ताज़ा खबर
 

VIDEO: भीड़ देख इधर-उधर छू रहा था मनचला, लड़की ने पूरे मेले में दौड़ा-दौड़ा कर पीटा

उत्‍तर प्रदेश के बहराइच जिले में मेला लगा था। युवती भी मेला घूमने आई थी। वहां एक मनचला काफी देर से उसे परेशान कर रहा था। इससे परेशान होकर युवती ने मनचले की मेले में दौड़ा-दौड़ा कर पिटाई शुरू कर दी थी।

मनचला मेले में युवती से छेड़छाड़ कर रहा था, जब युवती ने तंग आकर उसे दौड़ा-दौड़ा कर पीटना शुरू कर दिया। (प्रतीकात्‍मक फोटो)

उत्‍तर प्रदेश में मनचलों के हौसले इतने बढ़ गए हैं कि अब वे सरेआम भी छेड़खानी करने लगे हैं। लेकिन, इस बार बहादुर बेटी ने नजीर पेश कर दिया। उसने मनचले को ऐसा सब‍क सिखाया कि ऐसी ओछी हरकत करने वाले अन्‍य लोग भी ऐसा करने की हिम्‍मत नहीं जुटा पाएंगे। यह मामला उत्‍तर प्रदेश के बहराइच जिले का है। एक युवती मेले में घूमने गई थी। उसी दौरान एक मनचले ने उसके साथ छेड़खानी शुरू कर दी थी। पहले तो युवती उससे बचने का प्रयास करती रही, लेकिन जब सिरफिरा नहीं माना तो बहादुर बेटी ने मेले में उसे दौड़ाना शुरू कर दिया। मेले में युवती ने उसे दौड़ा-दौड़ा कर उसकी खूब पिटाई की। मेले में मौजूद अन्‍य लोगों ने भी मनचले को पीटा। मीडिया रिपोर्ट के अनुसार, मनचला उसे काफी देर से परेशान कर रहा था। उसकी हरकतों से तंग आकर युवती ने पहले उसे पकड़ कर पीटना शुरू किया था। मनचला उसके चंगुल से छूटकर मेले में भागने लगा था। इस पर युवती ने उसे खदेड़ना शुरू कर दिया था। हालांकि, आरोपी मनचला मेले में भीड़ का फायदा उठाकर भागने में कामयाब रहा। भीड़-भाड़ वाले इलाकों में मनचले अक्‍सर अवांछित हरकत करते हैं।

उन्‍नाव में भाजपा विधायक कुलदीप सिंह सेंगर के खिलाफ दुष्‍कर्म का आरोप लगने के बाद महिला उत्‍पीड़न को लेकर पूरे देश में सवाल उठने लगे थे। जम्‍मू-कश्‍मीर के कठुआ में एक मासूम के साथ दुष्‍कर्म के बाद उसकी हत्‍या के मामले ने भी तूल पकड़ लिया था। उन्‍नाव में पीड़िता की शिकायत के बावजूद स्‍थानीय पुलिस ने शुरुआत में भाजपा विधायक के खिलाफ कार्रवाई नहीं की थी। विवाद बढ़ने और मामले के इलाहाबाद हाई कोर्ट में जाने के बाद उत्‍तर प्रदेश की भाजपा सरकार ने विधायक के खिलाफ कार्रवाई तेज की थी। योगी आदित्‍यनाथ की सरकार ने मामले की जांच सीबीआई को सौंपने का फैसला किया गया था। शुरुआती छानबीन के बाद भाजपा विधायक सेंगर को गिरफ्तार कर लिया गया था। दूसरी तरफ, कठुआ सामूहिक दुष्‍कर्म और हत्‍या के मामले ने भी तूल पकड़ लिया था। कथित तौर पर वकीलों ने पुलिस को चार्जशीट दाखिल करने से भी रोका था। बाद में जम्‍मू की अदालत में मामले की न्‍यायोचित तरीके से सुनवाई न होने की आशंका को लेकर सुप्रीम कोर्ट में याचिका दायर की गई थी। शीर्ष अदालत ने बाद में इस मामले की सुनवाई को पठानकोट ट्रांसफर कर दिया था।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ लिंक्डइन पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App