ताज़ा खबर
 

UP: शिलान्यास पत्थर पर लिखे डिप्टी CM के नाम से छेड़छाड़, केशव प्रसाद मौर्य के नाम से गायब कर दिया ‘के’

कानपुर में डिप्टी सीएम केशव प्रसाद मौर्य के नाम के साथ छेड़छाड़ का मामला सामने आया है। बताया जा रहा है कि शिलान्यास पत्थर पर से डिप्टी सीएम के नाम के पहले अक्षर को हटा दिया गया था।

Author कानपुर | July 13, 2019 7:50 AM
शिलान्यास पत्थर पर डिप्टी सीएम केशव प्रसाद मौर्य के नाम से छेड़छाड़ (फोटो सोर्स: स्थानीय)

उत्तर प्रदेश के कानपुर में शिलान्यास पत्थर पर डिप्टी सीएम केशव प्रसाद मौर्य के नाम से अराजक तत्वों के छेड़छाड़ करने का मामला सामने आया है। बताया जा रहा है कि कुछ लोगों ने डिप्टी सीएम के नाम के ‘के’ को हटा दिया था जिसके वजह से उनके नाम का मतलब ही बदल गया था। बता दें कि यह शिलान्यास पत्थर को घाटमपुर कोतवाली क्षेत्र में स्थित घाटमपुर तहसील में लगाया गया था। शिलान्यास पत्थर पर हुए छेड़छाड़ से सबसे ज्यादा हैरानी की बात यह है कि किसी भी जिम्मेदार अधिकारी की नजर इस पर नहीं पड़ी। बता दें कि अधिकारियों की नींद तब खुली जब मामला मीडिया के द्वारा सामने आया। इसके बाद एसडीएम ने तत्काल पत्थर पर लिखे नाम को सही कराने के आदेश दिए और इसके साथ ही जांच कराने की बात भी कही।

डिप्टी सीएम के नाम से हुई छेड़छाड़ः बताया जा रहा है कि 2018 में घाटमपुर तहसील की इस नई बिल्डिंग को बनाई गई थी। इस भवन का उद्घाटन डिप्टी सीएम केशव प्रसाद मौर्य ने ही किया था। यही कारण है कि डिप्टी सीएम केशव प्रसाद मौर्य के नाम का पत्थर तहसील भवन में लगाया गया था। तहसील में लगे पत्थर से डिप्टी सीएम केशव प्रसाद मौर्य के नाम से ‘के‘ शब्द को अराजक तत्वों ने हटा दिया था। इसके बाद पत्थर में ‘श्री शव प्रसाद मौर्य’ कई दिनों से लिखा था। लेकिन किसी भी कर्मचारी और अधिकारी की नजर उस पर नहीं पड़ी है। मीडिया के दखल के बाद अधिकारी हरकत में आए और पत्थर को ठीक कराया।

National Hindi News, 13 July 2019 LIVE Updates: देश-दुनिया की हर खबर पढ़ने के लिए यहां करें क्लिक

 

मीडिया के दखल के बाद जागे अधिकारीः घाटमपुर तहसील के एसडीएम वरूण कुमार पांडेय के मुताबिक मीडिया के माघ्यम से यह बात की जानकारी मिली कि पत्थर से किसी ने कोई शब्द हटा दिया है। इसके बाद उसे तत्काल ठीक कराने का आदेश दिया गया है। वहीं इसकी आगे भी जांच कराई जा रही है।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ लिंक्डइन पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App