ताज़ा खबर
 

कानपुर: दलित महिला को पूजा पंडाल में घुसने नहीं दिया, पुजारी ने पूजा का सामान फेंक किया अपमानित

पीड़ित महिला ने मंदिर में जाने पर रोके जाने को लेकर सरकार को इसके लिए जिम्मेदार ठहराया। कहा कि आज जो स्थिति महिलाओं को झेलनी पड़ रही है, वह सिर्फ और सिर्फ सरकार के कारण बनी हुई है।
तस्वीर का इस्तेमाल सिर्फ प्रस्तुतिकरण के लिए किया गया है। (फोटोः Freepik)

उत्तर प्रदेश से शनिवार (31 मार्च) को हैरान करने वाली खबर आई। कानपुर जिले में एक महिला को मंदिर में घुसने नहीं दिया गया। सिर्फ इस वजह से क्योंकि वह दलित थी। महिला पूजा करने के लिए मंदिर पहुंची थी। लेकिन पुजारी ने उसे मंदिर परिसर के बाहर ही रोक दिया था। दलित महिला का आरोप है कि पुजारी ने न केवल उसका पूजा का सामान फेंका। बल्कि उसे बुरी तरह अपमानित किया था। पीड़ित महिला ने मंदिर में जाने से रोके जाने को लेकर सरकार को इसके लिए जिम्मेदार ठहराया। कहा कि आज जो स्थिति दलित महिलाओं को झेलनी पड़ रही है, वह सिर्फ और सिर्फ सरकार के कारण बनी हुई है। महिला ने इस संबंध में स्थानीय पुलिस को शिकायत दी है। जानकारी होने पर पुलिस ने मामला दर्ज कर लिया है और जांच-पड़ताल कर रही है।

न्यूज एजेंसी एएनआई के अनुसार, यह मामला थाना रसूलाबाद क्षेत्र का है। यहीं के एक गांव में रहने वाली जयदेवी पास में ही बने पूजा पंडाल में गई थीं। लेकिन पंडाल के पुजारी ने उनकी थाली हटा दी थी। उस दौरान उन्होंने पुजारी से पंडाल के अंदर जाने के लिए कहा। लेकिन उसने महिला को अनुमति नहीं दी। ऐसे में पीड़ित महिला ने थाना रसूलाबाद में इस संबंध में शिकायत दी गई है।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App