ताज़ा खबर
 

आगरा: CM योगी आदित्य नाथ का हॉस्पिटल दौरा, कमरों में बंद किए मरीज, जेल में डालने की धमकी भी दी!

एसएनएमसी के प्रिंसिपल सरोज सिंह ने सभी आरोपों को बेबुनियाद बताया है। उन्होंने कहा कि मरीनों के साथ इस तरह के बर्ताव के लिए किसी को कोई निर्देश नहीं दिया गया।

कर्नाटक दौरा छोड़ मुख्यमंत्री योगी आदित्य नाथ तूफान में घायल लोगों से हॉस्पिटल में मुलाकात के लिए पहुंचे थे। (फोटो सोर्स एएनआई)

उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्य नाथ के दौरे से करीब 45 मिनट पहले आगरा शहर के एसएन मेडिकल कॉलेज के मरीजों और उनके परिजनों को कथित तौर पर कमरों और गलियारों में बंद कर दिया गया। योगी आदित्य नाथ शनिवार (5 मई, 2018) सुबह राज्य में बारिश और तूफानी आंधी में घायल लोगों से मिलने हॉस्पिटल पहुंचे थे। मामले में मरीजों ने बताया कि हॉस्पिटल के स्टाफ ने उन्हें धमकी दी कि वो अपना मुंह बंद रखें और सीएम से बात ना करें। फतेहाबाद के किसान वीरेंद्र सिंह ने बताया, ‘मेरी पत्नी किडनी की परेशानी के चलते हॉस्पिटल में भर्ती है। मैं बहुत खुश जब पता चला की मुख्यमंत्री हॉस्पिटल आ रहे हैं। मैं उनसे मिलकर कहना चाहता था की वो पत्नी के इलाज में मदद करें। मगर उनके आने से पहले ही हॉस्पिटल के दो कर्मचारियों ने अन्य मरीजों के साथ मुझे एक कमरे में बंद कर दिया। मैंने उनसे कहा भी कि हम मुख्यमंत्री से मुलाकात करना चाहता हैं। इसके जवाब में मुझसे कहा गया कि मुख्यमंत्री से मिलने की कोशिश भी की तो जेल डाल देंगे।’

HOT DEALS
  • Samsung Galaxy J6 2018 32GB Gold
    ₹ 12990 MRP ₹ 14990 -13%
    ₹0 Cashback
  • Honor 9 Lite 64GB Glacier Grey
    ₹ 16999 MRP ₹ 17999 -6%
    ₹2000 Cashback

हॉस्पिटल की ही एक अन्य महिला शिवानी मित्तल ने बताया, ‘मेरे पति पिछले कुछ सालों से हॉस्पिटल में भर्ती हैं। मुझे हॉस्पिटल के गलियारे में करीब 45 मिनट तक बंद रखा गया। जब हमने इस तरह के बर्ताव का कारण पूछा तो मारपीट की धमकी दी गई। कहा गया कि बाहर आने की कोशिश की छड़ी से पीटा जाएगा।’ एक अन्य शख्स पप्पू कुमार ने बताया, ‘मुख्यमंत्री आगमन के तीस मिनट पहले मुझे बंद कर दिया गया। मेरे बहनोई का हॉस्पिल में इलाज चल रहा है। मैं सीएस से मिलकर हॉस्पिटल की खराब व्यवस्था के बारे में उन्हें बताना चाहता था, लेकिन मुझे मिलना नहीं दिया गया। हॉस्पिटल के कर्मचारियों ने हमारे साथ बुरा बर्ताव किया।’ हालांकि एसएनएमसी के प्रिंसिपल सरोज सिंह ने सभी आरोपों को बेबुनियाद बताया है। उन्होंने कहा कि मरीनों के साथ इस तरह के बर्ताव के लिए किसी को कोई निर्देश नहीं दिया गया। सुरक्षा कारणों की वजह से कुछ इंतजाम जरूर किए गए होंगे।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App