पर बात की जाएगी। फुले ने आगे कहा कि वह रैली में आंबेडकर की मूर्ति की सुरक्षा की मांग करेंगी। उनके खिलाफ भी कार्रवाई की मांग करेंगी जो संविधान निर्माता की मूर्तियों को निशाना बना रहे हैं। फुले ने कहा कि हाल के दिनों में बहराइच में आंबेडकर की मूर्ति को क्षतिग्रस्त किया गया लेकिन आरोपी को अभी तक सजा नहीं दी गई। उन्होंने यूपी, पंजाब, हरियाणा, दिल्ली, राजस्थान, मध्य प्रदेश के लोगों से इस अभियान में शामिल होने की अपील की है।

फुले के मुताबिक ‘संविधान बचाओ’ रैली की योजना देशभर में ले जाने की है। उन्होंने कहा कि आज यूपी ही नहीं देश के कई राज्यों में ऐसी ही स्थिति बनी हुई है। जहां आंबेडकर की मूर्तियों को तोड़ा जा रहा है। दलितों को निशाना बनाया जा रहा है। आरोपियों के खिलाफ कार्रवाई भी नहीं की जा रही है। हालांकि भाजपा सांसद ने साफ किया है कि लखनऊ रैली के बाद योजना को अमलीजामा पहनाया जाएगा। रैली की तारीख अभी घोषित नहीं की गई है।

Next Stories
1 यूपी: एसडीएम ने धार्मिक कार्यक्रम का माइक हटाया, अखिलेश यादव बोले- भाजपा राज में रामकथा करना भी अपराध
2 यूपी: सीएम ऑफिस से लीक हुआ पूर्व मुख्‍यमंत्रियों के बंगले बचाने का फार्मूला, 2 अफसर हटाए गए
3 सरकारी बंगला बचाने के लिए सीएम योगी आदित्यनाथ से मिले मुलायम सिंह यादव!
ये पढ़ा क्या?
X