ताज़ा खबर
 

जहां आते ही चली जाती है हर CM की कुर्सी, वहां PM नरेंद्र मोदी के साथ जाएंगे योगी आदित्‍यनाथ

25 दिसंबर को यूपी के सीएम गौतमबुद्ध नगर जिले के नोएडा शहर में आएंगे। ऐसा कर वह 29 साल पुराने अंधविश्वास को तोड़ेंगे। हालांकि, वह इस अंधविश्वास का सामना करने वाले पहले सीएम नहीं हैं।

उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ (IANS)

देश की राजधानी दिल्ली से सटा नोएडा शहर उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्रियों को डराता रहा है। 29 सालों से सूबे के ज्यादातर सीएम इस औद्योगिक शहर में कदम रखने से बचते रहे हैं। अंधविश्वास है कि यहां जो सीएम आता है, वह अपनी कुर्सी से हाथ धो बैठता है। ऐसे में उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने डर को मात देने का फैसला किया है। आने वाले 25 दिसंबर को वह गौतमबुद्ध नगर जिले के नोएडा शहर में आएंगे और 29 साल पुराने अंधविश्वास को तोड़ेंगे। हालांकि, वह इस अंधविश्वास का सामना करने वाले पहले सीएम नहीं हैं। बहुजन समाज पार्टी (बसपा) की राष्ट्रीय अध्यक्ष मायावती उनसे पहले इस शहर में आ चुकी हैं, जिसके बाद वह अपनी सीएम की कुर्सी गंवा बैठी थीं। अंधविश्वास के बावजूद सीएम योगी शहर आएंगे। भाजपा के प्रदेश प्रवक्ता डॉ. चंद्रमोहन ने इस बारे में कहा, “सीएम योगी अंधविश्वास में यकीन नहीं रखते हैं।”

…तो इसलिए शहर आएंगे योगी
25 तारीख को पूर्व प्रधानमंत्री अटल बिहारी वाजपेयी का जन्मदिन है। इसी मौके पर दिल्ली मेट्रो की नई लाइन (मैजेंटा) की शुरुआत होनी है। यह रूट दिल्ली से सीधे नोएडा को जोड़ेगा। यहां बॉटनिकल गार्डन से दिल्ली के कालका जी तक मेट्रो की इस लाइन का प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी खुद उद्घाटन करने पहुंचेंगे। कार्यक्रम यूपी के सीएम भी हिस्सा लेने के लिए शहर पहुंचेंगे।

कौन-कौन यहां आने से खाता है खौफ
नोएडा शहर को लेकर यह अंधविश्वास 29 सालों से चला आ रहा है। सबसे पहले कांग्रेस सरकार में सीएम रहे वीर बहादुर सिंह यहां आए थे। वह भी गोरखपुर के रहने वाले थे। 23 जून 1998 को नोएडा आए, लेकिन अगले दिन उन्होंने किन्हीं कारणों से इस्तीफा सौंप दिया था। तब से लेकर आज तक यह अंधविश्वास बन गया कि जो यहां आएगा, वह अपनी कुर्सी खो बैठेगा। वीर बहादुर की कुर्सी जाने के किस्से के बाद एनडी तिवारी, मुलायम सिंह यादव, कल्याण सिंह, राम प्रकाश गुप्ता, राजनाथ सिंह, मायावती और अखिलेश यादव सूबे के सीएम बने। मगर कुर्सी खोने के खौफ के कारण उन्होंने इस शहर से दूरी बना कर रखी।

UP, UP Government, UP Government Order, Smoker Vehicles, Seize Smoker Vehicles, Seize Vehicles, Vehicles in UP, Smoker Vehicles in UP, yogi adityanath, yogi adityanath order, State news उत्तर प्रदेश के सीएम योगी आदित्यनाथ (फोटो सोर्स- PTI)

मायावती ने दिखाया था दम, लेकिन…
योगी के प्रस्तावित कार्यक्रम से पहले मायावती ने यहां आने का दम दिखाया था। चौथी बार पूर्ण बहुमत की सरकार से वह जब सीएम बनी थीं तो 14 अगस्त 2011 को वह शहर आई थीं। यहां उन्होंने 700 करोड़ रुपए से बने दलित प्रेरणा पार्क का शिलान्यास किया था। मगर अगले साल राजनीतिक हालात गड़बड़ाए और उन्हें सत्ता से हाथ धोना पड़ा था।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App