scorecardresearch

अयोध्या के कायाकल्प की योजना ने पकड़ी रफ्तार

राम मंदिर के निर्माण का काम राम जन्मभूमि तीर्थ क्षेत्र ट्रस्ट द्वारा कराया जा रहा है।

अयोध्या के कायाकल्प की योजना ने पकड़ी रफ्तार

त्रियुग नारायण तिवारी

अयोध्या में राम मंदिर निर्माण के साथ तीर्थ यात्रियों के आवागमन और उनकी सुख सुविधाओं के लिए भी विभिन्न निर्माण एजंसियों द्वारा योगी सरकार 2.0 की आहट मिलते ही निर्माण कार्य तेज हो गया। राम मंदिर के निर्माण का काम राम जन्मभूमि तीर्थ क्षेत्र ट्रस्ट द्वारा कराया जा रहा है। ट्रस्ट का 30 फीसद निर्माण कार्य पूरा करने का दावा है। मंदिर के नींव का काम आगामी जून तक पूरा कर लेने के बाद बंसी पहाड़ से पत्थरों को लाकर गर्भगृह में निर्माण आरम्भ किया जाएगा। दिसंबर 2023 तक मंदिर निर्माण पूरा कर लेने का लक्ष्य निर्धारित किया गया है।

ट्रस्टी डा अनिल मिश्र का कहना है कि मंदिर निर्माण के साथ ही साथ यात्रियों के लिए सुरक्षा और अनेक सुविधाएं ( प्रतीक्षालय, शौचालय, विश्रामगृह) का निर्माण कार्य पूरा कराया जाएगा जिसकी ट्रस्ट की बैठकों में चर्चा की जा चुकी है। मंदिर निर्माण के साथ ही श्रद्धालुओं, तीर्थयात्रियों के लिए आवागमन पर योगी सरकार ने काफी महत्व दिया है। सड़क, रेल और वायु तीनों मार्गों से अयोध्या को जोड़ने काम तेजी के साथ चल रहा है। अयोध्या से काशी मार्ग को चार लेन का बनाया जा रहा है। अयोध्या से प्रयागराज, अयोध्या से गोरक्षनाथ पीठ (गोरखपुर) का निर्माण कार्य पूरा हो चुका है। अयोध्या से रायबरेली, चित्रकूट का कार्य चल रहा है। अयोध्या के चारों तरफ 68 किलोमीटर की रिंगरोड व चौरासी कोसी परिक्रमा मार्ग की सैद्धान्तिक सहमति मिल चुकी है। आगड़न आख्या मिलते ही धन आबंटित किया जाएगा।

अयोध्या धाम को रामजानकी मार्ग व राम वनगमन मार्ग से पहले ही जोड़ा जा चुका है। अयोध्या धाम को केंद्रित करके मंदिर के चारों तरफ की सड़कों को चौड़ीकरण करने का काम चल रहा है। पुराने बस अड्डे से रामजन्मभूमि मंदिर तक कई मकानों को ध्वस्त करके निर्माण कार्य तेजी से किया जा रहा है। इससे मंदिर तक पहुंचने में श्रद्धालुओं को आसानी होगी। अयोध्या नया घाट से शाहदतगंज बाईपास तक 18 किलोमीटर मार्ग जो नगर निगम के मुख्य बाजार से होते हुए गुजर रहा है, उसका चौड़ीकरण हो रहा है।

कार पार्किंग के लिए टेढ़ी बाजार, अमानीगंज जलकल, चौक मंडी के पीछे व जिला पंचायत कार्यालय के सामने की भूमि पर निर्माण कार्य तेजी से चल रहा है। फैजाबाद शहर में सीवर लाइन का निर्माण कार्य हर घर को जल व विद्युत कनेक्शन का काम तेजी से चल रहा है। कुल मिलाकर सड़क मार्ग से अयोध्या पहुंचने के लिए हर दिशा से फोर लेन सड़क से जोड़ दिया जाएगा। इसी प्रकार हवाई अड्डे के लिए जमीन का अधिग्रहण पूरा किया जा चुका है। प्राधिकरण द्वारा निर्माण कार्य प्रारंभ होने की तैयारी की जा रही है।

हवाईअड्डे का संचालन मंदिर निर्माण पूरा होने तक करने का लक्ष्य निर्धारित है। रेल मार्ग से अयोध्या पहुंचने के लिए सभी रेल मार्गों को मार्च तक विद्युतीकृत कर दिया जाएगा और अयोध्या-लखनऊ रेलखंड का दोहरीकरण तेजी से चल रहा है , अयोध्या रेलवे स्टेशन पर भवन व यात्री सुविधा के निर्माण का काम प्रथम चरण को पूरा कर चुका है। अयोध्या जंक्शन पर नौ प्लेटफार्म बनाए जाएंगे तथा दक्षिण दिशा में भी यात्रियों की सुविधा के लिए प्रवेश मार्ग बनाया जाएगा। अयोध्या जंक्शन को रेल मार्ग से सभी तीर्थ स्थलों व राजधानियों को सीधी ट्रेनोम से जोड़ा जाएगा।

अयोध्या से धार्मिक स्थलों को ट्रेन से जोड़ने की मांग

सांसद लल्लू सिंह ने अयोध्या से चित्रकूट, श्री वैष्णो देवी कटरा, पुरी ओड़ीशा तथा ऋषिकेश उत्तराखंड को तत्काल सीधी ट्रेनों से जोड़ने की मांग की है। तीर्थ यात्रियों की सुविधा के लिए गोरखपुर से खजुराहो वाया अयोध्या के बीच एक सीधी ट्रेन की मांग की है। नगर क्षेत्र के तीन क्रासिंग पर ओवरब्रिज का निर्माण शुरू हो गया है। दो और कि मिट्टी जांच की रिपोर्ट मिलते ही निर्माण कार्य प्रारंभ हो जाएगा।

150 गांवों का विकास

अयोध्या के संपूर्ण विकास के लिए लगभग 150 गांवों को अयोध्या विकास प्राधिकरण में सम्मिलित किया जा चुका है। अयोध्या सरयू तट के दूसरी तरफ भी अनेक होटल इन दिनों तेजी के साथ बन रहे हंै। अयोध्या से मखौड़ा धाम वाली सड़क पर सात किलोमीटर तक जमीन की खरीद में तेजी आई है। राजकीय आयुर्वेदिक मेडिकल कालेज की स्वीकृति हो गई है और पांच करोड़ रुपए की धनराशि आवंटित की जा चुकी है। केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह द्वारा अयोध्या में एक और विश्वविद्यालय की घोषणा की जा चुकी है जो जल्द ही फलीभूत होने वाली है। अयोध्या में संस्कृत विश्वविद्यालय व पत्रकारिता विश्वविद्यालय की मांग समय समय पर की जा रही है।

पढें उत्तर प्रदेश (Uttarpradesh News) खबरें, ताजा हिंदी समाचार (Latest Hindi News)के लिए डाउनलोड करें Hindi News App.

अपडेट