ताज़ा खबर
 

कानपुर सड़क हादसा: बस ड्राइवर ने पी थी शराब, चेकिंग के बावजूद बच गया; कोरोना प्रोटोकॉल के बावजूद टेंपो में बैठे थे क्षमता से तीन गुना ज्यादा पैसेंजर

उत्तर प्रदेश के कानपुर में बस-टेंपो की भिड़ंत में 17 लोगों की मौत हो गई, वहीं करीब आधा दर्जन लोग गंभीर रूप से घायल हैं।

Edited By कीर्तिवर्धन मिश्र कानपुर | Updated: June 9, 2021 2:14 PM
उत्तर प्रदेश के कानपुर में हुए सड़क हादसे में 17 लोगों की जान गई है। (फोटो- PTI)

उत्तर प्रदेश के कानपुर में मंगलवार रात को बस और टेंपो के बीच हुई भिड़ंत में 17 लोगों की मौत हो गई। वहीं करीब आधा दर्जन लोग घायल बताए गए हैं। रिपोर्ट्स में खुलासा हुआ है कि यह हादसा अचानक बिना किसी गलती के नहीं हुआ, बल्कि बस और टेंपो ड्राइवर दोनों की ही ओर से भयानक चूक हुईं, जिससे कई परिवारों को भयानक क्षति पहुंची है।

स्थानीय मीडिया के मुताबिक, टेंपो को टक्कर मारने वाली बस के चालक ने शराब पी रखी थी। उसकी चेकिंग भी हुई लेकिन आरटीओ विभाग की इतनी बड़ी लापरवाही रही कि चेकिंग के बावजूद उसे छोड़ दिया गया और बस चलाने के लिए क्लियरेंस मिल गई। बताया गया है कि बस उन्नाव से चलने के बाद जब कानपुर में रुकी तो दोनों ड्राइवरों ने शराब पी ली। इसके बाद उनकी रास्ते में चेकिंग भी हुई, पर आरटीओ ने उन्हें निकल जाने दिया। फिलहाल इस मामले पर कानपुर एडीजी जोन और पुलिस कमिश्नर ने एसडीएम, आरटीओ और सीओ सदर की एक टीम बनाकर जांच के आदेश जारी कर दिए हैं।

प्रशासन की लापरवाही से हुआ भयानक हादसा: दूसरी ओर टेंपो में क्षमता से करीब तीन गुना अधिक लोग बैठे थे। यह हालात तब थे, जब पूरे यूपी में कोरोना प्रोटोकॉल के तहत प्रतिबंध लगे हैं और जगह-जगह पुलिस की पहरेदारी भी रखी गई है। इसके बावजूद टेंपो ड्राइवर ने 8 लोगों की क्षमता से करीब तीन गुना लोगों को ठूंसकर बिठा लिया था। यह सभी लोग एक फैक्ट्री में काम करते थे और टेंपो ड्राइवर उन्हें रोज ही यहां से लाता-ले जाता था।

हादसे ने उजाड़े कई परिवार: बस और टेंपो के बीच हुई इस भिड़ंत से कई मासूम परिवार उजड़ गए। दो-तीन घर तो ऐसे थे, जहां पर बड़ों का साया परिवार से उठ गया। कहीं किसी परिवार के तीन सगे भाई, तो कहीं दो सगे भाइयों की जान चली गई। बताया गया है कि लालेपुर गांव के रहने वाले तो 10 लोग मारे गए, जिनकी अर्थी बुधवार को एक साथ उठेगी।

Next Stories
1 लिव- इन रिलेशनशिप में रहना ठीक है या नहीं, यह फैसला करना अदालत का काम नहींः हाई कोर्ट
2 कौन सा केंद्र दे रहा फ्री वैक्सीन, बोले रॉबर्ड वाड्रा तो वीके सिंह ने कहा- इस परिवार को मजबूत करना ख़तरनाक
3 राम मंदिर के लिए चंदा मांगने के मामले में हो गई थी सांप्रदायिक हिंसा, हाई कोर्ट ने शिवराज सरकार से मांगा जवाब
ये पढ़ा क्या?
X