ताज़ा खबर
 

गैंगरेप के आरोपी गायत्री प्रजापति के मामले पर बोले अखिलेश- कहा कैमरा लेकर चलें और देख लें मुख्यमंत्री आवास पर प्रजापति हैं या नहीं

उत्तर प्रदेश के मंत्री गायत्री प्रजापति को मुख्यमंत्री आवास में छिपाये जाने के भारतीय जनता पार्टी के आरोप से साफ इंकार करते हुए अखिलेश यादव ने शुक्रवार (3 मार्च) को कहा कि प्रजापति का मामला उच्चतम न्यायालय में है और सरकार अदालत के आदेश का पूरा पालन करेगी।

Author लखनऊ | March 3, 2017 11:22 PM
बहराइच में एक चुनावी रैली को संबोधित करते सपा प्रमुख अखिलेश यादव। (पीटीआई फोटो/22 फरवरी, 2017)

उत्तर प्रदेश के मंत्री गायत्री प्रजापति को मुख्यमंत्री आवास में छिपाये जाने के भारतीय जनता पार्टी के आरोप से साफ इंकार करते हुए अखिलेश यादव ने शुक्रवार (3 मार्च) को कहा कि प्रजापति का मामला उच्चतम न्यायालय में है और सरकार अदालत के आदेश का पूरा पालन करेगी।  अखिलेश ने यहां संवाददाताओं से कहा, ‘उच्चतम न्यायालय में मामला है। सरकार पूरा सहयोग करेगी।’ जब भाजपा के प्रदेश अध्यक्ष केशव प्रसाद मौर्य के इस आरोप की ओर ध्यान दिलाया गया कि प्रजापति को मुख्यमंत्री आवास में छिपाया गया है तो अखिलेश ने कहा, ‘सब कैमरा लेकर मेरे साथ चलें और देख लें।’ उन्होंने समाजवादी सरकार की उपलब्धियों का उल्लेख करते हुए दावा किया कि शहर में 24 घंटे और गांवों में 18 घंटे बिजली दी जा रही है। ‘हमने प्रधानमंत्री के बारे में कभी नहीं कहा कि आप तार छुओ। हमने योगी (आदित्यनाथ) के बारे में ये बात कही थी। मगर कोई ब्रेकिंग न्यूज नहीं आयी इसलिए लगता है कि उन्होंने (योगी) अभी सुना नहीं।’

उत्तर प्रदेश के मंत्री गायत्री प्रजापति को मुख्यमंत्री आवास में छिपाये जाने के भारतीय जनता पार्टी के आरोप से साफ इंकार करते हुए अखिलेश यादव ने शुक्रवार (3 मार्च) को कहा कि प्रजापति का मामला उच्चतम न्यायालय में है और सरकार अदालत के आदेश का पूरा पालन करेगी।  अखिलेश ने यहां संवाददाताओं से कहा, ‘उच्चतम न्यायालय में मामला है। सरकार पूरा सहयोग करेगी।’ जब भाजपा के प्रदेश अध्यक्ष केशव प्रसाद मौर्य के इस आरोप की ओर ध्यान दिलाया गया कि प्रजापति को मुख्यमंत्री आवास में छिपाया गया है तो अखिलेश ने कहा, ‘सब कैमरा लेकर मेरे साथ चलें और देख लें।’ उन्होंने समाजवादी सरकार की उपलब्धियों का उल्लेख करते हुए दावा किया कि शहर में 24 घंटे और गांवों में 18 घंटे बिजली दी जा रही है। ‘हमने प्रधानमंत्री के बारे में कभी नहीं कहा कि आप तार छुओ। हमने योगी (आदित्यनाथ) के बारे में ये बात कही थी। मगर कोई ब्रेकिंग न्यूज नहीं आयी इसलिए लगता है कि उन्होंने (योगी) अभी सुना नहीं।’

अखिलेश ने कहा, ‘मैंने प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी के लिए ये जरूर कहा कि गंगा मैया की कसम खाएं कि हम वाराणसी में 24 घंटे बिजली दे रहे हैं या नहीं। मैं तो नहीं कहूंगा कि तार छुएं….हम ऐसी कोई बात नहीं करेंगे कि आप (मोदी) भावुक हों और नाराज हो जाएं।’

प्रधानमंत्री की कैशलेस अर्थव्यवस्था लाने के ऐलान पर प्रहार करते हुए उन्होंने तंज कसा, ‘आपके नेता बनारस में मोबाइल या बैंक कार्ड या चेक से कचौड़ी और पकौड़ी खाएं तो अच्छा लगेगा। आप तो देश को बता रहे थे कैशलेस, प्लास्टिक मनी….कम से कम आपके लोग पकौडी, कचौडी तो काले धन से ना खायें।’ अखिलेश ने अपनी सरकार की ओर से किसानों का कर्ज माफ किये जाने का उल्लेख करते हुए कहा कि आने वाले समय में अगर समाजवादियों की सरकार बनी तो किसानों का एक लाख रुपए तक का कर्ज माफ किया जाएगा।

इसी कड़ी में उन्होंने राज्य सरकार द्वारा विभिन्न राजमार्गों के निर्माण का जिक्र किया, जिनमें सोनभ्रद-बनारस, बाबतपुर-भदोही, पूर्वांचल एक्सप्रेसवे और आजमगढ़ फोर लेन का प्रमुखता से शामिल थे।

युवाओं को लैपटाप देने में भेदभाव के मोदी के आरोप पर अखिलेश ने वाराणसी में लैपटाप और कन्या विद्याधन पाने वाले दस दस छात्र छात्राओं के नाम पढ़े और भाजपा नेताओं को चुनौती दी कि वे इन बच्चों के घर जाकर पता करें कि लैपटाप वितरण में कोई भेदभाव किया गया है या नहीं। उन्होंने सवाल किया, ‘प्रधानमंत्री ने कितने युवाओं को लैपटॉप दिया? आने वाले समय में हम स्मार्ट फोन देना चाहते हैं। प्रधानमंत्री कब्रिस्तान और श्मशान की बात करना चाहते हैं लेकिन हम लैपटॉप और स्मार्ट फोन की बात करते हैं।’

मिर्जापुर में मोदी की ‘रेट’ वाली टिप्पणी के जवाब में अखिलेश ने कहा, ‘शिकायत का क्या रेट होगा। हमने सब कुछ आनलाइन कर रखा है। शिकायत में कोई लेनदेन नहीं होता। अगर जानकारी है तो शिकायत का रेट बतायें। हमने जो व्यवस्था बनायी है, उससे अच्छी पारदर्शी व्यवस्था कोई नहीं हो सकती।’ राज्य सरकार की भर्तियों विशेषकर पुलिस भर्ती में भेदभाव के आरोप से भी मुख्यमंत्री ने साफ इंकार किया।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App