ताज़ा खबर
 

बीजेपी विधायक का ऐलान- राम मंदिर के लिए बच्चा-बच्चा खून बहाएगा

वहीं बीजेपी सांसद विनय कटियार के बलिदान वाले बयान पर गोरखनाथ बाबा ने कहा, "बलिदान कई रूप में होता है। बलिदान का मतलब मर जाना ही नहीं होता। उसके लिए लड़ाई लड़ना, विजय हासिल करना और फिर दर्शन करना असली बलिदान है।"

मिल्कीपुर से बीजेपी विधायक गोरखनाथ बाबा। (Photo Source: Facebook@Gorakhnath BaBa Mla)

अयोध्या राम मंदिर के मुद्दे को लेकर आए दिन राजनेता बयानबाजी कर रहे हैं। राम मंदिर पर ताजा टिप्पणी मिल्कीपुर से भारतीय जनता पार्टी (बीजेपी) के विधायक गोरखनाथ बाबा ने कर दी है। विधायक गोरखनाथ बाबा का कहना है कि बलिदान केवल मरना ही नहीं होता बल्कि अपने लक्ष्य को पूरा करना भी होता है। इतना ही नहीं विधायक ने यह भी कहा कि राम मंदिर निर्माण के लिए बच्चा-बच्चा खून बहाएगा। यह सारी बातें विधायक गोरखनाथ बाबा ने अयोध्या में श्री राम दर्शन यात्रा के लिए आयोजित किए गए कार्यक्रम में कही।

मीडिया रिपोर्ट्स के अनुसार, गोरखनाथ बाबा ने कहा, “हम चाहते हैं कि ग्राम सभा से प्रत्येक लोग आएं और अयोध्या में राम लला के दर्शन करें और चाहते हैं कि राम मंदिर का निर्माण हो।” वहीं बीजेपी सांसद विनय कटियार के बलिदान वाले बयान पर गोरखनाथ बाबा ने कहा, “बलिदान कई रूप में होता है। बलिदान का मतलब मर जाना ही नहीं होता। उसके लिए लड़ाई लड़ना, विजय हासिल करना और फिर दर्शन करना असली बलिदान है।” रिपोर्ट्स का दावा है कि उन्होंने यह भी कहा था कि राम मंदिर निर्माण के लिए मिल्कीपुर का बच्चा-बच्चा बलिदान देगा।

आपको बता दें कि हाल ही में बीजेपी सांसद विनय कटियार ने अयोध्या राम मंदिर निर्माण को लेकर टिप्पणी की थी कि हिंदू समुदाय से राम मंदिर अभियान को एक अन्य बलिदान की आवश्यकता है। विनय कटियार के इस बयान के बाद विवाद खड़ा हो गया था और विपक्षी दल उनकी आलोचना करने लगे थे। विनय कटियार ने कहा था कि एक ऐसी क्रांति की आवश्यकता है, जिसमें 1990 में पुलिस की गोलीबारी के दौरान कई लोग मारे गए थे और 1992 में जब मस्जिद को ध्वस्त कर दिया गया था। हिंदू समुदाय को ऐसे बलिदान के लिए तैयार रहना चाहिए।इसके अलावा उन्होंने कहा था कि राज्य में भले कोई भी सरकार क्यों न हो लेकिन राम जानभूमी मुद्दे को उन लोगों द्वारा पुनर्जीवित करना होगा, जिन्हें बलिदान के लिए तैयार होना है।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App