ताज़ा खबर
 

फेसबुक फ्रेंड से मिलने जा रहे दो युवकों को बजरंग दल के कार्यकर्ताओं ने दौड़ा-दौड़ाकर, निर्वस्त्र कर पीटा

हैरानी की बात ये रही कि पुलिस ने उल्टे पीड़ित युवकों का चालान काट दिया और उससे उससे तरह-तरह के सवाल करने लगी।

बजरंग दल के कार्यकर्ताओं ने दोनों युवकों की बेल्ट से पिटाई की (Image Source: ANI)

मुजफ्फरनगर जिले के नई मंडी कोतवाली इलाके में शनिवार को बजरंग दल के कार्यकर्ताओं ने महिला से मिलने आए उसके दो दोस्तों की बेरहमी से पिटाई की। इसके बाद उन्होंने दोनों युवकों के कपड़े उतार दिए और फिर बेल्ट से पिटाई की। बताया जा रहा है कि दोनों युवक अपने फेसबुक के महिला मित्र से मिलने आए हुए थे। जब बजरंग दल के कार्यकर्ताओं को इस बात की जानकारी मिली को उन्होंने दोनों युवकों को घेरकर सड़क पर ही पिटाई शुरु कर दी। इस दौरान दोनों युवक रहम की गुहार लगाते रहे, लेकिन कार्यकर्ताओं ने उनकी एक न सुनी।

काफी देर बाद जब घटना की सूचना पुलिस को मिली तो उसने भी इस मामले को गंभीरता से नहीं लिया। हैरानी की बात ये रही कि पुलिस ने उल्टे पीड़ित युवकों का चालान काट दिया और उससे उससे तरह-तरह के सवाल करने लगी। पुलिस ने पूरे मामले में कार्रवाई करते हुए दोनों पक्षों पर शांति भंग करने की धाराओं में चालान किया है। हालांकि, इस मामले में पुलिस की कार्रवाई पर सवाल खड़े हो गए कि आखिर पुलिस ने पीड़ित युवकों के खिलाफ क्यों कार्रवाई की।

बता दें कि बजरंग दल के कार्यकर्ताओं की गुंडई यूपी में आए दिन सामने आती रहती है। इससे पहले शनिवार (22 अप्रैल) को बजरंग दल के कार्यकर्ताओं ने अपने 5 समर्थकों को छुड़ाने के लिए शाहगंज थाने पर हमला कर दिया था और पुलिस की वाहन में भी आग लगा दिया था।

दरअसल, पुलिस ने 9 हिंदू लोगों के खिलाफ FIR दर्ज की हुई थी। उनपर कुछ मुसलमान लोगों को पीटने का आरोप था। इसका विरोध करके हुए कुछ लोग थाने पहुंचे थे। उन्होंने FIR मिटाने के साथ-साथ अल्पसंख्यक समुदाय के लोगों के खिलाफ केस दर्ज करने के लिए भी कहा। इस प्रदर्शन के बीच सीनियर पुलिस अफसर के साथ कथित रूप से बदतमीजी हुई। जिसके बाद पुलिस ने हल्क बल का प्रयोग किया। इसके बाद पांच लोगों को पकड़कर हिरासत में ले लिया गया।

देखिए वीडियो - 2007 गोरखपुर दंगे: योगी आदित्य नाथ पर नहीं चलेगा मुकदमा, उत्तर प्रदेश सरकार ने नहीं दी इजाजत

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ लिंक्डइन पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App