ताज़ा खबर
 

नेशनल हाइवे के बीचो-बीच लगा है आम का पेड़, सपा विधायक का तंज- विकास पैदा हो गया

उन्होंने कहा है कि राज्य में विकास तो हुआ, मगर हाईवे के बीच में। सपा विधायक ने ऐसा कर वन विभाग और कंस्ट्रक्शन कंपनी के बीच चल रहे आरोप-प्रत्यारोप का मामला भी उठाया।

तस्वीर का इस्तेमाल सिर्फ प्रस्तुतिकरण के लिए किया गया है। (फोटोः Freepik)

उत्तर प्रदेश में नेशनल हाईवे (एनएच) के बीचो-बीच एक आम का पेड़ लगा है। समाजवादी पार्टी (सपा) के विधायक शशांक यादव ने इसी को लेकर राज्य की योगी आदित्यनाथ सरकार पर तंज कसा है। उन्होंने कहा है कि राज्य में विकास तो हुआ, मगर हाईवे के बीच में। सपा विधायक ने ऐसा कर वन विभाग और कंस्ट्रक्शन कंपनी के बीच चल रहे आरोप-प्रत्यारोप का मामला भी उठाया।

मंगलवार (तीन जुलाई) रात उन्होंने फेसबुक पर इस बाबत पोस्ट किया। हाईवे के बीच लगे पेड़ की तस्वीर साझा करते हुए उन्होंने कैप्शन दिया, “विकास पैदा हुआ, मगर एनएच 24 पर मैगालगंज के पास।”

यादव मूल रूप से सूबे के सबसे बड़े जिले लखीमपुर खीरी के रहने वाले हैं। उन्होंने बताया कि उन्होंने हाईवे के बीच लगे पेड़ की तस्वीर इसलिए शेयर की, ताकि अधिकारियों के साथ निजी कंस्ट्रक्शन कंपनी की अनदेखी को उजागर किया जा सके।

एक अंग्रेजी अखबार से बातचीत के दौरान उन्होंने कहा, “नेशनल हाईवे से गुजरने के दौरान, मैं सड़क के बीचो-बीच उस आम के पेड़ को देखकर हैरान रह गया था। रात के वक्त यह लोगों के लिए बड़ी मुश्किल बन सकता है और सड़क हादसों को अंजाम दे सकता है।”

उनका कहना है कि इलाके के सभी सांसद और विधायक सत्तारूढ़ पार्टी से हैं, लेकिन उन्हें इसके बारे में अभी तक पता भी नहीं है। यह दर्शाता है कि संबंधित विभागों और उनके अधिकारियों के बीच आपसी सामंजस्य की कितनी कमी है।

रिपोर्ट्स के अनुसार, सीतापुर से बरेली के बीच 157 किलोमीटर लंबे इस हाईवे को बनाने का काम एरा इंफ्रा इंजीनियरिंग लिमिडेट नाम की कंपनी को सौंपा गया था। लेकिन उसके अधिकारी पेड़ के मसले पर वन विभाग को जिम्मेदार ठहराते हैं। उनका कहना है कि विभाग ने उन्हें पेड़ हटाने की अनुमति नहीं दी।

एरा कंपनी में इस प्रोजेक्ट के प्रभारी अरुण चौधरी ने बताया कि जिस हिस्से में पेड़ लगा है, वह जमीन हरदोई प्रशासन के अंतर्गत आती है। जिला वनाधिकारी (दक्षिणी खीरी) समीर वर्मा ने बताया कि उन्हें अभी तक वैसा कोई पत्र मिला ही नहीं।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App