ताज़ा खबर
 

पापा की मौत का सदमा नहीं कर पाई बर्दाश्त, 6 दिन बाद 22 वर्षीय युवती ने उसी जगह की खुदकुशी जहां पिता ने दी थी जान

राहुल ने बताया कि मेघा के पिता दिल्ली के करोल बाघ में जूते-चप्पलों की दुकान चलाते थे, और मेघा चार्टर्ड अकाउंट की पढ़ाई कर रही थी।

Author गाज़ियाबाद | May 12, 2017 10:48 am
इस तस्वीर का इस्तेमाल केवल प्रतीक के तौर पर किया गया है।

दिल्ली से सटे गाजियाबाद में एक बहुत ही दर्दनाक घटना सामने आई है। 6 दिन पहले एक व्यक्ति ने ट्रेन के आगे कूदकर अपनी जान दे दी थी और अब गुरुवार को उसी घटनास्थल पर उस व्यक्ति की बेटी ने खुदकुशी कर ली। मृत लड़की के कजिन भाई राहुल के अनुसार मेघा के पिता और मां का किसी बात को लेकर झगड़ा हुआ था। इस झगड़े में मेघा की मां को गंभीर चोंटे आई थी। मेघा के पिता अशोक को लगता था कि उसकी बीवी की चोट कभी ठीक नहीं हो पाएंगी, जिसके पछतावे में अशोक ने 5 मई को एएलटी फ्लाएओवर स्थित रेलवे ट्रेक पर ट्रेन के सामने कूदकर अपनी जान दे दी। राहुल ने बताया कि गुरुवार को मेघा घर से चली गई और करीब डेढ़ घंटे के बाद उसका शव उसी स्थान पर मिला जहां पर उसके पिता ने आत्महत्या की थी।

राहुल ने कहा कि पिता की मौत के बाद मेघा काफी परेशान रहती थी। घटना वाले दिन वह घर से निकली लेकिन जब वह काफी देर तक वापस नहीं आई तो मुझे लगा कि कहीं वह अपने पिता की तरह खुदकुशी तो नहीं करने चली गई। मैं उसे ढूंढता हुआ उसी स्थान पर पहुंचा जहां उसके पिता ने खुदकुशी की थी। वहां पहुंचा तो देखा कि मेघा रेलवे ट्रेक के पास मृत पड़ी थी। राहुल ने बताया कि मेघा के पिता दिल्ली के करोल बाघ में जूते-चप्पलों की दुकान चलाते थे और मेघा चार्टर्ड अकाउंट की पढ़ाई कर रही थी।

इस घटना की सूचना पाते ही पुलिस मौके पर पहुंची और शव को अपने कब्जे में ले लिया। एक पुलिस अधिकारी द्वारा दी गई जानकारी के अनुसार पुलिस मेघा के शव का पोस्टमार्टम कराना चाहती थी लेकिन उसके परिजनों ने मना कर दिया। मेघा के शरीर पर पहले से काफी गहरे जख्म थे इसलिए उसके परिजन नहीं चाहते थे कि उसका पोस्टमार्टम या किसी भी प्रकारी की कानूनी कार्रवाई हो। पुलिस अधिकारी ने कहा कि हम उन्हें तभी शव को ले जाने देंगे जब वो हमें लिखित में देंगे कि वे अपनी स्वेच्छा से शव को पोस्टमार्टम नहीं कराना चाहते। इस मामले पर बात करते हुए पुलिस अधिकारी ने कहा कि अशोक और मेघा की मौत के बाद उसका पूरा परिवार मानसिक तनाव से गुजर रहा है। अशोक के परिवार में अब बीमार बीवी और दो बेटे हैं।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App