ताज़ा खबर
 

‘ये रिश्ता क्या कहलाता है?’ हिस्ट्रीशीटर विकास दुबे और योगी के कानून मंत्री की एकसाथ फोटो पर पूर्व आईएएस अधिकारी का तंज

विकास दुबे की उत्तर प्रदेश के राजनीतिक दलों में काफी पकड़ है। यही वजह है कि विकास दुबे पर गैर कानूनी तरीके से कई जमीनों पर अवैध कब्जा करने का आरोप लगा है।

VIKAS DUBEY, KANPUR ENCOUNTERयूपी के कानून मंत्री ब्रजेश पाठक के साथ हिस्ट्रीशीटर विकास दुबे। (इमेज सोर्स- ट्विटर)

कानपुर एनकाउंटर के दौरान 8 पुलिसकर्मियों की शहादत का जिम्मेदार हिस्ट्रीशीटर विकास दुबे फरार है, जिसकी तलाश में पुलिस की कई टीमें लगी हैं। इस बीच पूर्व आईएएस अधिकारी सूर्य प्रताप सिंह ने एक फोटो ट्वीट कर सरकार पर तंज कसा है। दरअसल इस फोटो में विकास दुबे और योगी सरकार के कानून मंत्री ब्रजेश पाठक एक साथ दिखाई दे रहे हैं। इस फोटो को ट्वीट करते हुए रिटायर्ड आईएएस अधिकारी ने लिखा है कि “उत्तर प्रदेश सरकार के कानून मंत्री ब्रजेश पाठक और विकास दुबे एक साथ। ये रिश्ता क्या कहलाता है?”

कानपुर में दबिश देने गई पुलिस टीम पर हमले का मास्टरमाइंड विकास दुबे सियासी गलियारों में खासी दखल रखता है। बताया जा रहा है कि विकास दुबे का किसी एक राजनैतिक पार्टी के साथ संबंध नहीं है बल्कि उसने यूपी की कई राजनैतिक पार्टियों में अपनी पकड़ बनायी है। पंचायत चुनाव के दौरान उसे बसपा का समर्थन मिला था। बसपा के शासनकाल में विकास दुबे ने कई जमीनों पर अवैध कब्जा किया।

कहा जाता है कि जिस पार्टी उम्मीदवार को विकास दुबे का समर्थन मिलता था, उसी उम्मीदवार को उसके गांववाले वोट देते थे। यही वजह थी कि चुनाव के दौरान राजनैतिक पार्टियां वोट पाने के लिए उसके संपर्क में रहती थीं। विकास दुबे की दहशत ही थी कि उसने 15 सालों से जिला पंचायत सदस्य का पद कब्जा रखा है। इसके साथ ही उसने अपनी पत्नी ऋचा दुबे और चचेरे भाई अनुराग दुबे को भी पंचायत सदस्य बनवाया था। ऐसी खबरें आ रही हैं कि विकास दुबे 2022 के विधानसभा चुनाव में उतरने की योजना बना रहा था, इसके लिए वह राजनैतिक पार्टियों के संपर्क में था।

बता दें कि हत्या के एक मामले में पुलिस की एक टीम सीओ देवेंद्र मिश्र के नेतृत्व में गुरुवार की रात विकास दुबे को पकड़ने उसके गांव बिकरू गई थी। लेकिन आरोप है कि विकास दुबे और उसके आदमियों ने पुलिस टीम को घेरकर उनपर हमला कर दिया। इस हमले में सीओ और तीन सब इंस्पेक्टर समेत आठ पुलिसकर्मी शहीद हो गए। फिलहाल विकास दुबे फरार है और पुलिस की कई टीमें उन्हें ढूंढने का प्रयास कर रही हैं।

Hindi News के लिए हमारे साथ फेसबुक, ट्विटर, लिंक्डइन, टेलीग्राम पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News AppOnline game में रुचि है तो यहां क्‍लिक कर सकते हैं।

Next Stories
1 Covid-19: चार घंटे तक नहीं पहुंची एंबुलेंस, सड़क पर कोरोना मरीज ने तोड़ा दम; प्रशासन ने दिए जांच के आदेश
2 दिल्ली से सटे होने का खामियाजा भुगत रहा हरियाणा? 5 एनसीआर जिलों में जून में कोविड-19 के मामले सात गुना हुए, मौतों में 14 गुना वृद्धि
3 कानपुर एनकाउंटर केस: विकास दुबे की मां ने कहा- उसे पुलिस के सामने सरेंडर कर देना चाहिए, नहीं तो उसे मुठभेड़ में मारा जा सकता है
ये पढ़ा क्या?
X