ताज़ा खबर
 

UP: खनन घोटाले में बुलंदशहर के DM अभय सिंह के आवास पर CBI ने मारा छापा, नोट गिनने की मशीन मंगाई गई

सीबीआई की टीम ने करीब 2 घंटे तक डीएम के आवास के साथ-साथ उनके दफ्तर पर छापेमारी की। इसके अलावा मुरादाबाद में प्रथमा यूपी ग्रामीण बैंक में महाप्रबंधक शैलेश रंजन के घर पर भी सुबह सीबीआई की टीम ने छापा मारा है।

Author बुलंदशहर | July 10, 2019 1:09 PM
अभय सिंह (फोटो सोर्स: फेसबुक @abhaysinghias)

उत्तर प्रदेश में हुए खनन घोटाले के मामले में सीबीआई (CBI) की ताबतोड़ छापेमारी जारी है। इस बीच बुधवार (10 जुलाई) को CBI की टीम ने बुलंदशहर के जिलाधिकारी (डीएम) अभय सिंह के आवास पर छापेमारी की। मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक अभय सिंह पर आरोप है कि उन्होंने सूबे के पूर्व सीएम अखिलेश यादव के कार्यकाल में फतेहपुर जिले का डीएम रहते हुए अवैध खनन करवाया था। बताया जा रहा है कि सीबीआई ने डीएम के घर पर नोट गिनती करने वाली मशीन मंगवाई है। सीबीआई की टीम ने करीब 2 घंटे तक डीएम के आवास के साथ-साथ उनके दफ्तर पर छापेमारी की। इसके अलावा मुरादाबाद में प्रथमा यूपी ग्रामीण बैंक में महाप्रबंधक शैलेश रंजन के घर पर भी सुबह सीबीआई की टीम ने छापा मारा है।

मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक आज सुबह दो वाहनों में सवार होकर पहुंची सीबीआई की टीम ने बुलंदशहर के डीएम अभय सिंह के सरकारी आवास पर छापा मारा। करीब दो घंटे की तलाशी के बाद सीबीआई ने नोट गिनने की मशीन मंगवाई। बताया जा रहा है कि इस दौरान घर पर डीएम अभय सिंह भी मौजूद थे। कुछ महीने पहले ही अभय सिंह को बुलंदशहर का डीएम बनाया गया था। बता दें कि इसी मामले में हाल ही में बुलंदशहर की डीएम रह चुकी बी. चंद्रकला के यहां भी छापेमारी हुई थी। गौरतलब है कि इससे पहले मंगलवार को सीबीआई ने 19 राज्यों में 119 जगह ताबड़तोड़ छापेमारी की थी।

National Hindi News, 10 July 2019 LIVE Updates: पढ़ें आज की बड़ी खबरें

Bihar News Today 10 July 2019: बिहार की बड़ी खबरों के लिए यहां क्लिक करें

बता दें कि अखिलेश यादव सरकार के दौरान अवैध खनन पट्टों को लेकर इलाहाबाद हाईकोर्ट में एक याचिका दाखिल की गई थी। जिसके बाद हाईकोर्ट कोर्ट ने यूपी के सात जिलों में अवैध खनन मामले में सीबीआई जांच के आदेश दिए थे जिसमें, फतेहपुर, सहारनपुर, कौशांबी, हमीरपुर, शामली, देवरिया और सिद्धार्थनगर भी शामिल हैं।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ लिंक्डइन पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App