ताज़ा खबर
 

वाराणसीः 84 घाटों पर जगमग हुए लाखों दीप, गंगा आरती के बीच लोगों को भाया लेजर शो

कार्तिक मास की पूर्णिमा पर काशी की अद्भुत और दिव्‍य दीपावली चौरासी गंगा घाटों पर अपनी स्‍वर्णिम छटा बिखेर रही है। इस मौके पर अभिनेता अनिल कपूर, केंद्रीय मंत्री पीयूष गोयल और सूबे के मुखिया योगी आदित्य नाथ भी मौजूद रहे।

काशी की देवदीपावली फोटो सोर्स- स्थानीय

कार्तिक मास की पूर्णिमा पर काशी की अद्भुत और दिव्‍य दीपावली चौरासी गंगा घाटों पर अपनी स्‍वर्णिम छटा बिखेर रही है। पूरे दिन विश्राम के बाद जैसे ही चांद ने अंगड़ाई ली, काशी के एतिहासिक घाट दीपों की रोशनी से नहा उठे, मानो आकाश से जमीन पर सितारे उतर आए हो। कहीं दीप मालाएं सजी तो कहीं दीपों से स्वास्तिक बनाया गया। कार्तिक पूर्णिमा पर असंख्य दीपों की जगमग से काशी के घाटों पर मनमोहक छटा बिखरी हुई थी। आतिशबाजी से आकाश में रोशनी का नजारा भी लाखों लोगों ने अपने दिल में उतारा।

दीपावली के 14 दिन बाद कार्तिक पूर्णिमा पर शुक्रवार को काशी का देव पर्व देव दीपावली बहुत ही धूम-धाम से मनाया गया। सभी घाटों को दुल्हन की तरह सजाया गया। 84 घाटों पर दीपों की ऐसी सजावट की गई थी मानो आसमान से तारे जमीन पर उतर आए हो। पूरे घाटों की रंग बिरंगे फूलों- मालाओं एवं एक से बढ़ कर एक रंगीन झालरों, लाइटों से भव्य सजावट की गई।

इस आकर्षक दृश्य को देखने के लिए बनारस सहित देश-विदेश से लोग काशी के घाटों पर आए थे। मां गंगा की गोद में जलते दीप अठखेलियां कर रही थीं। लोगों ने इस भव्य नजारे को अपने कैमरों में कैद किया। जैसे-जैसे सूरज ढलता गया वैसे-वैसे इस मनोहर झांकी को देखने के लिए लोगो का तांता घाटो पर बढ़ता गया। शाम होते ही पूरा घाट दीपों की रोशनी से रोशन हो गया।

अस्सी घाट से लेकर राजघाट तक सभी पर दीपों की जगमगाहट देखने को श्रद्धालुओं की भारी भीड़ उमड़ी। काशी में देव दीपावली की शुरुआत पुरातन काल से मानी जाती है। देव दीपावली का उल्लेख निर्णय सिंधु और स्मृति कौस्तुभी में भी है। 1986 में पूर्व काशी नरेश स्व. डॉ विभूति नारायण सिंह ने पंचगंगा पर हजारा दीप जलाकर देव दीपावली की शुरुआत कराई थी।

पीएम मोदी ने दी बधाई
ट्विटर पर देव दीपावली और देव दिवाली भी काशी के शीर्ष ट्रेंड में देर रात तक शामिल रहा। वाराणसी के सांसद और देश के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने भी लोगाें को ट्विटर पर बधाई देते हुए लिखा – ‘कार्तिक पूर्णिमा और देव दीपावली के पावन अवसर पर आप सभी को हार्दिक बधाई। इस अवसर पर गंगा स्नान और दीपदान की प्राचीन परंपरा रही है। मैं समस्त देशवासियों के समग्र कल्याण की कामना करता हूं।’

देव दीपावली के कार्यक्रम में योगी भी रहे मौजूद
देव दीपावली के कार्यक्रम में शिरकत करने उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ शुक्रवार को बनारस पहुंचे थे। उन्होंने इस मौके पर विशाल संख्या में पधारे काशीवासियों को संबोधित करते हुए कहा कि काशी के गंगा घाटों को आपस में जोड़ने, काशी के धर्म स्थलों के साथ-साथ काशी विश्वनाथ कॉरिडोर के विकास कार्य को पावन पथ योजना के तहत क्रियान्वित कराया जा रहा है।

उन्होंने कहा कि आज काशी में देव दीपावली के अवसर पर काशी की जो छवि देखने को मिल रही है, ऐसे ही छटा काशी की रोजाना हो, ऐसा काशी के सांसद एवं देश के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी चाहते हैं। उन्होंने कहा कि काशी के भौतिक विकास का 4.5 वर्ष में जो कार्य हुआ है, वह अब काशीवासियों के साथ- साथ पूरे देश के लोगों को दिखाई पड़ने लगा है। उन्होंने विशेष रूप से जोर देते हुए कहा कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की भावनाओं के अनुरूप काशी के आध्यात्मिक व सांस्कृतिक पहचान को बनाए रखते हुए यहां पर भौतिक विकास युद्ध स्तर पर कराया रहा है। मुख्यमंत्री ने काशी को अपनी प्रसिद्धि के अनुरूप विकसित करने में काशीवासियों से योगदान देने की भी अपील की।

अनिल कपूर और पीयूष गोयल भी रहे मौजूद 

फिल्म अभिनेता अनिल कपूर गंगा सेवा निधि की ओर से दशाश्वमेध घाट पर आयोजित देवदीपावली कार्यक्रम में शामिल हुए। इस पूजन के मुख्य यजमान फ़िल्म अभिनेता अनिल कपूर व प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी के दूत के रूप में पहुंचे केंद्रीय रेल मंत्री पीयूष गोयल रहे। दोनों विधि-विधान से माँ गंगा का पूजन-अर्चन किया। अनिल कपूर ने हर-हर महादेव के जयघोष के साथ काशीवासियो का अभिवादन किया तो लोगो ने भी हाथ हिलाकर उनका स्वागत किया। अनिल कपूर ने सभी को देव दीपावली की बधाई दी और माँ गंगा की महाआरती के दर्शन किये।

काशी की देव दीपावली में फिल्म अभिनेता अनिल कपूर (फोटो सोर्स- स्थानीय)

लेजर शो रहा आकर्षण का केंद्र

इस वर्ष देव दीपावली पर राजघाट पर लेजर शो का उद्धघाटन किया गया। देव दीपावली के अवसर पर लेजर शो मुख्य आकर्षण का केंद्र बना रहा। इस बारे में लोगों का कहना है कि हर बार की तरह इस बार भी हम घाट पर देवों के साथ दीपावली मनाने के लिए आए। इस बार कुछ अलग ही नजारा देखने को मिला। घाट पर लेजर शो का कार्यक्रम हुआ। जिससे लोग खासा प्रभावित हुए, बच्चे भी लेजर शो को देखकर काफी खुश नजर आये।

सुर, लय, ताल का गंगा के तट पर हुआ संगम

आरती समाप्त होने के बाद सांस्क्रति कार्यक्रम शुरू हुए जिसमे प्रसिद्ध सरोद वादक शिवदास चक्रवर्ती ने अपने वादन से माँ गंगा को स्वरांजलि अर्पित किया और नवसाधना कला केंद्र की 15 कन्याओं ने भरत नाट्यम प्रस्तुत किया।

शहीदों को दी गई भाव पूर्ण श्रधान्जली

दशाश्‍वमेध घाट पर इंडिया गेट की अनुकृति बनाकर यहां शहीदों को नमन भी किया गया। इसको भव्‍य स्‍वरूप देने के साथ ही दीपों से रोशन भी किया गया। गंगा सेवा निधि के द्वारा बनाये गये इण्डिया गेट व अमर जवान ज्योति की अनुकृति पर संस्था के इंदु शेखर शर्मा, सीआरपीएफ कमांडेंट, मेजर जर्नल,लेफ्टिनेंट जर्नल,एयर मार्शल ने दीप प्रज्वलित कर शहीदों कोश्रद्धांजलि दी, जी.टी.सी. के जवानो द्वारा गार्ड आफ ऑनर दिया गया।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App