ताज़ा खबर
 

बीजेपी नेता ने जावड़ेकर को लिखी चिट्ठी, दी धमकी- ओवैसी AMU आए तो लौटने नहीं देंगे

भाजपा कार्यकर्ताओं ने यूनिवर्सिटी में ओवैसी को बुलाने के लिए AMUSU नेताओं के खिलाफ कार्रवाई करने की भी मांग की है।

Author February 11, 2019 10:29 AM
ऑल इंडिया मजलिस-ए-इत्तेहादुल (AIMIM) चीफ असदुद्दीन ओवैसी। (फाइल फोटो)

उत्तर प्रदेश के अलीगढ़ में भाजपा यूनिट के कार्यकर्ताओं ने केंद्रीय मंत्री प्रकाश जावड़ेकर को पत्र लिखकर यहां अलीगढ़ मुस्लिम यूनिवर्सिटी (AMU) में ऑल इंडिया मजलिस-ए-इत्तेहादुल (AIMIM) चीफ और हैदराबाद से सांसद असदुद्दीन ओवैसी के मंगलवार (12 फरवरी, 2019) को प्रस्तावित दौरे को रद्द किए जाने की अपील की है। आगामी लोकसभा चुनाव के चलते अलीगढ़ मुस्लिम यूनिवर्सिटी छात्र संघ (AMUSU) ने नई राजनीतिक पार्टी बनाने की संभावनाओं के लिए ओवैसी सहित अन्य मुस्लिम पार्टियों के अध्यक्षों को यूनिवर्सिटी आने का न्योता दिया है। भाजपा कार्यकर्ताओं ने यूनिवर्सिटी में ओवैसी को बुलाने के लिए AMUSU नेताओं के खिलाफ कार्रवाई करने की भी मांग की है।

भाजपा अलीगढ़ यूनिट के प्रवक्ता डॉक्टर निशित शर्मा ने मानव संसाधन विकास (HRD) मंत्री प्रकाश जावड़ेकर को लिखे पत्र में कहा, ‘इस तरह के कार्यक्रम जिले में सांप्रदायिक सौहार्द्र को नुकसान पहुंचा सकते हैं।’ पत्र में आगे लिखा गया, ‘एक शैक्षणिक संस्थान को राजनीतिक आधार बनाने का प्रयास जारी है। छात्र ओवैसी को बुलाकर हिंदुओं की भावनाओं को आहत करने की कोशिश कर रहे हैं। हालांकि हम अलीगढ़ में ओवैसी को घुसने नहीं देंगे। अगर वो अलीगढ़ आए तो वापस नहीं जा सकेंगे।’ निशित शर्मा ने आगे कहा कि ओवैसी जैसे लोग जो सीरिया, गाजा और फिलिस्तीन के लिए शांति की बात करते हैं, वे अलीगढ़ के सांप्रदायिक माहौल को बिगाड़ना चाहते हैं।

वहीं भाजपा प्रवक्ता की धमकी पर AMUSU के उपाध्यक्ष हमजा सूफियान ने कहा कि कोई भारतीय भारत के किसी भी हिस्से में जा सकता है और उसे किसी की अनुमति की जरुरत नहीं। किसी को भी ओवैसी के यूनिवर्सिटी में घुसने से रोकने का अधिकार नहीं है। अगर ऐसी कोशिश होती है तो यह असंवैधानिक होगा। उनकी चर्चाएं राजनीतिक होंगी और इसका धर्म से कोई लेना देना नहीं है।

सूफियान ने आगे कहा कि मुस्लिम नेताओं को धर्मनिरपेक्ष दलों के रूप में लूटा गया और लगातार सरकारें समुदाय की आकांक्षाओं को पूरा करने और उन्हें हाशिए पर रखने से रोकने में विफल रही हैं। यूनियन देश भर में एएमयू के पूर्व छात्रों को जुटाएगी और उन्हें समुदाय से संबंधित विभिन्न मुद्दों के बारे में जागरूक करने के लिए बैठकें आयोजित करेगी।

जानना चाहिए कि इससे पहले दो फरवरी को छात्र संघ ने कुछ राजनेताओं के साथ एक मीटिंग आयोजित की और अगली मीटिंग 12 फरवरी को तय की गई। इसमें राष्ट्रीय उलेमा काउंसिल, पीस पार्टी, नेशनल अमन पार्टी सहित 12 मुस्लिम दलों के अध्यक्षों को मुस्लिम मोर्चे के गठन की रणनीति तय करने के लिए बैठक में भाग लेने के लिए बुलाया गया है।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ लिंक्डइन पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App