ताज़ा खबर
 

यूपी: नींद में महिला को सांप ने काटा, स्तनपान कराया तो बच्ची की भी हुई मौत

सांप के काटने के कुछ देर बाद ही मां और बेटी की तबीयत बिगड़ गई। जिसके बाद परिजन दोनों को लेकर अस्पताल पहुंचे। लेकिन अस्पताल पहुंचने से पहले ही महिला और बच्ची ने दम तोड़ दिया।

सांप के काटने से महिला और बच्ची की मौत। (image source-Facebbok)

उत्तर प्रदेश में एक ऐसा मामला सामने आया है, जहां एक महिला को नींद में सांप ने काट लिया, जिससे उसकी मौत हो गई। हैरानी की बात है कि महिला ने मरने से पहले अपनी बेटी को स्तनपान कराया, जिससे बच्ची की भी मौत हो गई। फिलहाल पुलिस ने इस संबंध में दुर्घटनावश मौत का मामला दर्ज कर लिया है। खबर के अनुसार, महिला अपने घर में सो रही थी, तभी एक सांप ने महिला को काट लिया। लेकिन महिला को इस बात का पता नहीं चला। नींद से जागने के बाद महिला ने अपनी बच्ची को स्तनपान कराया। लेकिन कुछ देर बाद ही मां और बेटी की तबीयत बिगड़ गई। जिसके बाद परिजन दोनों को लेकर अस्पताल पहुंचे। लेकिन अस्पताल पहुंचने से पहले ही महिला और बच्ची ने दम तोड़ दिया।

बता दें कि परिजनों ने घर के दूसरे कमरे में सांप को देख लिया था, लेकिन सांप भागने में सफल हो गया। पुलिस ने शव को पोस्टमार्टम के लिए भेज दिया है। वहीं त्रिपुरा में भी मुख्यमंत्री बिप्लब देब की सुरक्षा में लगे पुलिसकर्मी को एक सांप द्वारा काटने की खबर है। बताया जा रहा है कि सीएम की सुरक्षा में लगा पुलिसकर्मी होटल के स्टोररुम में आराम कर रहा था, तभी एक रसेल वाइपर सांप ने उसे डस लिया। पुलिस कर्मी ने तुरंत अलार्म बजाकर लोगों को सूचित किया, जिसके बाद उसे अस्पताल ले जाया गया।

फिलहाल पुलिसकर्मी की हालत स्थिर बतायी जा रही है। सांप के जहर का असर पीड़ित की किडनी पर ज्यादा होता है। ऐसे में देखा जा रहा है कि पुलिसकर्मी की किडनी पर तो असर नहीं हुआ है, लेकिन 24 घंटे बाद ही किडनी के सही या खराब होने का पता चल सकेगा। बता दें कि भारत में सांपों की करीब 300 प्रजातियां पायी जाती हैं, जिनमें से 60 बेहद जहरीली मानी जाती हैं। इन जहरीली प्रजातियों में कोबरा, रसेल वाइपर आदि प्रमुख हैं। दुनिया में हर साल करीब 1 लाख लोगों की मौत सांप के काटने से हो जाती है, जिनमें से 46000 अकेले भारत में दर्ज की जाती हैं।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App