ताज़ा खबर
 

यूपी: 200 बसपा कार्यकर्ताओं की ‘घर वापसी’, पार्टी नेता बोले- बीजेपी से भी कुछ संपर्क में

4 बार विधायक और बसपा के संस्थापक सदस्य इंद्रजीत सरोज के साथ बड़ी संख्या में बसपा कार्यकर्ताओं ने पार्टी छोड़ दी थी। इन्हीं कार्यकर्ताओं में से 200 ने गुरुवार को घर वापसी कर ली है।

मायावती। (FILE PHOTO)

गुरुवार को बहुजन समाज पार्टी के लखनऊ जोन कैडर के करीब 200 कार्यकर्ताओं ने ‘घर वापसी’ कर ली। दरअसल उत्तर प्रदेश विधानसभा चुनाव से पहले जो कार्यकर्ता बसपा छोड़कर अन्य पार्टियों में शामिल हुए थे, उनमें से 200 कार्यकर्ताओं ने गुरुवार को फिर से बसपा की सदस्यता ग्रहण कर ली। लगातार विद्रोह और दल-बदल से जूझ रही बसपा के लिए यह बड़ी ही राहत की खबर है। सूत्रों के अनुसार, बसपा की पूर्व राष्ट्रीय महासचिव इंद्रजीत सरोज के साथ साल 2017 में बड़ी संख्या में पार्टी कार्यकर्ताओं ने बसपा छोड़कर अन्य पार्टियों की सदस्यता ग्रहण कर ली थी। विधानसभा चुनावों में बसपा को इसका नुकसान भी उठाना पड़ा था।

दरअसल अगस्त 2017 में इंद्रजीत सरोज ने मायावती पर विधानसभा चुनावों के दौरान टिकट बेंचने का आरोप लगाया था। सरोज के इन आरोपों के बाद मायावती ने उन्हें पार्टी से निकाल दिया था। 4 बार विधायक और बसपा के संस्थापक सदस्य इंद्रजीत सरोज के साथ बड़ी संख्या में बसपा कार्यकर्ताओं ने भी पार्टी छोड़ दी थी। इन्हीं कार्यकर्ताओं में से 200 ने गुरुवार को घर वापसी कर ली है। बसपा के एक सदस्य का कहना है कि बहुत सारे लोग, खासकर भाजपा से, हमारे संपर्क में हैं और जल्द ही आने वाले दिनों में ये लोग भी घर वापसी कर सकते हैं।

खबर है कि बसपा अपनी लखनऊ यूनिट का पुनर्निर्माण कर रही है, जिसके तहत पार्टी ने अपने लखनऊ में 9 विधानसभा अध्यक्ष में से 3 को बदल दिया है। सूत्रों के अनुसार, लखनऊ उत्तर, लखनऊ सेंट्रल और सरोजनीनगर अध्यक्षों को बदल दिया गया है। बताया जा रहा है कि बदले गए विधानसभा अध्यक्षों के इलाके में काम थोड़ा धीमा चल रहा है। हालांकि इनमें से एक की तबीयत भी खराब है, जिसके चलते उन्हें बदलने का फैसला लिया गया है। उल्लेखनीय है कि जिस तरह से हालिया उप-चुनावों में बसपा और सपा का गठबंधन उभरा है और इस गठबंधन ने जीत हासिल की है, उससे पार्टी कैडर और नेतृत्व काफी खुश है। यही वजह है कि विधानसभा चुनावों के दौरान जो पार्टी कैडर बसपा से छिटक गया था, वह अब धीरे-धीरे घर वापसी कर रहा है। इसके अलावा जिस तरह से लोगों का भाजपा के साथ मोह भंग हो रहा है, वो भी एक वजह है कि बसपा के पूर्व कार्यकर्ताओं ने फिर से बसपा का रुख किया है।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App