ताज़ा खबर
 

राम की मूर्ति के बाद अब ‘नया अयोध्या’ बसाएंगे योगी आदित्यनाथ, 500 एकड़ में 3.5 अरब में बनेगी टाउनशिप

टाउनशिप निर्माण की शुरुआती सहमति हाल में कमिश्नर और जिलाधिकारी की बैठक में मिल गई थी। अब प्रस्ताव को प्राधिकरण के पास भेजा जाना है, जिसमें 13 अप्रैल को होने वाली बैठक में इस पर फैसला लिया जा सकता है।

उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ (एक्सप्रेस आर्काइव फोटो)

उत्तर प्रदेश की योगी आदित्यनाथ सरकार अयोध्या में भगवान राम की 100 मीटर ऊंची प्रतिमा को मंजूरी देने के बाद अब ‘नया अयोध्या’ टाउनशिप बसाने की तैयारियों में जुट गई है। योजना के अनुसार, टाउनशिप करीब 500 एकड़ में फैली होगी, जिसके निर्माण में 350 करोड़ रुपए खर्च होने का अनुमान लगाया गया है। एक वेबसाइट की खबर के अनुसार, राज्य सरकार ने अनौपचारिक रूप से इसका काम भी शुरू कर दिया है, लेकिन जरूरी स्तर पर मंजूरी मिलने के बाद सरकार के पास इसका प्रस्ताव भेजा जाएगा। खबर है कि अयोध्या-फैजाबाद विकास प्राधिकरण से मंजूरी मिलने के बाद सरकार की इस योजना को हरी झंडी मिल जाएगी। प्राधिकरण के एग्जीक्यूटिव इंजीनियर मनोज कुमार मिश्रा बताते हैं कि टाउनशिप निर्माण की शुरुआती सहमति हाल में कमिश्नर और जिलाधिकारी की बैठक में मिल गई थी। अब प्रस्ताव को प्राधिकरण के पास भेजा जाना है, जिसमें 13 अप्रैल को होने वाली बैठक में इस पर फैसला लिया जा सकता है। इस फैसले के बाद प्रस्ताव को राज्य सरकार के पास भेजा जाएगा।

कैसा होगा नया अयोध्या-

नए अयोध्या को सरयू नदी के दाईं तरफ 500 एकड़ के दायरे में बसाया जाएगा। निर्माण कार्य कई चरणों में होगा। पहले चरण में 100 एकड़ के दायरे में निर्माण होगा, जिसमें एक अरब रुपए से अधिक खर्च होने की बात कही गई है। इस खर्च में जमीन की 70 करोड़ रुपए की कीमत भी शामिल है। पहले चरण का काम 12 से 18 महीने में पूरा होने की बात कही गई है। इस महत्वाकांक्षी योजना के लिए लोन लेने की भी योजना बनाई जा रही है।

प्रस्ताव के अनुसार, नए अयोध्या का निर्माण लखनऊ-गोरखपुर राजमार्ग के पास माझा बरहटा और जयसिंह मऊ गांवों के पास किया जाएगा। इसमें रिहायशी क्षेत्र के अलावा मंदिर, सार्वजनिक पार्क, लग्जरी होटल, शॉपिंग आर्केड के अलावा पीने के पानी और सीवेज की विश्व स्तरीय सुविधा होगी।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App