ताज़ा खबर
 

उत्तर प्रदेश: सूखे 20 हजार तालाब, 50 हजार कुएं

सिंचाई विभाग के आंकड़ों के मुताबिक सिर्फ 30 बरस में राज्य के 20000 तालाब और 50000 हजार कुएं या तो सूख गए या पाट दिए गए हैं।
Author लखनऊ | May 25, 2017 04:24 am
आंध्र प्रदेश में जिला अधिकारियों ने पीने का पानी और छाछ वितरित कराना शुरू किया है जिससे गर्मी के प्रभाव को कम किया जा सके। साथ ही लोगों को यह राय दी गई है कि दिन में 11 से 4 के बीच अपने घरों से न निकलें। आंध्र प्रदेश की राजधानी हैदराबाद में गर्मी से राहत लेने तालाब में नहाने जाता युवक। (Photo: AP)

रहिमन पानी राखिये, बिन पानी सब सून। रहीम ने जिस दौर में यह दोहा लिखा होगा, उस वक्त उन्हें शायद ही इस बात का इल्म हो कि पानी कुछ इलाकों में सूख हलक भी तर कर पाने के लिए मयस्सर नहीं होगा। आज उत्तर प्रदेश का यही हाल हो रहा है। यहां भूजल तेजी से गिर रहा है। उसकी सबसे बड़ी वजह पानी का बेतहाशा दोहन तो है ही, वे तालाब और कुएं भी हैं जिनपर बढ़ती आबादी को छत मयस्सर कराने के लिए कंकरीट के जंगल तान दिए गए। सिंचाई विभाग के आंकड़ों के मुताबिक सिर्फ 30 बरस में राज्य के 20000 तालाब और 50000 हजार कुएं या तो सूख गए या पाट दिए गए हैं।

उत्तर प्रदेश में भूगर्भ जल का संकट गहराता जा रहा है। पूरा बुन्देलखण्ड और उससे आगे विन्ध्य पर्वतमाला का पूरा इलाका पानी की बेतहाशा कमी का शिकार है। पहाड़ों की बेतहाशा कटाई के कारण उससे रिसकर भूमि तक पहुंचने वाले जल की धार भी खासी प्रभावित हुई है। यह वह जल है जो वर्षा के दौरान भूमि में समाहित होता था। डा. वीके जोशी कहते हैं, जब तक सरकार नदियों के किनारे खनन से सख्ती से निपटने की इच्छा शक्ति नहीं दिखाएगी, भूगर्भ जल के संचयन के सारे प्रयास बेमानी साबित होंगे।  नए पौधे रोपकर इस दिशा में सरकार को गंभीर प्रयास करने होंगे। बिना ऐसा हुए भूगर्भ जल का संचयन कर पाना बेहद कठिन है।

 

 

 

टॉप 5 हेडलाइंस: मीसा भारती गिरफ्तार,सहारनपुर में फिर हिंसा और भी खबरें

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

  1. No Comments.