scorecardresearch

अयोध्या में दंगा भड़काने की साजिश नाकाम, मस्जिदों के बाहर फेंकी गई आपत्तिजनक वस्तुएं, 7 गिरफ्तार

पूरे मामले पर बात करते हुए एसएसपी ने कहा कि कानून-व्यवस्था की स्थिति पूरी तरह से नियंत्रण में है और शहर में कोई अप्रिय घटना नहीं हुई है।

Ayodhya
प्रतीकात्मक तस्वीर (फाइल)

उत्तर प्रदेश के अयोध्या (Ayodhya) में अराजक तत्वों द्वारा माहौल खराब करने और दंगा भड़काने की कोशिश को पुलिस ने नाकाम कर दिया। पुलिस ने तीन मस्जिदों समेत चार स्थानों पर आपत्तिजनक पोस्टर, धार्मिक ग्रंथों की प्रतियां और पोर्क फेंकने के आरोप में सात लोगों को गिरफ्तार किया है।

पुलिस ने कहा कि गिरफ्तार किए गए सात आरोपियों की पहचान महेश कुमार मिश्रा, प्रत्यूष श्रीवास्तव, नितिन कुमार, दीपक कुमार गौर उर्फ ​​गुंजन, बृजेश पांडे, शत्रुघ्न प्रजापति और विमल पांडे के रूप में हुई है। सभी आरोपी अयोध्या जिले के रहने वाले हैं। एसएसपी शैलेश कुमार पांडेय ने कहा कि इस मामले में सात आरोपियों को गिरफ्तार किया गया है जबकि चार आरोपी अभी फरार हैं, जिनको जल्द ही गिरफ्तार कर लिया जाएगा। उन्होंने कहा, “गिरफ्तार किए गए लोगों से पूछताछ के दौरान सामने आया कि वे शहर के सौहार्दपूर्ण माहौल को खराब करना चाहते थे।”

एसएसपी ने कहा कि कानून-व्यवस्था की स्थिति पूरी तरह से नियंत्रण में है और शहर में कोई भी अप्रिय घटना नहीं हुई है। पुलिस के मुताबिक, तीन मस्जिदों-तातशाह जामा मस्जिद, मस्जिद घोसियाना और कश्मीरी मोहल्ला मस्जिद के बाहर आपत्तिजनक वस्तुएं फेंकी गईं। इसके अलावा, कोतवाली थाना अंतर्गत गुलाब शाह बाबा के दरगाह पर भी आपत्तिजनक वस्तुएं फेंकी गई थीं।

पुलिस ने महेश को बताया मास्टरमाइंड

एसएसपी ने बताया, “महेश मिश्रा के साथ चार मोटरसाइकिलों पर कुल आठ लोगों ने मस्जिदों और दरगाह पर आपत्तिजनक पोस्टर और वस्तुएं फेंकी। जिन आपत्तिजनक वस्तुओं को उन्होंने फेंका था, उन्हें बरामद कर लिया गया है और उनके द्वारा इस्तेमाल किए गए वाहनों को जब्त कर लिया गया है।” एक बयान में अयोध्या पुलिस ने पूरे मामले में महेश मिश्रा को ‘मास्टरमाइंड’ बताया है।

बयान में कहा गया है कि जहांगीरपुरी हिंसा का बदला लेने के लिए, इसकी पूरी प्लानिंग महेश के घर पर की गई थी। आरोपी अपने साथ कुरान की प्रतियां और पोर्क लाए थे जिसे मस्जिदों के बाहर फेंककर फरार हो गए थे। आरोपियों के खिलाफ आईपीसी की धारा 295 और 295-ए के तहत मामला दर्ज किया गया है।

पढें उत्तर प्रदेश (Uttarpradesh News) खबरें, ताजा हिंदी समाचार (Latest Hindi News)के लिए डाउनलोड करें Hindi News App.

अपडेट