ताज़ा खबर
 

ये हैं यूपी में मीट शॉप चलाने के लिए 17 नियम, कई जगह से लेनी होगी एनओसी

सरकार का कहना है कि ये कोई नए नियम नहीं है बल्कि पहले की ही गाइडलाइंस है जिन्हें दोबारा जारी किया गया है।

इलाहाबाद में मीट दुकानदार एक दुकान के अंदर बैठे हुए। REUTERS/Jitendra Prakash

उत्तर प्रदेश में मीट कारोबारियों पर योगी सरकार की सख्ती बरकरार है। यूपी के सीएम योगी आदित्यनाथ से मुकालात के बाद मीट कारोबारियों ने हड़ताल भले ही वापस ले ली हो लेकिन इस संबंध में उन्हें कई नए नियम जारी किए गए हैं। मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक इनमें मंदिर या सब्जी बाजार के पास मीट की दुकान न होने के दिशानिर्देश समेत करीब 17 नियम हैं। सरकार का कहना है कि ये कोई नए नियम नहीं है बल्कि पहले की ही गाइडलाइंस है जिन्हें दोबारा जारी किया गया है। मीट कारोबारियों का मानना है कि ये नियम परेशान करने वाले हैं। इन नियमों से तंग आकर कई मीट विक्रेताओं ने अपनी दुकानें हमेशा के लिए बंद करने का फैसला लिया है। उनका मानना है कि ऐसी सख्ती में मीट बेचना बहुत मुश्किल होगा। गौरतलब है कि उत्तर प्रदेश के मीट कारोबारी सोमवार से हड़ताल पर थे। सीएम योगी से मुलाकात के बाद उन्होंने शनिवार को हड़ताल वापस लेने का फैसला किया था।

ये हैं मीट बिक्री को लेकर सरकार के कुछ नए नियम
1- मीट की दुकान किसी भी धार्मिक जगह से पचास मीटर के दायरे में नहीं होनी चाहिए।
2- सब्जी बाजार के पास भी कोई मीट शॉप नहीं होनी चाहिए।
3- दुकानों के बाहर पर्दे या गहरे रंग के ग्लास की भी व्यवस्था हो ताकि जनता को नजर न आए।
4- मीट शॉप में काम करने वालों के पास हेल्थ सर्टिफिकेट होना चाहिए।
5- शहरी क्षेत्रों में नगर निगम का नो ऑब्जेक्शन सर्टिफिकेट होना चाहिए। इसके अलावा फूड सेफ्टी और ड्रग एडमिनिस्ट्रेशन की एनओसी भी होनी चाहिए।
6- ग्रामीण इलाकों में ग्राम पंचायत, सर्किल ऑफिस और फूड सेफ्टी विभाग से एनओसी होनी चाहिए।
7- चाकू, छूरी या किसी भी प्रकार के औजार स्टील के बने होने चाहिए।
8- किसी बीमार, गर्भधारित पशु को नहीं काटा जाएगा। बूचड़खाना परिसर की नियमित साफ-सफाई करनी होगी।
9- बूचड़खाने से मीट को सिर्फ फ्रीजर में रखकर ही ट्रांसपोर्ट किया जाए।
10- बूचड़खानों में गीजर लगा होना चाहिए।
11- दुकानदार जानवरों या पक्षियों को दुकान के अंदर नहीं काट सकते।
12- मीट की क्वॉलिटी को किसी पशु डॉक्टर से प्रमाणित कराना होगा।
13- मीट के दुकानदारों को हर छह महीने पर अपनी दुकान की सफेदी करानी होगी।
14- उनके चाकू और दूसरे धारदार हथियार स्टील के बने होने चाहिए।
15- मीट की दुकानों में कूड़े के निपटारे के लिए समुचित व्यवस्था होनी चाहिए।
16- बूचड़खानों से खरीदे जाने वाले मीट का पूरा हिसाब-किताब भी रखना होगा।
17- एफएसडीए के किसी मानक का उल्लंघन होते ही लाइसेंस तुरंत रद्द कर दिया जाएगा।

उत्तर प्रदेश के बाद 4 और राज्यों में बंद हुए अवैध बूचड़खाने और मीट की दुकानें, देखें वीडियो

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App