scorecardresearch

जम्‍मू कश्‍मीर में उरी हमले जैसा अटैक : परगल आर्मी कैंप में घुसे दो आत्‍मघाती हमलावर, दोनों ढेर, तीन जवान शहीद

Terrorists suicide attack: एडीजीपी मुकेश सिंह ने कहा, ‘‘कुछ आतंकवादियों ने पारगल में सेना के एक शिविर की बाड़ पार करने की कोशिश की। जवान उन्हें रोकने लगे तो मुठभेड़ शुरू हो गई।’’

जम्‍मू कश्‍मीर में उरी हमले जैसा अटैक : परगल आर्मी कैंप में घुसे दो आत्‍मघाती हमलावर, दोनों ढेर, तीन जवान शहीद
Attack on Army Base: जम्मू-कश्मीर के राजौरी के दारहल इलाके में एक सैन्य शिविर पर आत्मघाती हमले की कोशिश के बाद मुठभेड़ स्थल के पास मौजूद सुरक्षाकर्मी। (पीटीआई फोटो)

जम्मू-कश्मीर के राजौरी के दारहल इलाके में गुरुवार तड़के उरी हमले जैसा अटैक करते हुए सेना के एक शिविर में एक संदिग्ध आत्मघाती समूह के दो आतंकियों ने घुसने की नाकाम कोशिश की। राजौरी से 25 किलोमीटर दूर सेना की एक कंपनी ऑपरेटिंग बेस पर यह आत्मघाती हमला किया गया। सेना ने दोनों हमलावरों को मौके पर ही ढेर कर दिया, हालांकि इस कार्रवाई में तीन जवान भी शहीद हो गए।

घटना में पांच जवान घायल हो गए। इसमें एक अधिकारी भी शामिल हैं, उन्हें अस्पताल में भर्ती कराया गया है। सेना के एक वरिष्ठ अधिकारी के मुताबिक 16 कोर कमांडर लेफ्टिनेंट जनरल मनजिंदर सिंह लगातार जमीनी हालात पर नजर बनाए हुए हैं। इलाके को सैनिटाइज किया जा रहा है। ऑपरेशन अभी जारी है। वहीं शहीद होने वाले जवानों में सूबेदार राजेंद्र प्रसाद, राइफलमैन मनोज कुमार और राइफलमैन लक्ष्मणन डी शामिल हैं।

indian army, Jammu kashmir

अतिरिक्त पुलिस महानिदेशक (एडीजीपी) मुकेश सिंह ने कहा, ‘‘कुछ लोगों (आतंकवादियों) ने पारगल में सेना के एक शिविर की बाड़ पार करने की कोशिश की। जवानों ने उन्हें रोकने लगे तो मुठभेड़ शुरू हो गई।’’ एडीजीपी ने बताया कि दारहल थाने से करीब छह किलोमीटर दूर स्थित सेना के इस शिविर में अतिरिक्त बल भेजा गया है। 

खास बात यह है कि यह हमला बडगाम में सुरक्षा बलों द्वारा तीन लश्कर-ए-तैयबा को ढेर किए जाने के एक दिन बाद हुआ है। मारे गए आतंकवादियों में से एक नागरिक राहुल भट और अमरीन भट की हत्या में शामिल था।

देश में 75वें स्वतंत्रता दिवस समारोह से ठीक पहले आर्मी कैंप में घुसपैठ की कोशिश की गई। यह हमला बडगाम में सुरक्षा बलों द्वारा लश्करे तैयबा के तीन आतंकियों को ढेर किए जाने के एक दिन बाद किया गया है।

अतिरिक्त पुलिस महानिदेशक (एडीजीपी) कश्मीर ने कहा, “लश्कर-ए-तैयबा के छिपे हुए तीनों आतंकवादियों को ढेर कर दिया गया है। घटनास्थल से शव निकाले जा रहे हैं, पहचान का पता नहीं चल पाया है। आपत्तिजनक सामग्री, हथियार और गोला-बारूद बरामद किया गया है। यह हमारे लिए एक बड़ी कामयाबी है।”

जम्मू-कश्मीर के पूर्व मुख्यमंत्री अब्दुल्ला ने ट्वीट किया, ”राजौरी में हुए आतंकवादी हमले में तीन सैनिकों के जान गंवाने के बारे में सुनकर बहुत दुख हुआ। मैं हमले की निंदा करता हूं और शोकाकुल परिवारों के प्रति संवेदना व्यक्त करता हूं। हमले में घायल हुए अधिकारियों और जवानों के शीघ्र स्वस्थ होने की कामना करता हूं।” 

पढें राज्य (Rajya News) खबरें, ताजा हिंदी समाचार (Latest Hindi News)के लिए डाउनलोड करें Hindi News App.

अपडेट