ताज़ा खबर
 

उत्तर प्रदेश: लखनऊ नगर निगम का फैसला- बदलेंगे ‘लंगड़ा फाटक’ और ‘अंधे की चौकी’ जैसे नाम

लखनऊ में नगर निगम द्वारा कुछ मुख्य चौक-चौराहों के नाम बदलने का फैसला किया गया है। जिन जगहों के नाम बदलने है उनके नाम अंधे की चौकी, लंगड़ा फाटक आदि है।

लखनऊ की मेयर संयुक्ता भाटिया फोटो सोर्स- ANI/ट्विटर

उत्तर प्रदेश की राजधानी लखनऊ में नगर निगम द्वारा कुछ मुख्य चौक-चौराहों के नाम बदलने का फैसला किया गया है। जिन जगहों के नाम बदलने है उनके नाम अंधे की चौकी, लंगड़ा फाटक आदि है। नगर निगम के अनुसार शहर में इस तरह के नामों से दिव्यांगों के साथ अन्याय हो रहा है। इसलिए निगम ने फैसला लिया है कि इन जगहों के नाम शहीदों के नाम पर रखे जायेंगे। हजरतगंज चौराहा का नाम पहले ही बदला जा चुका है। इस चौराहे का नाम अटल चौक कर दिया गया है।

लखनऊ नगर निगम द्वारा नाम बदलने को लेकर मेयर संयुक्ता भाटिया ने कहा कि, मेरी जानकारी में आया है कि शहर में लंगड़ा फाटक और अंधे की चौकी के नाम से भी कुछ जगहें हैं। जो कि गलत है। उन्होंने कहा कि पहले ये नाम चलन में थे, मगर अब हमारे प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने विकलांगों को खास नाम दिव्यांग दिया है । इसलिए हमने इन जगहों के नाम बदलने का निर्णय किया है और जल्द ही इसे पूरा कर लिया जाएगा। इसके बाद मेयर संयुक्ता भाटिया ने बताया कि, हम इस मामले को वर्किंग कमिटी के पास लेकर जायेंगे और इन जगहों के नाम बदलकर शहीदों के नाम पर रखेंगे। गौरतलब है कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने 2015 में अपने रेडियो कार्यक्रम मन की बात में कहा था कि देश में विकलांगों को अब से दिव्यांग नाम से बुलाया जाएगा।

बता दें कि लखनऊ में अंधे की चौकी, हरदोई रोड पर काकोरी क्षेत्र में और लंगड़ा फाटक आलमबाग क्षेत्र में पड़ता है। अब इन दोनों जगहों का नाम बदलकर शहीदों के नाम पर किया जाएगा, जिसका फैसला नगर निगम की बैठक में होगा। गौरतलब है कि ब्रेल लिपि के जनक रॉबर्ट लुईस ब्रेल की जयंती के मौके पर आयोजित एक कार्यक्रम में महापौर ने यह निर्णय लिया।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ लिंक्डइन पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App