ताज़ा खबर
 

देश से घुसपैठियों को चुन-चुनकर निकालना है : अमित शाह

भाजपा अध्यक्ष अमित शाह ने रविवार को यहां मुगलसराय रेलवे स्टेशन का नामकरण पंडित दीनदयाल उपाध्याय के नाम पर किए जाने के मौके पर हुए कार्यक्रम में कहा कि भाजपा सरकार ने सुप्रीम कोर्ट के आदेश के तहत एनआरसी (राष्ट्रीय नागरिक पंजिका) बनाया।

Author , चंदौली, 5 अगस्त। | Updated: August 6, 2018 11:01 AM
शाह ने कांग्रेस से राष्ट्रीय पिछड़ा वर्ग आयोग को संवैधानिक दर्जा देने संबंधी संशोधन विधेयक पर भी अपना रुख स्पष्ट करने को कहा और पूछा कि क्या वह राज्यसभा में इस विधेयक को पारित कराने में मदद करेगी।

भाजपा अध्यक्ष अमित शाह ने रविवार को यहां मुगलसराय रेलवे स्टेशन का नामकरण पंडित दीनदयाल उपाध्याय के नाम पर किए जाने के मौके पर हुए कार्यक्रम में कहा कि भाजपा सरकार ने सुप्रीम कोर्ट के आदेश के तहत एनआरसी (राष्ट्रीय नागरिक पंजिका) बनाया। हमें देश से बांग्लादेशी घुसपैठियों को चुन-चुन कर निकालना है। उन्होंने कहा कि ममता बनर्जी और कांग्रेस कहती हैं कि एनआरसी नहीं होना चाहिए। मैं राहुल से पूछना चाहता हूं कि इस देश में एनआरसी होना चाहिए कि नहीं, लेकिन वे जवाब नहीं देते। आप सब बताइए कि बांग्लादेशी घुसपैठियों को निकालना चाहिए कि नहीं। उन्होंने सपा और बसपा पर निशाना साधते हुए कहा, ‘आज इस मुगलसराय की धरती से मैं सपा, बसपा और कांग्रेस से पूछना चाहता हूं कि आप घुसपैठियों को यहां रखना चाहते हो, या निकालना। यूपी की जनता का जवाब मुझे मालूम है, जवाब यह है कि एक भी घुसपैठिए को इस देश में नहीं रखना चाहिए।’

शाह ने कांग्रेस से राष्ट्रीय पिछड़ा वर्ग आयोग को संवैधानिक दर्जा देने संबंधी संशोधन विधेयक पर भी अपना रुख स्पष्ट करने को कहा और पूछा कि क्या वह राज्यसभा में इस विधेयक को पारित कराने में मदद करेगी। उन्होंने कहा कि भाजपा सरकार ने ओबीसी बिल को लोकसभा में पारित कराया है। यह बिल अब राज्यसभा में जाएगा। क्या (कांग्रेस अध्यक्ष) राहुल गांधी देश के सामने स्पष्ट करेंगे कि कांग्रेस ओबीसी विधेयक को राज्यसभा में पारित कराने में सहायता करेगी या नहीं। वहीं से तय हो जाएगा कि कांग्रेस पिछड़ों का कल्याण चाहती है कि नहीं। उन्होंने कहा, ‘मैं आश्वस्त करना चाहता हूं कि कांग्रेस समर्थन करे या ना करे, मगर सरकार पिछड़ा बिल पारित करके पिछड़े वर्ग के लोगों को सम्मान देने का काम करने जा रही है।’

शाह ने लोकसभा चुनाव से पहले एकजुटता का प्रयास कर रहे विपक्षी दलों को चुनौती देते हुए कहा कि आगामी चुनाव में भाजपा उत्तर प्रदेश में 73 से भी ज्यादा सीटें जीतेगी। उन्होंने विपक्ष की एकता के प्रयासों पर प्रहार करते हुए कहा कि आज पूरा विपक्ष देश भर में भ्रम फैला रहा है कि सपा, बसपा इकट्ठा होंगे तो उत्तर प्रदेश के चुनावी समीकरण पर क्या असर होगा। लेकिन सिर्फ बुआ (बसपा प्रमुख मायावती) और भतीजा (सपा अध्यक्ष अखिलेश यादव) ही नहीं, राहुल भी मिल जाएं तो भी हमारी 73 की जगह 74 सीटें होंगी, 72 नहीं होंगी। मैं उनको चुनौती देता हूं कि आ जाओ गंगा-यमुना के मैदानों में यहां भाजपा की जीत के अलावा और कुछ नहीं हो सकता।

भाजपा अध्यक्ष ने कहा कि आज भाजपा के हर कार्यकर्ता के लिए बहुत महत्त्वपूर्ण दिन है क्योंकि जिस स्थान पर पंडित उपाध्याय की ‘हत्या’ हुई थी, उस मुगलसराय स्टेशन का नाम उनके नाम से जोड़ने का महान कार्य अब संपन्न हुआ है। उन्होंने कहा कि वे वर्ष 2013 से उत्तर प्रदेश का लगातार दौरा कर रहे हैं। जब तक उत्तर प्रदेश में विकास नहीं होता, तब तक देश का विकास अधूरा रहेगा। प्रदेश में भी खासकर पूर्वांचल जब तक विकसित नहीं होता, देश का विकास नहीं हो सकता। आज मुझे कहते हुए खुशी है कि पूर्वांचल में पिछले 70 साल में जितना पैसा खर्च नहीं हुआ, मोदी सरकार ने चार साल में खर्च कर दिया। उन्होंने कहा कि जनता के आशीर्वाद से केंद्र में मोदी सरकार और राज्य में योगी सरकार बनी। मैं पार्टी अध्यक्ष होने के नाते विश्वास दिलाना चाहता हूं कि पांच साल बाद जब हम वोट लेने आएंगे तो उत्तर प्रदेश देश का नम्बर एक राज्य बन चुकेगा।

रेल मंत्री पीयूष गोयल ने इस मौके पर कहा कि ‘एकात्म मानववाद’ का विचार देने वाले पंडित दीनदयाल उपाध्याय को याद करते हुए उनसे प्रधानमंत्री मोदी की तुलना की। रेल राज्यमंत्री मनोज सिन्हा ने कहा कि पिछले चार साल में पूरे उत्तर प्रदेश में एक से एक बड़े काम हुए हैं। पहले केंद्र से कोई बड़ी परियोजना अमेठी और रायबरेली तक ही पहुंचती थी। पिछले चार वर्षों में भारतीय रेल में जो काम मोदी के नेतृत्व में हुआ है, वह पिछले 40 वर्षों में नहीं हुआ। मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने इस मौके पर कहा कि देश प्रदेश में गरीबों, वंचित, महिलाओं, युवाओं के लिए जो भी लोक कल्याणकारी कार्य हो रहे हैं, उनके प्रेरणापुंज उपाध्याय ही हैं।

रुख साफ करे कांग्रेस

राष्ट्रीय पिछड़ा वर्ग आयोग को संवैधानिक दर्जा देने संबंधी संशोधन विधेयक पर कांग्रेस अपना रुख स्पष्ट करे और बताए कि क्या वह राज्यसभा में इस विधेयक को पारित कराने में मदद करेगी या नहीं। इसी से तय हो जाएगा कि कांग्रेस पिछड़ों का कल्याण चाहती है कि नहीं।

जीतेगी भाजपा ही

आज पूरा विपक्ष भ्रम फैला रहा है कि सपा, बसपा इकट्ठा होंगे तो उत्तर प्रदेश के चुनावी समीकरण पर क्या असर होगा। लेकिन बुआ (बसपा प्रमुख मायावती) और भतीजा (सपा अध्यक्ष अखिलेश) ही नहीं राहुल भी मिल जाएं तो भी हमारी 73 की जगह 74 सीटें होंगी, 72 नहीं।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ लिंक्डइन पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

Next Stories
1 दलित मंत्री के बाद ओबीसी मंत्री ने बढ़ाई बीजेपी की परेशानी, मोदी सरकार से मांगा 54% आरक्षण
2 अमित शाह को बताया था हत्‍यारा, राहुल गांधी के खिलाफ मानहानि का केस
3 यूपी: गुटखा नहीं दिया तो दलित को आग लगा दी, 20 फीसदी झुलसा, पुलिस बोली- खुद आग लगाई