ताज़ा खबर
 

उत्तर प्रदेश: किसानों की जमीन पर प्रधानमंत्री के होने वाले कार्यक्रम का विरोध शुरू

किसानों का कहना है कि कार्यक्रम के कारण खेतों में लगे परवल और टमाटर की फसल को नुकसान होगा।

Author बलिया | April 23, 2016 3:17 AM
पीएम नरेंद्र मोदी (फाइल फोटो)

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के एक मई को यहां होने वाले कार्यक्रम से पहले ही मालदेपुर के किसानों ने अपनी जमीन पर बिना अनुमति कार्यक्रम की तैयारियां किए जाने पर विरोध प्रकट किया है। मालदेपुर जिला मुख्यालय के निकट बलिया-लखनऊ राजमार्ग पर है। यहां के किसानों ने अपनी जमीन पर बिना इजाजत कार्यक्रम की तैयारियां किये जाने पर विरोध प्रकट किया है।

प्रधानमंत्री एक मई को यहां अपनी सरकार की महत्त्वाकांक्षी परियोजना ‘उज्ज्वला’ की शुरुआत करने आ रहे हैं। पुलिस अधीक्षक मनोज कुमार झा ने शुक्रवार को बताया कि प्रधानमंत्री कार्यालय से मिले पत्र में बलिया दौरे की जानकारी दी गई है। एसपीजी के अधिकारी भी शनिवार को बलिया पहुंच जाएंगे। उन्होंने बताया कि प्रधानमंत्री के कार्यक्रम की देखरेख के लिए केंद्रीय पेट्रोलियम मंत्री धर्मेंद्र प्रधान भी यहां पहुंच रहे हैं। उज्ज्वला कार्यक्रम के तहत पांच करोड़ गरीबों को मुफ्त में गैस कनेक्शन दिया जाएगा।

इस बीच मालदेपुर के ग्राम प्रधान विनोद पासवान ने कहा कि कार्यक्रम स्थल पर किसानों और ग्राम समाज की भूमि है। बिना अनुमति के इस जमीन पर कार्य किया जा रहा है। किसानों का कहना है कि कार्यक्रम के कारण परवल और टमाटर की फसल को नुकसान होगा। किसानों का यह आरोप भी है कि लोकसभा चुनाव के समय यहां मोदी की रैली हुई थी। उस समय मुआवजा देने की बात कही गई थी, लेकिन आज तक मुआवजा नहीं मिला।

उधर पूर्वांचल पीपुल्स पार्टी ने मोदी के कार्यक्रम के विरोधस्वरूप काली पतंगें उड़ाने का एलान किया है। पार्टी अध्यक्ष अनूप पांडेय ने कहा कि पिछड़ेपन, भुखमरी और बेरोजगारी का सामना कर रहे पूर्वांचल के लिए भाजपा सरकार ने कुछ नहीं किया जबकि लोकसभा चुनाव में पूर्वांचल में आजमगढ़ को छोड़ बाकी सभी सीटों पर जनता ने भाजपा प्रत्याशियों को विजयी बनाया था। उन्होंने आरोप लगाया कि गरीबों की मदद की आड़ में मोदी भाजपा के चुनाव अभियान की शुरुआत करने आ रहे हैं। उत्तर प्रदेश के आगामी विधानसभा चुनाव 2017 में होने हैं।

इस बीच समाजवादी पार्टी के स्थानीय नेताओं ने जिले के विकास की कथित अनदेखी किए जाने पर मोदी की यात्रा का विरोध करने का फैसला किया है। अंबिका चौधरी और नारद राय सहित सपा नेताओं के एक प्रतिनिधिमंडल ने जिला प्रशासन को ज्ञापन सौंपा, जिसमें एम्स की स्थापना और अन्य विकास परियोजनाएं शुरू करने की मांग की गई।

ज्ञापन में कहा गया कि जिले की केंद्र ने अनदेखी की है। प्रधानमंत्री के दौरे से हमें विकास परियोजनाएं शुरू होने को लेकर कोई सकारात्मक संकेत नहीं मिला है। भाजपा सांसद योगी आदित्यनाथ ने हालांकि इस विरोध को ‘मूर्खतापूर्ण’ करार देते हुए कहा कि प्रधानमंत्री गरीबों को मुफ्त एलपीजी कनेक्शन वितरित किए जाने से जुड़ी योजना की शुरुआत करने आ रहे हैं।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App