ताज़ा खबर
 

यूपी: बीवी का चुनावी खर्च भरने के लिए 65 बार चोरी, नेताओं से लेकर मंत्री के रिश्तेदारों के यहां सेंध

पुलिस पूछताछ में पता चला है कि पंचलाल राजनेताओं, उनके रिश्तेदारों, सरकारी अधिकारियों और बड़े व्यापारियों को अपना निशाना बनाता था।

बीवी का चुनाव खर्च उठाने के लिए बन गया चोर। (file photo)(प्रतीकात्मक तस्वीर)

उत्तर प्रदेश के प्रतापगढ़ जिले में पुलिस ने एक ऐसे चोर को गिरफ्तार किया है, जो अपनी पत्नी के चुनावी खर्च के चलते चोर बन गया। फिलहाल पुलिस ने चोर के साथ उसके 2 साथियों को भी गिरफ्तार किया है। चोर की पहचान पंचलाल वर्मा के रुप में हुई है। पुलिस पूछताछ में पता चला है कि पंचलाल राजनेताओं, उनके रिश्तेदारों, सरकारी अधिकारियों और बड़े व्यापारियों को अपना निशाना बनाता था। पुलिस के अनुसार, पंचलाल ने राज्य सरकार में मंत्री डॉ. महेंद्र प्रताप सिंह के एक नजदीकी रिश्तेदार के घर भी चोरी की घटना को अंजाम दिया था।

टाइम्स ऑफ इंडिया की एक खबर के अनुसार, पंचलाल वर्मा की पत्नी ने कुछ समय पहले प्रतापगढ़ जिले के लालगंज ब्लॉक स्थित गांव माधवा से ग्राम प्रधान का चुनाव लड़ा था और उसमें जीत भी हासिल की थी। प्रतापगढ़ एसपी (सिटी) पूर्णेन्दू सिंह ने बताया कि पूछताछ में पता चला है कि पंचलाल वर्मा ने पत्नी संगीता के चुनाव प्रचार के लिए अपने रिश्तेदारों, पड़ोसियों और दोस्तों से करीब 20-25 लाख रुपए उधार लिया था। पंचलाल ने चुनाव जीतने के बाद भी सेलिब्रेशन में खूब पैसा खर्च किया था। अब जब पंचलाल वर्मा उधार लिया हुआ पैसा नहीं चुका सका तो उसने गैंग बनाकर चोरी की घटना को अंजाम देना शुरु कर दिया।

पुलिस का कहना है कि पंचलाल और उसके गैंग ने बीते 3 सालों में 65 बार यानि कि 5 दर्जन से ज्यादा चोरी और डकैती की घटनाओं को अंजाम दिया। उल्लेखनीय है कि साल 2012 में भी प्रतापगढ़ से ऐसा ही एक मामला सामने आया था। दरअसल प्रतापगढ़ के मूल निवासी और मुंबई में रहने वाले नुसरत अली खान उर्फ जाबिर अली को मुंबई पुलिस ने हत्या के एक मामले में गिरफ्तार किया था। पुलिस पूछताछ में पता चला कि जाबिर हत्या के साथ-साथ कार चोर माफिया भी है, जो कि करीब 200 कारें चुरा चुका था। पूछताछ के दौरान जाबिर ने खुलासा करते हुए बताया कि उसने कार चोरी के पैसों से अपने भाई को उत्तर प्रदेश विधानसभा का चुनाव लड़वाया था।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App