यूपी: बजट सत्र के दौरान सपा का हंगामा, विधानसभा की गेट पर चढ़े नेता तो अंदर स्पीकर को दिखाई गईं तख्तियां

समाजवादी पार्टी के विधायकों ने विधानसभा के अंदर सत्तारूढ़ भाजपा पार्टी के खिलाफ नारेबाजी की और राज्यपाल आनंदीबेन पटेल के संबोधन के दौरान वॉक आउट किया।

samajwadi party
समाजवादी पार्टी के कार्यकर्ताओं ने बजट सत्र के दौरान हंगामा किया। (PTI)

लखनऊ में आज समाजवादी पार्टी के विधायकों ने विधानसभा के अंदर सत्तारूढ़ भाजपा पार्टी के खिलाफ नारेबाजी की और राज्यपाल आनंदीबेन पटेल के संबोधन के दौरान वॉक आउट किया। बता दें कि उत्तर प्रदेश विधानसभा का बजट सत्र आज से शुरू हुआ है। समाजवादी पार्टी के कार्यकर्ताओं और नेताओं ने राज्य सरकार के खिलाफ राज्य विधानसभा के बाहर विरोध प्रदर्शन भी किया।

सपा नेताओं ने किसानों, कानून व्यवस्था और बेरोजगारी से संबंधित मुद्दों को उठाया। पार्टी के दो एमएलसी – अनुराग भदौरिया और सुनील सिंह यादव विधानसभा ट्रैक्टर पर आए। बता दें कि उत्तर प्रदेश के वित्त मंत्री सुरेश खन्ना सोमवार सुबह 11 बजे बजट पेश करेंगे। बजट सत्र 10 मार्च तक चलेगा। केंद्रीय बजट की तरह, खन्ना भी इस साल पेपरलैस बजट पेश करेंगे।

सपा नेता राम गोविंद चौधरी, जो कि विधानसभा में विपक्ष के नेता हैं, ने पेपरलेस बजट का विरोध करते हुए कहा कि इससे कई लोगों को आर्थिक नुकसान होगा और यहां तक कि उनकी नौकरी भी चली जाएगी। उन्होंने कहा, “मैं पेपरलेस बजट का विरोध करता हूं क्योंकि उत्तर प्रदेश मैनपावर वाला राज्य है। पेपरलेस बजट से तीन नुकसान होंगे। अगर सब कुछ पेपरलेस हो जाता है, तो किसानों को नुकसान होगा क्योंकि वे कागज के लिए कच्चा माल उपलब्ध कराते हैं।”

प्रिंटिंग प्रेस में, लोगों के पास काम नहीं होगा क्योंकि कागज छापा नहीं जाएगा। अगर पेपर फैक्ट्रियां बंद हो गईं तो लाखों लोग बेरोजगार हो जाएंगे। चौधरी ने कहा कि राज्य सरकार केवल तकनीक के फायदे को देखती है लेकिन यह नहीं देख रही है कि इसका खामियाजा किसे भुगतना पड़ेगा।

सपा नेता सुनील सिंह यादव ने कहा, “हम उम्मीद कर रहे थे कि उत्तर प्रदेश को इस बजट से कुछ मिलेगा। यह भाजपा सरकार का आखिरी बजट है। यह बजट पेपरलैस तो है ही साथ ही ‘विकासलैस’ भी है। पिछले 4 वर्षों में, भाजपा के नेता, मंत्री, और अधिकारियों ने बजट के जरिए लोगों के पैसो को लूटा है। ”

इससे पहले स्पीकर हृदय नाथ दीक्षित ने सत्र के सुचारू संचालन में राज्य के नेताओं से सहयोग लेने के लिए बुधवार को एक सर्वदलीय बैठक बुलाई थी।

Next Story
आरटीआइ के तहत सूचना मांगने की वजह बताएं: मद्रास हाई कोर्ट1975 LN Mishra Murder Case
अपडेट