scorecardresearch

आदित्य ठाकरे की अयोध्या यात्रा: हनुमान गढ़ी के महंत बोले- कालनेमी से सावधान, भोंपू बजाकर राजनीति करने आ रहे हैं, राणा दंपति ने भी कसा तंज

यूपीः शिवसेना ने महाराष्ट्र से अयोध्या के लिए दो ट्रेन बुक कराई हैं। हर एक में 17 सौ से 18 सौ वर्कर अयोध्या के लिए रवाना हुए हैं। इसके अलावा लोग बसों से भी आ रहे हैं। कुल 8 हजार लोग मुंबई और थाने से अयोध्या आ रहे हैं।

uddhav thackeray, aditya thackeray, bmc
महाराष्ट्र के सीएम उद्धव ठाकरे और मंत्री आदित्य ठाकरे (Express photo by Ganesh Shirsekar/File)

बीजेपी और शिवसेना के बीच की तल्खी के बीच ठाकरे परिवार का अयोध्या दौरा वहां के कुछ साधू संतों को भी रास नहीं आ रहा है। हनुमानगढ़ी के महंत राजू दास ने महाराष्ट्र मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे के बेटे आदित्य ठाकरे के अयोध्या दौरे का विरोध किया है। राजू दास ने आदित्य ठाकरे के दौरे को राजनीतिक बताते हुए कालनेमी तक कह डाला। शिवसेना के कैबिनेट मंत्री का विरोध करते हुए महंत राजू दास ने कहा कि उद्धव सरकार तोहनुमान चालीसा पढ़ने के वालों को भी जेल भेज देती है।

राजू दास ने कहा कि आदित्य ठाकरे अयोध्या आकर क्या संदेश देना चाहते हैं। शिवसेना के सांसद संजय रावत पर तीखा हमला बोलते हुए उन्होंने कहा कि कल अयोध्या में सरयू के तट पर आरती हो रही थी। संजय राउत न आरती में शामिल हुए और ना ही आरती का प्रसाद लिया। ऐसे लोगों से सावधान रहने की जरूरत है। राजू दास ने कहा कि आदित्य ठाकरे आम भक्त के रूप में आए तो फूलों से स्वागत है लेकिन राजनीतिक उद्देश्य आ रहे हैं इस वजह से उनका विरोध किया जाएगा।

हनुमानगढ़ी के महंत ने कहा कि घड़ियाली आंसू बहाने से कोई फायदा नहीं है हिंदू सजग और सतर्क हो चुका है। उनका सवाल था कि शिवसेना कह रही थी कि आदित्य का दौरा राजनीतिक नहीं है तो फिर अयोध्या में ये तामझाम क्यों। राजू दास ने कहा कि अयोध्या सबकी है। लेकिन भोपू बजाकर और पोस्टर लगाकर क्या राजनीतिक संदेश दिया जा रहा है।

उधर, सांसद नवनीत राणा और रवि राणा भी आदित्य के अयोध्या दौरे पर मुखर हैं। उनका सवाल है कि ये ड्रामा उद्धव ठाकरे और उनके बेटे क्यों कर रहे हैं। उनकी सरकार तो हनुमान चालीसा पढ़ने को भी राष्ट्रद्रोह मानती है तो अयोध्या जाकर राजनीतिक रोटियां सेंकने काक्या मतलब है। उनका कहना है कि ठाकरे परिवार केवल ड्रामेबाजी कर रहा है।

एक रिपोर्ट के अनुसार शिवसेना ने महाराष्ट्र से अयोध्या के लिए दो ट्रेन बुक कराई हैं। हर एक में 17 सौ से 18 सौ वर्कर अयोध्या के लिए रवाना हुए हैं। इसके अलावा लोग बसों से भी आ रहे हैं। कुल 8 हजार लोग मुंबई और थाने से अयोध्या आ रहे हैं। माना जा रहा है कि शिवसेना हिंदुत्व वोटों पर पकड़ के साथ आदित्य ठाकरे को उत्तराधिकारी के तौर पर भी पेश करना चाहती है। उनका अयोध्या दौरा इसकी बानगी भर है।

पढें उत्तर प्रदेश (Uttarpradesh News) खबरें, ताजा हिंदी समाचार (Latest Hindi News)के लिए डाउनलोड करें Hindi News App.

अपडेट