ताज़ा खबर
 

बलिया कांड: फरार आरोपी का BJP विधायक के साथ फोटो, सुरेंद्र सिंह ने दी यह सफाई

यदि आत्मरक्षा में कोई गोली चलाया है तो वह अपराध हो सकता है लेकिन आत्मरक्षा के लिए ही लाइसेंस बनवाया जाता है। धीरेंद्र सिंह ने आत्मरक्षा में गोली चलाई है तो यह गलत काम जरूर है।

Ballia case, BJP MLA, BJP Ballia MLA, Dheerendra Singh, BJP MLA Surendra Singh, ballia murder caseयह घटना हुई है इसकी निंदा जरूर होनी चाहिए लेकिन न्याय पक्ष को ध्यान में रखा जाना चाहिए। (फोटो ANI)

उत्तर प्रदेश के बलिया के दुर्जनपुर व हनुमानगंज की कोटे की दो दुकानों के आवंटन पर गरमागरम बहस के दौरान एक व्यक्ति को गोली मार दी। जिस शख्स ने गोली चलाई है उसका नाम धीरेंद्र सिंह है। बैरिया के विधायक सुरेंद्र सिंह और धीरेंद्र सिंह को करीबी बताया जा रहा है। दरअसल एक फोटो सामने आई है जिसमें विधायक सुरेंद्र सिंह आरोपी धीरेंद्र सिंह को मिठाई खिलाते नजर आ रहे हैं। बीजेपी विधायक ने इस पर सफाई दी है। उन्होंने कहा है कि दुर्जनपुर में जो भी घटना हुई है वह दुर्भाग्यपूर्ण है, लेकिन प्रशासन द्वारा की जा रही एकतरफा कार्रवाई की भी मैं निंदा करता हूं। प्रशासन एक तरफा कार्रवाई करके न्याय का गला घोंट रहे हैं। जब एक तरफ से 6 महिलाएं चोटिल होकर हॉस्पिटल में भर्ती हैं और एक आदमी बनारस रेफर हो चुका है उनकी पीड़ा को कोई नहीं देख रहा है। यह जरूर है की गोली की घटना अच्छी नहीं है, लेकिन यदि धीरेंद्र सिंह आत्मरक्षा में गोली नहीं चलाया होता तो उसके परिवार के और उनके गोल के दर्जनों लोग मार दिए गए होते। दर्जनों लोग जब मारे जाते तो ये प्रशासन पता नहीं क्या सोचता।

बीजेपी विधायक ने आगे कहा कि जो भी यह घटना हुई है इसकी निंदा जरूर होनी चाहिए लेकिन न्याय पक्ष को ध्यान में रखा जाना चाहिए। जिसने जो गलती किया है उसे उसका दंड मिलना चाहिए। गोली मारने वाले को भी दंड मिलना चाहिए लेकिन लाठी, रॉड और डंडों से 6 महिलाओं और 2 पुरुषों को चोटिल करके हॉस्पिटल पहुंचाने वालों को भी दंड मिलना चाहिए। मेरा प्रशासन से और उच्च  अधिकारियो से आग्रह है यह घटना असाधारण घटना है और अप्रिय घटना है इसकी जितनी भी निंदा की जाए कम है। लेकिन जिस तरह से प्रशासन अपनी कार्रवाई सुनिश्चित कर रहा है उससे में इतना जरूर आग्रह करूंगा कि दूसरे पक्ष के भी पीड़ित लोगों की पीड़ा को समझें और उनकी पीड़ा को भी देखते हुए जो न्याय हो सके उन्हें देने का कष्ट करें।

उन्होंने एक अंग्रेजी चैनल को बताया कि यदि आत्मरक्षा में कोई गोली चलाया है तो वह अपराध हो सकता है लेकिन आत्मरक्षा के लिए ही लाइसेंस बनवाया जाता है। धीरेंद्र सिंह ने आत्मरक्षा में गोली चलाई है तो यह गलत काम जरूर है लेकिन उनके सामने मरने-मारने के अलावा कोई दूसरा विकल्प नहीं था। पुलिस के मुताबिक इस मामले में अब तक 8 नामजद और 25 अज्ञात लोगों के खिलाफ केस दर्ज किया जा चुका है। इस मामले में अब तक पुलिस ने 6 लोगों को गिरफ्तार भी कर लिया है। जब यह गोली कांड हुआ उस दौरान खुली बैठक में बैरिया के एसडीएम सुरेश पाल, सीओ चंद्रकेश सिंह और बीडीओ गजेंद्र प्रताप सिंह के साथ ही रेवती थाने की पुलिस फोर्स मौजूद थी।

Hindi News के लिए हमारे साथ फेसबुक, ट्विटर, लिंक्डइन, टेलीग्राम पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News AppOnline game में रुचि है तो यहां क्‍लिक कर सकते हैं।

Next Stories
1 यूपी में एक साल में डबल हो गई बेरोजगारी दर, कांग्रेस प्रदेशाध्यक्ष के सवाल पर श्रम मंत्रालय ने दिया जवाब
2 डिलीवरी के दौरान मां और नवजात की मौत, क्लिनिक के बाहर शव फेंककर संचालक फरार
यह पढ़ा क्या?
X