ताज़ा खबर
 

यूपी: मोदी के काशी, योगी के गोरखपुर में खूब बिका मीट, मटन-चिकन खरीदने के लिए लगी लाइनें

योगी सरकार में मंत्री सिद्घार्थ नाथ सिंह ने बूचड़खानों पर की जा रही कार्रवाई को लेकर अधिकारियों को अति उत्साही होने से बचने के लिए कहा है। उन्होंने कहा कि अवैध रूप से चलने वाले बूचड़खानों पर ही कार्रवाई की जाए।

Author लखनऊ। | Updated: March 29, 2017 12:11 PM
योगी सरकार ने अवैध बूचड़खानों को बंद करने का दिया आदेश। (Express Photo)

उत्तर प्रदेश में योगी सरकार द्वारा अवैध बूचड़खानों पर सख्ती और बंद किए जाने के आदेश के बाद पूरे राज्य में मीट कारोबारी अनिश्चितकालीन हड़ताल पर हैं। सोमवार को हड़ताल के पहले दिन दुकानें बंद होने असर राजाधानी लखनऊ और कानपुर समेत कई जिले में देखने को मिला। हालांकि पीएम नरेंद्र मोदी के संसदीय क्षेत्र वाराणसी और राज्य के नए सीएम योगी आदित्य नाथ के संसदीय क्षेत्र गोरखपुर में मीट की किल्लत देखने को नहीं मिली। हिंदुस्तान टाइम्स की रिपोर्ट के मुताबिक वाराणसी के नई सड़क इलाके में मोहम्मद मेराज की मटन शॉप है जिसमें रोज की तरह ही बिजनेस जारी रहा। ताजा मीट खरीदने के लिए ग्राहकों की लाइन लगी रही। वाराणसी से कुछ 100 किलोमीटर दूर योगी आदित्य नाथ का संसदीय क्षेत्र गोरखपुर है। यहां भी कुछ ऐसा ही नजारा देखने को मिला। अब्दुल कुरैशी नाम के शख्स की दुकान के बाहर मटन के लिए लोग मौजूद रहे। नवरात्रि शुरू होने से एक दिन पहले सोमवार को लोग मीट खरीदने के दुकान पर लोगों की कतार लगी रही।

इन दो शहरों का दृश्य उत्तर प्रदेश के कई अन्य स्थानों के विपरीत है। जहां पर कारोबारियों की हड़ताल से मीट और अंडे की किल्लत हो गई है। हड़तालियों का आरोप है कि बीजेपी सरकार द्वारा अवैध बूचड़खानों को बंद करने के आदेश दिए जाने के बाद से प्रशासन उन्हें परेशान कर रहा है। वाराणसी और गोरखपुर में भैस के मीट को छोड़ दिया जाए तो मीट, चिकन और अंडों की कोई दिक्कत नहीं है। वाराणसी में मीट की दुकान चलाने वाले मोहम्मद मेराज का कहना है, मुझे मालूम है कि लखनऊ में मीट बेचने वालों ने हड़ताल की है। कार्रवाई अवैध बूचड़खानों पर की जा रही है, मीट की दुकानों पर नहीं। इस वजह से हमनें दुकान खोल दी। चिकन (मुर्गा) बेचने वाले मोहम्मद अंसारी ने कहा कि सोमवार सुबह को कुछ देर के लिए दुकान बंद रखी थी, लेकिन बाद में दोपहर को दुकान खोल दी। धंधे पर इसका कोई प्रभाव नहीं पड़ा।

अवैध बूचड़खानों के विरोध में सोमवार को मीट कारोबारियों ने हड़ताल शुरू की थी। हड़ताल के कारण करीब 5000 दुकानें बंद रही। राजधानी लखनऊ के हुसैनगंज इलाके का मदीना होटल सालों से अपने मांसाहरी खाने के लिए जाना जाता है। लेकिन सोमवार को यहां नहारी और मटन स्टू की जगह होटल वाले दाल और चावल बेचने के लिए मजबूर हो गए। यह हाल सिर्फ यहीं का नहीं बल्कि प्रशासन की ताबड़तोड़ छापेमारी की वजह से अधिकतर दुकानें बंद रही। चिकन और अंडे कारोबारियों ने भी हड़ताल का समर्थन किया है।

वहीं, योगी सरकार में स्वास्थ्य मंत्री सिद्घार्थ नाथ सिंह ने बूचड़खानों पर की जा रही कार्रवाई को लेकर अधिकारियों को अति उत्साही होने से बचने के लिए कहा है। उन्होंने कहा कि अवैध रूप से चलने वाले बूचड़खानों पर ही कार्रवाई की जाए। जिनके पास लाइसेंस हैं उन्‍हें परेशान ना किया जाए। सिद्धार्थनाथ सिंह ने सोमवार को कहा सरकार ने चिकन और अंडे की दुकानों को बंद करने के लिए नहीं कहा है तो जो भी यह अफवाह उड़ा रहा है लोग उनकी अफवाहों पर ध्यान न दें।

योगी आदित्यनाथ इन तस्वीरों पर भी गौर कर लेते तो गैरभाजपाई वोटर्स भी हो जाते मुरीद

उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ से जुड़ी 10 बातें

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ लिंक्डइन पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

Next Stories
1 नॉर्थ ईस्ट में गौहत्‍या और बीफ ब‍िक्री पर भाजपा को आपत्ति नहीं, कहा- जीते तो बीफ और गौहत्या पर नहीं होगी रोक
2 कोल्‍हापुर में लहराएगा देश का दूसरा सबसे बड़ा तिरंगा, 300 फुट की ऊंचाई पर फहरेगा राष्‍ट्रीय ध्‍वज
3 योगी आदित्‍य नाथ के गुरुभाई थे गुजरात में जन्‍मे मुस्लिम गुल मोहम्‍मद पठान उर्फ महंत गुलाबनाथ, अंत समय तक बना रहा करीबी नाता