फेरीवाले के बेटे की UPSC 2020 में 45वीं रैंक, परिवार के पहले शख्स जिसने पूरा किया ग्रेजुएशन, 2019 में बने थे IT कमिश्नर

अनिल बसाक ने UPSC 2020 की परीक्षा में 45वीं रैंक लाकर परिवार के साथ-साथ बिहार व अपने जिले किशनगंज का नाम भी रौशन किया है।

Anil basak
अनिल बसाक ने तीसरे प्रयास में यह सफलता हासिल की है। Photo Source- Twitter

कहते हैं मेहनत करने वालों की हार नहीं होती है। इस कहावत को चरितार्थ किया है बिहार के अनिल बसाक ने, अनिल बसाक ने UPSC 2020 की परीक्षा में 45वीं रैंक लाकर परिवार के साथ-साथ बिहार व अपने जिले किशनगंज का नाम भी रौशन किया है। अनिल बसाक बेहद साधारण परिवार से आते हैं। पिता, साइकिल पर कपड़ों की फेरी लगाकर घर का गुजारा बसारा करते थे। लेकिन अनिल ने कभी इसे अपनी कमजोरी नहीं माना बल्कि अपने पिता की मेहनत को उन्होंने अपनी प्रेरणा बनाई। एक स्थानीय समाचार पत्र से बात करते हुए उन्होंने कहा कि काम छोटा बड़ा नहीं होता है। मेरे पिता की मेहनत को देखकर मैं चाहता था कि किसी दिन ऐसा अधिकारी बनूं कि मां पिता को आराम करने का मौका मिल सके।

बचपन से पढ़ाई लिखाई में होशियार अनिल बसाक ने तीसरे प्रयास में यह सफलता हासिल की है। पहले प्रयास में उन्होंने प्री और मेन्स की परीक्षा क्लियर कर ली थी। दूसरे में उन्हें 616वीं रैक मिली थी। दूसरे प्रयास के बाद वह इनकम टैक्स कमिश्नर बने लेकिन मन में IAS बनने की कसक अभी भी हिलोरे मार रही थी, लिहाजा स्पेशल छुट्टी की एप्लीकेशन के साथ अबकी बार पूरे जोर शोर से लग गए। इस बार UPSC 2020 में 45वीं रैंक लगाकर अपने जैसे लाखों युवाओं की प्रेरणा बन गए।

अनिल बसाक कुल चार भाई हैं, जिनमें से वह दूसरे नंबर पर हैं। पिता की माली हालत ठीक नहीं थी लेकिन बेटे की मेहनत को देखते हुए उन्होंने अपना पूरा समर्थन दिया। आठवीं तक की पढ़ाई उन्होंने किशनगंज के ओरियंटल पब्लिक स्कूल से की, साल 2011 में अररिया पब्लिक स्कूल से 10वीं की परीक्षा पास की और 2013 में उन्होंने 12वीं की परीक्षा उत्तीर्ण की। इसके बाद बसाक ने साल 2014 में आईआईटी दिल्ली से सिविल इंजीनियरिंग में दाखिला मिला।

अनिल बसाक का परिवार गरीबी के दंश को लंबे वक्त से झेल रहा था, 2018 में जब इंजीनियरिंग करके बाहर निकले तो परिवार के पहले सदस्य बने जिसने ग्रैजुएशन किया हो। पिता भी आर्थिक अभाव के चलते पढ़ाई जारी नहीं रख पाए थे। बचपन से परिवार को इतनी कमियों से जूझता हुआ देखकर भी अनिल कभी अपने उद्देश्य से डिगे नहीं।

आपकी जानकारी के लिए बता दें कि यूपीएससी परीक्षा 2020 फाइनल रिजल्ट में कुल 761 अभ्यर्थियों को नियुक्ति के लिए रिकमन्ड किया गया है। इस परीक्षा में शुभम कुमार ने प्रथम स्थान हासिल किया है। महिला अभ्यर्थियों में जागृति अवस्थी टॉपर हैं, जबकि ओवरऑल में इन्हें सेकंड रैंक प्राप्त हुई है।

पढें राज्य समाचार (Rajya News). हिंदी समाचार (Hindi News) के लिए डाउनलोड करें Hindi News App. ताजा खबरों (Latest News) के लिए फेसबुक ट्विटर टेलीग्राम पर जुड़ें।

अपडेट