ताज़ा खबर
 

चूहों ने ढहा दिया तीन मंजिला मकान, दर्जनों मकानों में फैला आतंक

मकान मालिक के मुताबिक, शनिवार शाम को तेज बरसात हुई थी। बरसात के बाद छत का प्लास्टर टूटकर गिरने लगा। पड़ोसियों के कहने पर हमने देर रात परिवार सहित मकान खाली कर दिया, जबकि घर का सारा सामान भीतर ही रखा था। मकान छोड़ने के कुछ ही देर बाद वह ढह गया।
ताज नगरी में चूहों की धमाचौकड़ी के बाद कुछ ऐसा हुआ इमारत का हाल। (फोटोः एएनआई)

आगरा में कुछ चूहों ने मिलकर तीन मंजिला इमारत को ही ढहा दिया। अब इस पूरे मामले पर नगर निगम के जिम्मेदार अफसर लीपापोती की ​कोशिश में जुट गए हैं। पूरी घटना का वीडियो भी सोशल मीडिया पर वायरल हो रहा है। ये अजीब वाकया रविवार सुबह हुआ। ताजनगरी के पुराने मोहल्ले कचहरी घाट की टीले वाली गली में ये तीन मंजिला म​कान बना हुआ था। शनिवार रात को हुई तेज बरसात के कारण पानी चूहों के बिलों में भर गया। इस वजह से मकान की नींव कमजोर हो गई। देर रात मकान को झुकते देखकर मकान मालिक सुधीर वर्मा ने परिवार सहित मकान खाली कर दिया था। इसके बाद सुबह के वक्त तेज आवाज के साथ मकान ढह गया। बताया गया कि इस मकान में सुधीर के परिवार के कुल 8 सदस्य रहते थे।

खतरे में हैं दर्जनों मकान: किराना बाजार होने के कारण इस मोहल्ले में चूहों की तादाद भी अच्छी-खासी है। चूहों की संख्या बढ़ने के साथ उनका आतंक भी बढ़ गया है। चूहों ने मकानों की नींव में अपने बिल बना लिए हैं। वहीं कई बार सीवर लाइन, वॉटर लाइन और भूमिगत तारों को भी नुकसान पहुंचाया है। नगर निगम के अधिकारी मानते हैं कि चूहों के कारण दर्जनों मकानों की बुनियाद हिल गई है।

दर्जनों मोहल्लों को किया खोखलाः मनकामेश्वर मोहल्ले के अलावा आसपास के दर्जनों मकानों में रहने वाले भी चूहों से परेशान हैं। पुराने आगरा शहर के अलावा, कचहरी घाट, बेलागंज, जीवनी मंडील, फिलिपगंज, मोती गंज, पातीराम गली, गुदड़ी मंसूर खां, सेव का बाजार, रावतपाड़ा, पीपलमंडी में भी चूहों का आतंक फैला हुआ है। कई मोहल्लों में तो सीवर लाइन और पाइप लाइन को भी चूहों की वजह से गंभीर नुकसान  पहुंचा है।

चूहों के कारण हुआ बेघर…: मकान मालिक सुधीर वर्मा ने बताया, “शनिवार की शाम को तेज बरसात हुई थी। बरसात के बाद छत का प्लास्टर टूटकर गिरने लगा। पड़ोसियों के कहने पर हमने देर रात परिवार सहित मकान खाली कर दिया। जबकि घर का सारा सामान भीतर ही रखा हुआ था। मकान छोड़ने के कुछ ही देर बाद वह ढह गया।” इस हादसे ने सुधीर को बेघर कर दिया है। उन्होंने कहा कि गनीमत ये रही कि मकान का मलबा खुले हिस्से में गिरा। अगर वह किसी मकान पर गिरता तो तबाही और ज्यादा होती। ये घर मेरे पुरखों का था, जो अब बर्बाद हो चुका है। मैं और मेरा परिवार थोड़े ही फासले से बच गए।

क्या कहते हैं जिम्मेदार: पी​पल मंडी क्षेत्र से निगम पार्षद रवि माथुर ने बताया कि चूहों ने मकान की नींव पूरी तरह से खोखली कर दी थी। मकान मालिक सुधीर ने चूहों ने निजात पाने की हर संभव कोशिश की, लेकिन कामयाब नहीं हुए। वहीं, आगरा के मेयर नवीन जैन ने कहा कि ढहने वाला मकान पहले से भी काफी जर्जर था। लेकिन ये सच है कि चूहों से पुराने शहर में बने कई मकानों के लिए खतरा है। चूहों ने करोड़ों रुपए के विकास कार्यों को नुकसान पहुंचाया है। मैं चूहों की समस्या से निपटने के लिए पार्षदों और अधिकारियों से बातचीत करूंगा।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App