ताज़ा खबर
 

Clean India Campaign: UP सरकार में टॉयलेट के नाम पर लाखों का घोटाला

मुख्यमंत्री अखिलेश यादव की बहुप्रतिक्षित योजना लोहिया ग्राम पंचायत ताखा में शौचालय के लिए आए पचास लाख रुपए के घोटाले का मामला सामने आया है।

Author इटावा | February 10, 2016 3:32 AM

मुख्यमंत्री अखिलेश यादव की बहुप्रतिक्षित योजना लोहिया ग्राम पंचायत ताखा में शौचालय के लिए आए पचास लाख रुपए के घोटाले का मामला सामने आया है। स्वच्छ भारत मिशन के तहत बनने वाले शौचालय योजना मे सुनियोजित ढंग से घोटला हुआ है। आचार संहिता लगने से चंद दिन पहले पूर्व प्रधान और सचिव ने मिलकर भारी भरकम रकम निकाल ली और निर्माण के नाम पर सभी नियमों को ताक पर रखकर किसी को शौचालय की सीट पकड़ा दी गई तो किसी के घर पर गड्डा खोदकर छोड़ दिया गया। इतना ही नहीं कई लोगों को कुछ भी नहीं दिया गया। ताखा विकासखंड के उपजिलाधिकारी दिनेश सिंह ने बताया पूरे मामले की शिकायत मिली है मामला गंभीर है पूरे मामले की वह जांच करेंगे और दोषियों के खिलाफ कार्रवाई की जाएगी।

इटावा जनपद के विकास खंड ताखा की सबसे बड़ी ग्राम पंचायत ताखा को 2015 में लोहिया समग्र विकास योजना में इस आशय से शामिल किया गया था कि गाव में घर-घर में शौचालय बन सके। इसी पंचायत के निवासी पूर्व विधायक महेंद्र सिंह यादव ने खुलासा करते हुए बताया योजना के तहत लगभग चार सौ पचास शौचालयों के निर्माण के लिए पंचायत को लगभग पचास लाख रुपए पंचायत के खाते में भेजे गए थे। नियमानुसार लाभार्थी को शौचालय का निर्माण कराना चाहिए और निर्माण के बाद लाभार्थी को बारह हजार रुपए की चेक दी जानी चाहिए। पर पूर्व ग्राम प्रधान रमेश चंद्र शाक्य और पंचायत सेक्रेटरी देशराज शाक्य ने दस पंद्रह लाभार्थियोंं को तो बारह-बारह हजार के चेक दे दिए।

शेष राशि क्षेत्र पंचायत के चुनाव की आचार संहिता लगने से चंद रोज पहले दोनों ने मिलकर निकाल ली। बताया जाता है यह राशि निकालने के लिए कुछ चेक तो फर्जी नामों से काटे गए। कई लाख रुपए के चेक प्रधान रमेश चंद्र ने अपने नाम से कटवाकर भुगतान निकाल लिया।
इसी पंचायत के पूर्व ब्लाक प्रमुख शिवप्रताप यादव ने तो खंड विकास अधिकारी ताखा से मिलकर पूरे मामले की जांच कराने की मांग की। उन्होंने बताया निर्माण के नाम पर पूर्व प्रधान ने किसी लाभार्थी के घर के सामने गड्डा खोदकर छोड़ दिया है और किसी को केवल शौचालय की सीट दी गई है। इसके साथ-साथ कुछ पुराने शौचालयों को ही दिखाकर पैसा निकाले गए है। पात्रों को बारह हजार रुपए की चेक दी जानी चाहिए थी पर कुछ को ही चेक दिए।

ताखा गांव के निवासी रामबाबू पुत्र अंटू के नाम बारह हजार रुपए लाभार्थिर्यों की बीपीएल सूची में 76 वे नंबर पर दर्ज है लाभार्थी का पैसा कई महीने पहले निकल चुका है लेकिन रामबाबू को शोचालय की सीट चुनाव के समय दे दी गई। रामबाबू ने बताया वह कच्चे मकान में रहता है और शौचालय के लिए उसे उस सीट के अलावा कोई पैसा नहीं मिला है। कुछ यही हाल रामसेवक पुत्र गंगादीन का है। उनका नाम सूची में 84 नंबर पर दर्ज है लेकिन शौचालय के नाम पर उनके घर के सामने महीनों पहले गड्डा खोदकर छोड़ दिया गया है। 45 नंबर पर दर्ज मंजेश कुमार पुत्र मातदीन को तो कुछ भी नहीं मिला उसका दस साल का विक्लांग पुत्र अंकित अपने परिजनों का हाथ पकड़कर खेतों में शौच के लिए जाता है।

ताखा गांव में न जाने ऐसे भी कितने लाभार्थी हैं जिन्हें पता ही नहीं है कि उनके नाम पर आया धन निकाला जा चुका है। ताखा मे साढ़े चार सौ से अधिक शौचालयों का पैसा पूर्व ग्राम प्रधान और पंचायत सेक्रेटरी के द्वारा उस समय निकाला गया जब प्रधान का कार्यकाल खत्म होने मे चंद दिन ही शेष बचे थे। 340 लाभार्थियों के शौचालयों को जिला पंचायत राज अधिकारी के कार्यलाय में परिपूर्ण दिखाकर फीडिंग कर दी गई है।

इस सूची में तमाम उन लाभार्थियों के नाम भी शामिल हैं जिसके पास पुराने शौचालय है। यह खुलासा तब हुआ जब इसी पंचायत के पूर्व ब्लाक प्रमुख शिवप्रताप यादव ने स्वम जिला पंचायत राज अधिकारी मिहीलाल यादव से मिलकर उनसे वह सूची ली, जिसमें 340 लाभार्थियों के शौचालयों को परिपूर्ण दिखाते हुए बाकायदा प्रत्येक लाभार्थी की फोटो या फिर शौचालय की फोटो भी दिखाया गया है।

340 लाभार्थियों की सूची में आजम पुत्र रफीयदुीन निवासी ताखा का सूची में 240 नंबर पर नाम दर्ज है और इनके शौचालय को परिपूर्ण दिखाया गया है। आजम ने अपना पुराना टूटा शौचालय दिखाते हुए बताया उसके पास यही एक पुराना शौचालय है जिसे उसने अपने हाथों से काफी पहले बनवाया है। जिसमें 1970 लिखी हुई ईटे लगी हुई है।

कुछ यही हाल जयरूदीन पुत्र उस्मान खा निवासी ताखा का है इनका नाम परिपूर्ण सूची में संख्या 275 में दर्ज है। जयरुदीन ने बताया उसका शौचालय 2004 में आई योजना के तहत बना है लोहिया पंचायत होने के बाद उसे कोई शौचालय मिला ही नहीं है।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App