ताज़ा खबर
 

योगी आदित्यनाथ ने किया एलीवेटेड रोड का उद्घाटन, ट्विटर पर लोगों ने अखिलेश यादव को कहा थैंक्स

उत्‍तर प्रदेश के मुख्‍यमंत्री योगी आदित्‍यनाथ ने शुक्रवार (30 मार्च) को यूपी गेट-राजनगर एक्‍सटेंशन एलीवेटेड रोड का औपचारिक तौर पर उद्घाटन किया। लेकिन, सोशल मीडिया पर लोग राज्‍य के पूर्व मुख्‍यमंत्री अखिलेश यादव को बधाई देने लगे।

गाजियाबाद में जनसभा को संबोधित करते उत्‍तर प्रदेश के मुख्‍यमंत्री योगी आदित्‍यनाथ। (फोटो सोर्स: पीटीआई)

उत्‍तर प्रदेश के मुख्‍यमंत्री योगी आदित्‍यनाथ ने शुक्रवार (30 मार्च) को गाजियाबाद में एलीवेटेड रोड का उद्घाटन किया। इस मौके पर उन्‍होंने 1,700 करोड़ रुपये की 19 परियोजनाओं की भी सौगात दी। एलीवेटेड रोड का उद्घाटन होते ही लोग सोशल साइट पर उत्‍तर प्रदेश के पूर्व मुख्‍यमंत्री अखिलेश यादव को बधाई देने लगे। अखिलेश को बधाई देने वालों में समाजवादी पार्टी (सपा) की प्रवक्‍ता पंखुरी पाठक भी शामिल हैं। उन्‍होंने ट्वीट किया, ‘नोएडा के बाद गाजियाबाद का भी अपना एलीवेटेड रोड होगा। इसके लिए अखिलेश यादव और हमारे शहरों को दुनिया के अन्‍य नगरों की तरह बनाने के उनके दृष्टिकोण को धन्‍यवाद।’ पंखुरी ने एक अन्‍य ट्वीट में लिखा, ‘पहले हमलोग सुनते थे कि एक्‍सप्रेसवे, एलीवेटेड रोड, 4 लेन हाई स्‍पीड रोड, मेट्रो आदि के लिए निविदाएं आमंत्रित की जा रही हैं। अब हमलोग सुनते हैं कि 100 फीट ऊंची मूर्ति के लिए टेंडर निकाला गया है। प्राथमिकताएं कैसे बदल जाती हैं।’ कुछ लोगों ने तो ट्विटर पर बाकायदा पोस्‍टर शेयर कर अखिलेश यादव को बधाई दी है। एक व्‍यक्ति ने लिखा, ‘गाजियाबाद की जनता जब भरेगी एलीवेटेड रोड पर रफ्तार, अखिलेश जी के काम को मिलेगी पहचान।’

यूपी गेट से राजनगर एक्सटेंशन तक जाने वाली छह लेन की यह सड़क देश की सबसे लंबी एलीवेटेड रोड है। मुख्‍यमंत्री योगी आदित्‍यनाथ ने इस मौके पर गाजियाबाद के कविनगर स्थित रामलीला ग्राउंड में एक जनसभा को भी संबोधित किया। उन्‍होंने केंद्र की नरेंद्र मोदी सरकार की योजनाओं का भी उल्‍लेख किया। उन्‍होंने अखिलेश यादव की सरकार की भी आलोचना की। मुख्‍यमंत्री ने कहा कि एलीवेटेड रोड का निर्माण तो शुरू कर दिया गया था, लेकिन इसके लिए पर्यावरण, बिजली और अन्‍य विभागों से मंजूरी तक नहीं ली थी। उन्‍होंने आरोप लगाया कि पूर्व की सरकार में बिना किसी मंजूरी के ही सब काम हो जाया करते थे। योगी आदित्‍यनाथ के अनुसार, भाजपा सरकार ने सत्‍ता संभालने के एक साल के अंदर सभी रुकी हुई परियोजनाओं को अंजाम तक पहुंचाया। मुख्‍यमंत्री ने आरोप लगाया कि असामाजिक तत्‍वों को बसाना, गलत तरीके से सभी काम कराना और दंगे भड़काना पुरानी सरकारों का उद्देश्‍य था। उन्‍होंने पूर्ववर्ती सरकार पर जाति के नाम पर लोगों को बांटने का भी आरोप लगाया।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App