ताज़ा खबर
 

योगी आदित्यनाथ सरकार के मंत्री ने बाढ़ रोकने के लिए सिंचाई विभाग को दिए नियमित पूजा के निर्देश, ट्रोल

सिंह इस सलाह देने के चलते सोशल मीडिया पर बुरी तरह ट्रोल कर दिए गए।

MahendraSingh, BJP, UP, State Newsयूपी के जल संसाधन मंत्री महेंद्र सिंह। (फाइल फोटोः fb/BjpDrMahendraSingh)

यूपी में सीएम योगी आदित्यनाथ के नेतृत्व वाली BJP सरकार में जल संसाधन मंत्री महेंद्र सिंह ने बाढ़ रोकने के लिए सिंचाई विभाग को उन नदियों की नियमित पूजा करने के निर्देश दिए हैं, जहां जल स्तर बारिश के चलते हाल-फिलहाल में काफी बढ़ा है। रविवार को सूबे में बाढ़ को लेकर ऐहतियाती कदम की समीक्षा से जुड़ी एक मीटिंग के दौरान वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के जरिए उन्होंने विभाग के फील्ड स्टाफ को संबोधित किया और यह निर्देश दिया। बैठक के बाद मंत्री के इस निर्देश से जुड़ा एक प्रेस नोट भी जारी किया गया।

मंत्री के प्रवक्ता ने अंग्रेजी अखबार Times of India को बताया, “मंत्री जी ने फील्ड स्टाफ से नदियों की पूजा करने और उन्हें फूल अर्पित करने के निर्देश दिए हैं। ऐसा नदियों के आसपास रहने वाले ग्रामीण भी लंबे समय से करते आ रहे हैं। यह कोई नई परंपरा नहीं है। हिंदू, नदियों को देवी के तौर पर मानते हैं और उनकी पूजा करते हैं। बाढ़ का काबू करने के लिए भी फील्ड स्टाफ को भी ऐसा (ग्रामीणों/लोगों की तरह पूजा) ही करना चाहिए।”

मंत्री ने स्टाफ से इसके अलावा फील्ड स्टाफ से यह भी कहा कि वह बाढ़ग्रस्त क्षेत्रों के फोटो-वीडियो भेजने के अलावा जमीनी स्थिति और किसी आपात स्थिति को लेकर सिक्योरिटी गार्ड्स की तैनाती के बारे में मुख्यालय को जानकारी दें।

दरअसल, पिछले हफ्ते सूबे में लगातार बारिश के कारण कई नदियों का जल स्तर काफी बढ़ गया था। इसी बीच, मौसम विभाग ने राज्य में भारी वर्षा की संभावना जताई थी। खासकर 10-12 जुलाई के बीच पूर्वी यूपी में, जिससे कई निचले इलाकों में बाढ़ और जलभराव की स्थिति की आशंका भी जताई गई थी।

Central Water Commission ने अनुमान लगाते हुए कहा था कि घागरा नदी का जल स्तर बढ़ जाने के कारण बाराबंकी और फैजाबाद में बाढ़ सरीखी स्थिति पनप सकती है। बता दें कि नौ जुलाई को इस नदी का पानी 52.73 सेंटिमीटर के वॉर्निंग लेवल मार्क पर पहुंच गया था, जबकि कि पिछले साल करीब 100 लोगों की जान सिर्फ उत्तर प्रदेश में बाढ़ के कारण चली गई थी।

हालांकि, इस सलाह को लेकर योगी के मंत्री सोशल मीडिया पर बुरी तरह ट्रोल भी हुए। @AlkaJacob ने कहा- पेशेवर लोगों और NDRF से सलाह-मशविरे के बजाय BJP जो रही है, उससे ढेर सारी पूजा सामग्री नदियों में फेंकी जाएगी। ये चीज एक और समस्या की वजह बनेगी। जब बाढ़ आती है, तभी ये लोग सोकर जागते हैं। यही चीज इन्होंने कोरोना वायरस संकट से भी निपटने में शुरुआत में की थी।

@hardwired112 के हैंडल से ट्वीट किया गया, “अंधभक्तों की समझ नहीं आ रहा, क्या जवाब दें।” @ni_sha_23 ने ट्वीट किया, “हाहाहा! ये और सुझाव भी क्या दे सकते हैं, जब इनके पास कोई ज्ञान और अनुभव है ही नहीं?”

Hindi News के लिए हमारे साथ फेसबुक, ट्विटर, लिंक्डइन, टेलीग्राम पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News AppOnline game में रुचि है तो यहां क्‍लिक कर सकते हैं।

Next Stories
1 राजस्थान, दिल्ली और महाराष्ट्र में कई स्थानों पर आयकर विभाग ने मारा छापा, सीएम गहलोत के करीबी नेता भी शामिल
2 पश्चिम बंगालः फंदे पर झूलती मिली भाजपा विधायक की डेड बॉडी, लोगों ने जताई हत्या की आशंका
3 Bihar, Jharkhand Coronavirus: देश में सबसे पहले पटना एम्स में हुआ कोरोना वैक्सिन का ह्यूमन ट्रायल, 30 साल के युवक को दिया गया हाफ एमएल डोज
ये पढ़ा क्या?
X