ताज़ा खबर
 

उत्तर प्रदेश: पुलिस इंस्पेक्टर ने पूरे स्कूल के सामने प्रिंसिपल से मांगी माफी, देखें VIDEO

एक बच्चे के एडमिशन के लिए प्रिंसिपल पर दबाव बनाया था और उन्हें धमकाया था। अपनी गलती पर पछतावा होने के बाद वह स्कूल पहुंचे।

प्रिंसिपल के साथ पुलिस इंस्पेक्टर। फोटो: Video Grab Image

उत्तर प्रदेश के लखनऊ स्थित बीकेटी इंटर कॉलेज में एक पुलिस इंस्पेक्टर ने बच्चों के सामने प्रिंसिपल से माफी मांगी। इंस्पेक्टर का नाम अमरनाथ वर्मा है। उन्होंने प्राथर्ना सभा के दौरान माफी मांगी। दरअसल उन्होंने एक बच्चे के एडमिशन के लिए प्रिंसिपल पर दबाव बनाया था और उन्हें धमकाया था। अपनी गलती पर पछतावा होने के बाद वह स्कूल पहुंचे।

उन्होंने माफी मांगते हुए कहा ‘मुझे आत्मगलानि हुई कि मैंने प्रिंसिपल से ऐसे बात क्यों की। मैं स्कूल पहुंचा तो उस समय वह असहज स्थिति क्यों पैदा हुई मुझे नहीं पता। मेरी पिता जी भी अध्यापक रहे हैं। वह भी स्कूल में प्रिंसिपल रह चुके हैं। जबकि मेरी पत्नी टीचर है। मुझे लगता है जब ग्रह-नक्षत्र खराब होते हैं तो अच्छे काम भी बुरे बन जाते हैं। मेरे पिता ने भी मुझे प्रिंसिपल साहब से माफी मांगने के लिए कहा जिसके बाद में प्रार्थना सभा में ही माफी मांगने आ गया।

वहीं इंस्पेक्टर के भरी महफिल में माफी मांगने पर प्रार्थना सभा में मौजूद प्रिंसिपल आर के तोमर ने कहा ‘इंस्पेक्टर साहब ने अपनी शैली और भाषा में अपनी बात रखी वह इसका आदर करते हैं। मुझे उम्मीद है उनकी देखरेख में संस्थान सुरक्षित रहेगा।’

दरअसल इंस्पेक्टर ने बीते दिनों एक छात्र के स्कूल में एडमिशन की गुहार लेकर प्रिंसिपल के पास पहुंचे थे। लेकिन सीट नहीं होने पर प्रिंसिपल ने उन्हें मना कर दिया। जिसके बाद अन्य इंस्पेक्टर ने उन्हें झूठे केस में फंसाने की धमकी दी। जिसके बाद मामले के तूल पकड़ते ही पुलिस के उच्च अधिकारियों को इस बात का पता चला और उन्होंने इंस्पेक्टर को प्रिंसिपल से माफी मांगने के लिए कहा।

Hindi News के लिए हमारे साथ फेसबुक, ट्विटर, लिंक्डइन, टेलीग्राम पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News AppOnline game में रुचि है तो यहां क्‍लिक कर सकते हैं।

Next Stories
1 World Cup 2019: सेमीफाइनल में टीम इंडिया की हार से फैन्स को लगा सदमा, 2 लोगों ने गंवा दी जान
2 UP: बकरीद पर रक्तदान कैंप तो शिवरात्रि पर जल संरक्षण का संदेश देगा RSS से जुड़ा यह संगठन
3 UP Police के चार दरोगा समेत 29 दागी पुलिसकर्मी जबरन किए गए सेवानिवृत्त, कानपुर शहर के सात सिपाही भी शामिल