ताज़ा खबर
 

किले से कम नहीं हिस्ट्रीशीटर विकास दुबे का घर, 50 सीसीटीवी, 30 फीट की दीवार और कंटीले तार की घेराबंदी; यूँ की थी वारदात की प्लानिंग

पुलिस टीम पर हमला विकास दुबे के घर और उसके आसपास के 4-5 घरों से किया गया, जिससे पुलिस टीम को संभलने का मौका नहीं मिला। बताया जा रहा है कि आसपास के घर विकास दुबे के रिश्तेदारों के घर हैं, जहां से फायरिंग हुई।

VIKAS DUBEY, kanpur encounter, up policeविकास दुबे के घर में 50 से ज्यादा सीसीटीवी कैमरे लगे हैं। (एक्सप्रेस फोटो)

हिस्ट्रीशीटर विकास दुबे के जिस घर पर पुलिस टीम दबिश देने गई थी, वह किसी किले से कम नहीं है। बता दें कि विकास दुबे के बिकरू गांव स्थित घर की दीवारें 30 फीट से ज्यादा ऊंची हैं और कांटेदार तारों से घेराबंदी भी की गई है। विकास दुबे के घर में 50 से ज्यादा सीसीटीवी कैमरे लगे हैं और लग्जरी गाड़ियों से लेकर ऐशो-आराम की सभी सुविधाएं मौजूद हैं। इस घर में तीन बड़े दरवाजे तीन दिशाओं में खुलते हैं। इतना ही नहीं छत पर जाने के लिए दो सीढ़ियां बनवायी गई हैं। सभी गेट पर दो-दो सीटीवी कैमरे लगे हैं।

विकास दुबे के घर की दीवारें इतनी ऊंची रखी गई हैं कि घर के भीतर कोई नहीं झांक सकता लेकिन इस घर की छत से पूरे गांव को देखा जा सकता है। गुरुवार की रात करीब एक बजे पुलिस टीम विकास के घर पहुंची थी। जहां घर से कुछ दूर ही जेसीबी मशीन लगाकर रास्ते ब्लॉक कर दिए गए थे। बताया जा रहा है कि गांव में सड़क निर्माण का काम हो रहा था और जेसीबी किराए पर ली गई थीं।

पुलिस टीम पर हमला विकास दुबे के घर और उसके आसपास के 4-5 घरों से किया गया, जिससे पुलिस टीम को संभलने का मौका नहीं मिला। बताया जा रहा है कि आसपास के घर विकास दुबे के रिश्तेदारों के घर हैं, जहां से फायरिंग हुई। अभी यह पता नहीं चल सका है कि पुलिस टीम पर फायरिंग करने वाले कितने लोग थे। लेकिन दबी जुबान में पुलिस अधिकारी गांव के कई लोगों के इस हमले में शामिल होने की बात कह रहे हैं।

पुलिस की फोरेंसिक जांच में पता चला है कि पुलिस अधिकारियों को काफी पास से सिर, छाती, पैर में कई राउंड गोलियां मारी गई हैं। सीओ देवेंद्र मिश्र को विकास के घर के बगल में स्थित मामा प्रेम प्रकाश पांडेय के घर में दीवार से सटाकर गोली मारी गई। पुलिस ने भी एनकाउंटर में विकास के मामा प्रेम प्रकाश पांडेय और भतीजे अतुल दुबे को ढेर कर दिया है।

विकास के घर में सीसीटीवी कैमरे लगे होने से पुलिस को उम्मीद थी कि मुठभेड़ के बारे में इन सीसीटीवी कैमरों से कुछ अहम सुराग मिल सकेंगे लेकिन विकास फरार होने से पहले अहम सबूत भी अपने साथ ले गया है। दरअसल सीसीटीवी कैमरों की डीवीडीआर नहीं मिली है।

Hindi News के लिए हमारे साथ फेसबुक, ट्विटर, लिंक्डइन, टेलीग्राम पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News AppOnline game में रुचि है तो यहां क्‍लिक कर सकते हैं।

Next Stories
1 यूपी पुलिस के हज़ार जवान-अफ़सरों को अकेले डकैत ने तीन दिन पिलाया था पानी, जानिए कुछ ‘असली’ मुठभेड़ों की कहानी
2 जान बचाने के लिए जिस घर में घुसे थे CO वो घर विकास के मामा का निकला; सिर दीवार में सटाकर गोली मारी, फिर कुल्हाड़ी से काट दिया था पैर
3 ‘ये रिश्ता क्या कहलाता है?’ हिस्ट्रीशीटर विकास दुबे और योगी के कानून मंत्री की एकसाथ फोटो पर पूर्व आईएएस अधिकारी का तंज
ये पढ़ा क्या?
X