ताज़ा खबर
 

यहां मुस्लिम करते हैं गायों की देखभाल और पूजा, यूपी की 108 साल पुरानी गोशाला में रहती हैं 800 से ज्यादा गाय

अली गोशाला में 13 साल की उम्र से काम कर रहे हैं। वो हर साल गोवर्धन पूजा भी करते हैं। गोपाल गोशाला में अली और नूर के अलावा और 60 कर्मचारी काम करते हैं।

अस्पताल के एसीएमओ गौरक्षा के नाम पर पशु क्रूरता का खेल चला रहे थे। (File Photo)

गौहत्या को लेकर हमेशा मुस्लिम समुदाय को घेरा जाता रहा है। लेकिन देश में कुछ मुस्लिम परिवार ऐसे भी हैं जो हिंदूओं से भी ज्यादा गायों की सेवा करते हैं और उन्हें पूजते हैं। ऐसी बानगी देखने को मिली मेरठ के गोपाल गोशाला में, जहां गायों की सेवा मुस्लिम करते हैं और पूजते भी हैं। इस गोशाला को दो मुस्लिम दोस्त मिलकर चलाते हैं। यह गोशाला 108 साल पुरानी है। यहां 800 से भी ज्यादा गाएं हैं। लेकिन हैरानी की बात ये है कि इस गोशाला को दो मुस्लिम दोस्त अली हसन (61) और नूर हसन (45) चलाते हैं।

दोनों दोस्त सुबह 6 बजे से ही गायों की सेवा में जुट जाते हैं। वो सबसे पहले गायों को नहलाने और उनके लिए चारा का प्रबंध करने का काम करते हैं। अली गोशाला में 13 साल की उम्र से काम कर रहे हैं। वो हर साल गोवर्धन पूजा भी करते हैं। गोपाल गोशाला में अली और नूर के अलावा और 60 कर्मचारी काम करते हैं।

वहीं अली के दोस्त नूर इस गोशाला में पिछले 20 सालों से सेवा कर रहे हैं। नूर इस काम को अपने जीवन का सबसे धार्मिक कार्य मानते हैं। दोनों दोस्तों ने बताया कि यह हमारा काम है और इससे हमारा घर चलता है। काम को हम अपना खुदा मानते हैं। इन गायों के जरिए हम सब कमाते हैं और इसलिए हम इन्हें प्यार करते हैं और पूजते हैं।

बाजार में मीट बंदी को लेकर दोनों दोस्तों का कहना है कि इसका उनके जीवन पर कोई खास असर नहीं होने वाला है। ज्यादा से ज्यादा क्या होगा, घर में मीट आना बंद हो जाएगा। हो सकता है हमें मीट छोड़कर शाकाहार भोजन करना पड़े, यह कोई बड़ी बात नहीं है। जब उनसे पूछा गया कि क्या उनके समुदाय में से किसी को कोई आपत्ति है? इस पर नूर ने कहा, ‘यह कोई व्यवसाय नहीं है। हालांकि कुछ लोग सवाल उठाते हैं, लेकिन मैं इससे परेशान नहीं होता हूं। मैं अपने काम के प्रति विश्वासयोग्य हूं।’

यूपी में 21 सदस्यीय ट्रस्ट चलाने वाला गोपाल गोशाला अन्य गोशाला से विपरीत दिशा में काम कर रहा है। वो केवल दुधारू गायों को शरण नहीं देता, बल्कि हर श्रेणी के गायों की सेवा कर रहा है।

देखिए वीडियो - सुप्रीम कोर्ट ने ठुकराई हर राज्य में गोहत्या पर बैन की याचिका

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App