ताज़ा खबर
 

योगी सरकार के ‘गड्ढामुक्त सड़कों’ के दावों पर भड़का लोगों का गुस्सा, सड़क पर ‘बोया’ धान

सड़क के दोनों तरफ रहने वाले लोग इकट्ठे हुए और पानी में डूबी हुई सड़क पर फसल बो दी। जबकि सड़क पर ही एक बैनर लगा दिया गया। इस बैनर में मेरठ के सांसद राजेंद्र अग्रवाल और विधायक सत्यप्रकाश अग्रवाल की तस्वीरें लगी हुई हैं।

उत्‍तर प्रदेश के मुख्‍यमंत्री योगी आदित्‍यनाथ। (Photo : PTI)

यूपी के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ के प्रदेश में गड्ढा मुक्त सड़कों के दावे को मेरठ जिले के ग्रामीणों ने नकार दिया है। मेरठ में लोगों ने गुरुवार (23 अगस्त) को शहर की पानी से भरी हुई गड्ढेदार सड़क पर धान के पौधे लगा दिए। ये इलाका रोहता रोड क्षेत्र का ही हिस्सा है। इस सड़क के गड्ढे स्थानीय नागरिकों के लिए दुख का कारण बन चुके थे। मानसून में हुई भारी बरसात ने इस सड़क की स्थिति को और खराब कर दिया था।

टाइम्स आॅफ इंडिया की खबर के मुताबिक, गुरुवार को, सड़क के दोनों तरफ रहने वाले लोग इकट्ठे हुए और पानी में डूबी हुई सड़क पर फसल बो दी। जबकि सड़क पर ही एक बैनर लगा दिया गया। इस बैनर में मेरठ के सांसद राजेंद्र अग्रवाल और विधायक सत्यप्रकाश अग्रवाल की तस्वीरें लगी हुई हैं। बैनर में लिखा हुआ है,”हम तो हैं बड़े नाकारा, धान तुम्हारी, पानी हमारा। देखो ये है हमारा रोहता रोड पर सबका साथ, सबका विकास।”

सीएम योगी आदित्यनाथ ने पिछले साल अप्रैल में दावा किया था कि राज्य की सड़कें 15 जून तक गड्ढा मुक्त हो जाएंगी। रिपोर्ट के मुताबिक, जन कल्याण वेलफेयर सोसायटी के अध्यक्ष दुष्यंत रोहता ने कहा,”हमने कई बार स्थानीय विधायक और सांसद से शिकायत की है। लेकिन उन्होंने इस पर ध्यान नहीं दिया। मैं भाजपा का समर्थक हूं लेकिन मुझे उनके राज में ऐसे विकास की उम्मीद नहीं थी।

रिपोर्ट के मुताबिक, मेरठ के सांसद राजेंद्र अग्रवाल ने कहा, मैं रोहता रोड की समस्या से पूरी तरह वाकिफ हूं। नागरिकों को विरोध का पूरा हक है और मैं उसके खिलाफ कुछ भी कहना नहीं चाहता हूं। उन्होंने कहा, हालांकि मैंने रोड के लिए 20.65 करोड़ रुपये का प्रस्ताव पास कर दिया है। लेकिन कुछ विभागीय दिक्कतों के कारण इसे हरी झंडी नहीं मिली है। मैंने इस मामले के संबंध में डिप्टी सीएम केशव प्रसाद मौर्य को भी जानकारी दे दी है। मुझे उनकी तरफ से जल्दी ही समस्या के समाधान की उम्मीद है।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App