ताज़ा खबर
 

बीजेपी के दलित एमपी की पीएम नरेंद्र मोदी से गुहार, सीएम योगी आदित्यनाथ ने बेइज्जत किया, डांटकर भगा दिया, अब कहां जाएं सरकार?

दलित सांसद ने पीएम को लिखा है कि अपनी मर्यादा बचाने के लिए तीन बार प्रदेश अध्यक्ष से मिला। दो बार संगठन महामंत्री से मिला। इसके अलावा क्षेत्रीय अध्यक्ष, जिला अध्यक्ष, प्रभारी मंत्री से भी मिला फिर भी मदद नहीं मिली।
उत्तर प्रदेश के रॉबर्ट्सगंज लोकसभा क्षेत्र से बीजेपी के सांसद छोटेलाल खरवार ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को पत्र लिखकर सीएम योगी आदित्यनाथ की शिकायत की है।

उत्तर प्रदेश के रॉबर्ट्सगंज लोकसभा क्षेत्र से बीजेपी के सांसद छोटेलाल खरवार ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को पत्र लिखकर सीएम योगी आदित्यनाथ की शिकायत की है। पत्र में सांसद ने गुहार लगाई है कि मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ से जब वो किसी समस्या को लेकर मिलने पहुंचे तो उन्होंने डांटकर भगा दिया। 45 साल के सांसद ने लिखा है कि उन्होंने योगी आदित्यनाथ से दो बार मुलाकात की लेकिन उन्होंने मदद की बजाय बेइज्जत किया। बीजेपी सांसद ने अपने पत्र में लिखा है कि उन्होंने सपा के गुंडाराज (शासनकाल) में अपने खास भाई जवाहर खरवार को चंदौली जिले के नौगढ़ ब्लॉक के प्रमुख पद पर बीजेपी उम्मीदवार के रूप में जितवाया था लेकिन जब राज्य में बीजेपी की सरकार आई तो पार्टी सांसद के ही भाई को साजिशन ब्लॉक प्रमुख पद से हटवा दिया गया। सांसद ने लिखा है कि उनके भाई की जगह भूमाफिया और गुंडा की पत्नी को ब्लॉक प्रमुख के पद पर बिठा दिया गया। उन्होंने लिखा है कि हमारे भाई का दोष सिर्फ इतना है कि उसने दलित होते हुए भी सामान्य सीट पर जीत दर्ज की थी।

दलित सांसद ने पीएम को लिखा है कि अपनी मर्यादा बचाने के लिए तीन बार प्रदेश अध्यक्ष से मिला। दो बार संगठन महामंत्री से मिला। इसके अलावा क्षेत्रीय अध्यक्ष, जिला अध्यक्ष, प्रभारी मंत्री से भी मिला फिर भी मदद नहीं मिली। डीएम-एसपी ने भी कुछ नहीं सुना। थक हारकर सीएम के पास पहुंचा पर वहां से भी बेइज्जत कर भगा दिया गया। अब तो जान से मारने की नीयत से हमला कराया गया। सांसद ने लिखा है कि उन्हें जातिसूचक शब्दों से गालियां भी दी गईं।

पत्र में सांसद ने गुहार लगाई है कि मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ से जब वो किसी समस्या को लेकर मिलने पहुंचे तो उन्होंने डांटकर भगा दिया।

सांसद ने दलित आदिवासियों का मान सम्मान बचाने की गुहार भी पीएम मोदी से की है। पत्र में माफिया द्वारा वन भूमि कब्जे को मुक्त कराने की भी मांग की है। इसके साथ ही हमलावर सुजीत कुमार के असलहा, रिवॉल्वर, रायफल का लाइसेंस भी निरस्त करने की मांग की है।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App