ताज़ा खबर
 

यूपी: लाउड स्पीकर को लेकर दो समुदायों में खूनी जंग, एक की मौत, 2000 लोगों की भीड़ ने 25 घर फूंके

उत्तर प्रदेश के सहारनपुर में दो समुदायों के बीच झगड़े का मामला सामने आया।
Author May 6, 2017 13:24 pm
सहारनपुर में महाराणा प्रताप के कार्यक्रम पर बवाल हुआ था (PTI photo)

उत्तर प्रदेश के सहारनपुर में दो समुदायों के बीच झगड़े का मामला सामने आया। झगड़े में एक शख्स की मौत हो गई वहीं 16 लोग गंभीर रूप से जख्मी हैं। इसके साथ ही 25 घरों को भी आग लगा दी गई। वहां के शब्बीरपुर और शिमलाना गांव में रहने वाले राजपूत और दलित समुदाय के लोगों के बीच लड़ाई हुई। शब्बीरपुर दलित और शिमलाना ठाकुर बहुल इलाका है। इंडियन एक्सप्रेस को मिली जानकारी के मुताबिक, दोनों के बीच ताजा लड़ाई महाराणा प्रताप की याद में रखे गए एक कार्यक्रम के दौरान हुई। पुलिस से मिली जानकारी के मुताबिक, दोनों समुदायों के बीच पहले भी ऐसी लड़ाईयां होती रही हैं। इससे पहले दोनों समुदाय के बीच अंबेडकर की मूर्ति रखने पर भी विवाद हुआ था।

पुलिस के मुताबिक, शिमलाना में महाराणा प्रताप की याद में कार्यक्रम रखा गया था। शब्बीरपुर में रहने वाले वाले ठाकुर उसमें हिस्सा लेने के लिए जा रहे थे। उन लोगों ने कथित रूप से तेज आवाज में गाने बजाते हुए जा रहे थे । इसपर शब्बीरपुर के मुखिया शिव कुमार ने उन लोगों को आवाज धीमी करने को कहा जिसपर दोनों की लड़ाई हो गई। इसपर ठाकुर समुदाय के लोगों ने कथित रूप से गांव से लोगों को बुला दिया। फिर पहले 300 और फिर 2000 के करीब ठाकुरों ने शब्बीरपुर पहुंच गए। जिसके बाद झगड़ा बढ़ा और 25 घरों को फूंक दिया गया। ठाकुरों पर पुलिस के वाहनों और आग बुझाने वाली गाड़ी का रास्ता रोकने का भी आरोप है।

जिस शख्स की मौत हुई उसका नाम सुमित राजपूत है। वह पास के रसूलपुर गांव का रहने वाला था और शिमलाना में कार्यक्रम में हिस्सा लेने गया हुआ था। पुलिस के मुताबिक, सुमित के कहीं भी कोई चोट का निशान नहीं था और उसकी मौत की वजह दम घुटना बताया गया है।

दलितों के खिलाफ कुल चार एफआईआर दर्ज की गई हैं। इसमें हत्या, हत्या की कोशिश आदि आरोप शामिल हैं। हालांकि, फिलहाल किसी की गिरफ्तारी नहीं हुई है। इस मामले में दलित लोगों की तरफ से कोई शिकायत दर्ज नहीं करवाई गई है।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

  1. D
    Doulat Rahar
    May 6, 2017 at 3:12 pm
    कितने शर्म की बात है कि महाराना प्रताप जी के जलसे के खिलाफ बवाल। अरे इतिहास पढ़ लिए होते उस वीर का,,, जिसने मातृभूमि की स्वतंत्रता के लिए ओर हमारे लिए संघर्ष किया। उन्होंने कोई अकेले राजपूतो के लिए थोड़ी लड़ाई लड़ी थी। हम सबको मनाना चाहये उनका हर उत्सव। पर पता नही क्या हो गया है लोगो को। नमन वीर शिरोमणि को जिसने कहा था- "मगरों हूँ छोड़ू नही, भुण्डल मत बिलखाय। शैला टकरा झेल सयुं, भाज्या वंश लजाय।।
    (0)(0)
    Reply
    1. N
      neeraj
      May 6, 2017 at 2:05 pm
      Doshi Jo bhi ho chahe dalit ya thakur dono ki taraf se giraftaari honi chahiye
      (0)(0)
      Reply
      1. B
        bhanu pratap singh
        May 6, 2017 at 12:47 pm
        ek tarafa karyavahi ku.rajput jati ka ladka mra h apradhyo pr murder case m dhara ku nhi lgai ja rhi.ab kya apne veer purso ko hm yaad bhi nhi kr skte,ya bs desh m ek ambedkar hi puja jayga.;hmesha swarn jati ko hi target ku.doshiyo k khilaf bhi brabar karyavahi ho
        (0)(0)
        Reply
        1. D
          Dalit
          May 6, 2017 at 7:56 pm
          bilkul karo bhai ... agar tum logo ko Baba sahab se dikat nhi to hame aap se nhi agar tumhe hogi to hame bhi tumhare legend logo se hogi
          (0)(0)
          Reply
        2. R
          Rajendra Vora
          May 6, 2017 at 11:06 am
          Aapas me mat lado hame kisi aur se ladna he. Aatankwad hamara mukhya shatru he us se lado.
          (0)(0)
          Reply