ताज़ा खबर
 

कुंडली में ‘जेल योग’, हवालात जाकर दोष दूर कर रहे लोग

सिंह ने इसके बाद जिला प्रशासन के समक्ष आवेदन दिया, जिसके साथ उन्होंने कुंडली की फोटोकॉपी की प्रति लगाई। अर्जी पर उन्हें स्थानीय पुलिस थाने के लॉक-अप में एक दिन बिताने का मौका मिला।

तस्वीर का इस्तेमाल सिर्फ प्रस्तुतिकरण के लिए किया गया है। (फोटोः Pixabay)

जेल, जिसके नाम से दुनिया में अधिकतर लोग खौफ खाते हैं। उसी जगह अगर कोई समय बिताने की ख्वाहिश जताए और प्रशासन से अनुमित भी मांगे, तो…। पढ़ने-सुनने में यह भले ही थोड़ा अटपटा लगे, पर उत्तर प्रदेश की राजधानी लखनऊ में कथित तौर पर कुछ ऐसा ही देखने को मिला है। नवाबों के शहर में लोग हवालात में जाकर रात बिताने के लिए जिलाधिकारी दफ्तर में आवेदन देते हैं।

खास बात है कि वे ऐसा किसी के दबाव में आकर नहीं करते। बल्कि ये काम वे अपनी मर्जी से करते हैं, क्योंकि उन्हें अपनी कुंडली में बताए गए जेल योग के दोष को दूर करना होता है। टाइम्स ऑफ इंडिया के मुताबिक, मई महीने में गोमती नगर में रहने वाले कारोबारी रमेश सिंह (38) एक दिन का समय हवालात में बिता कर आए। उन्होंने यह काम किसी जुर्म या गलती के कारण नहीं, बल्कि अपनी कुंडली के उसी जेल योग के दोष से छुटकारा पाने के लिए किया।

अखबार को उन्होंने बताया, “मेरे परिवार के ज्योतिषी ने बताया था कि मेरी कुंडली में जेल योग है, जो कि मुझे भविष्य में मुश्किल में डाल सकता है। परिवार में सब लोग ये बात जानकर घबरा गए। तभी ज्योतिषी ने सलाह दी कि मैं अगर खुद ही जेल में जाकर समय गुजार लूं, तो यह दोष खत्म हो जाएगा।”

सिंह ने इसके बाद जिला प्रशासन के समक्ष आवेदन दिया, जिसके साथ उन्होंने कुंडली की फोटोकॉपी की प्रति लगाई। अर्जी पर उन्हें स्थानीय पुलिस थाने के लॉक-अप में एक दिन बिताने का मौका मिला। लेकिन सिंह इकलौते नहीं हैं, जो जेल में इस दोष से मुक्ति पाने के लिए गए। उनके अलावा कई और लोग भी हैं, जो अपने कुंडली के दोष से निजात पाने के लिए आवेदन दे चुके हैं।

उधर, लखनऊ के जिलाधिकारी डीएम कौशल राज शर्मा ने कहा, “हर साल हमारे दफ्तर में इस प्रकार की लगभग दो दर्जन दरख्वास्त आती हैं। अर्जी देने वालों की अपील होती है कि हम उन्हें जेल में एक से लेकर दो दिन बिताने दें।” वहीं, ज्योतिषी मानते हैं कि ऐसा कर जेल योग के दोष कम होने की संभावना रहती है।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App