ताज़ा खबर
 

कानपुर: हाइवे पर वसूली कर रहे थे कथित गोरक्षक, गांववालों ने दौड़ा-दौड़ा कर पीटा

आक्रोशित ग्रामीण लाठी-डंडों से पीटते हुए आरोपियों को चौकी ले गए। उनका गुस्सा कुछ इस कदर था कि चौकी के भीतर भी आरोपियों को पीटा गया। पुलिस ने बीच-बचाव के बाद समझौता कराया। पर उसी दौरान किसी ने घटना का वीडियो बना लिया था, जो बाद में वायरल हो गया।

तस्वीर का इस्तेमाल सिर्फ प्रस्तुतिकरण के लिए किया गया है। (फाइल फोटो)

उत्तर प्रदेश के कानपुर में शुक्रवार (31 अगस्त) को हाइवे पर कथित गोरक्षकों को दौड़ा-दौड़ा कर गांववालों ने बुरी तरह पीटा। कारण- घटना से पहले इन्हीं गोरक्षकों ने यहां कुछ पशु कारोबारियां का पीछा कर उनकी पिटाई की थी। गांववाले इसी बात पर भड़क गए थे, जिसके बाद उन्होंने पशु कारोबारियों पर हमला बोलने वालों को सड़क से पुलिस चौकी तक दौड़ा था। हालांकि, कुछ ही देर में मामला पुलिस के सामने आ गया, पर पुलिस ने इसमें समझौतानामा लिखवा लिया। यह बात बाहर निकली, तो पुलिस पर दबाव बना, जिसके बाद शनिवार (एक सितंबर) को इस मामले में रिपोर्ट दर्ज की गई।

रिपोर्ट्स के अनुसार, हुआ यूं कि शुक्रवार को फतेहपुर से यहां के महाराजपुर थाना क्षेत्र स्थित नेशनल हाइवे-2 से हाथीपुर गांव निवासी अब्बास फतेहपुर के मवेशी बाजार से भैंसें लेकर डीसीएम गाड़ी से आ रहा था। बीच रास्ते में उसे चार लोगों ने रोका, जिन्होंने उससे 10 हजार रुपए की मांग की। मना किया, तो वे उसे बुरी तरह मारने-पीटने लगे। बाद में अब्बास ने उन्हें दो हजार रुपए देने का बहाना बनाकर बचने की सोची, जिस पर हमलावरों ने मोटरसाइकिल से अब्बास का पीछा किया।

HOT DEALS
  • Jivi Energy E12 8 GB (White)
    ₹ 2799 MRP ₹ 4899 -43%
    ₹0 Cashback
  • jivi energy E12 8GB (black)
    ₹ 2799 MRP ₹ 4899 -43%
    ₹280 Cashback

सरसौल चौकी के पास चारों आरोपियों ने चलते वाहन की स्टियरिंग व्हील काबू कर ली, जिसके बाद वह वाहन एक ट्रैक्टर से जा टकराया। अब्बास को इसके बाद चारों ने पीटना शुरू कर दिया। आसपास के कुछ लोगों ने जैसे ही यह सब देखा वे अब्बास की मदद को आए। उन्होंने कुछ और गांव वालों को मदद के लिए बुला लिया, जिसके बाद जमकर उन चारों की पिटाई हुई। दावा है कि लाठी-डंडों से पीटते हुए आरोपियों को चौकी ले जाया गया था।

गांव वालों का गुस्सा कुछ इस कदर था कि उन्होंने चौकी के भीतर भी आरोपियों को पीटा। पुलिस ने बीच-बचाव के बाद समझौता करा दिया था। मगर उसी दौरान किसी ने घटना का वीडियो बना लिया था। आरोपियों को बचाने और समझौता कराने से जुड़ी यह क्लिप वायरल हुई, तो पुलिस विभाग में हड़कंप मच गया। पुलिस ने इसके बाद दोनों पक्ष के चार-चार लोगों को हिरासत में लिया और फिर रिपोर्ट लिखी। आरोपियों की पहचान विक्की, रवि, आशीष और दिवाकर के रूप में हुई है। पुलिस के मुताबिक, मामले में लापरवाही बरतने को लेकर बृजेश नामक सिपाही को निलंबित किया गया है।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App