ताज़ा खबर
 

मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ का बड़ा एेलान- अगले 5 साल में युवाओं को देंगे इतने लाख रोजगार

योगी ने ‘वन डिस्ट्रिक्ट, वन प्रोडक्ट’ योजना के जरिए रोजगार दिलाने की दिशा में आगे बढ़ने के संकेत भी दिए।

योगी ने कहा कि गंगा उत्तर प्रदेश के 25 जिलों से होकर बहती है। (Source: PTI)
उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने मंगलवार को कहा कि उनकी सरकार अगले पांच सालों में 70 लाख युवाओं को अपने कार्यक्रमों के माध्यम से रोजगार के अवसर उपलब्ध कराएगी।  योगी ने ‘वन डिस्ट्रिक्ट, वन प्रोडक्ट’ योजना के जरिए रोजगार दिलाने की दिशा में आगे बढ़ने के संकेत भी दिए। मुख्यमंत्री ने यहां प्रथम ‘रोजगार समिट’ का उद्घाटन करने के बाद अपने संबोधन में कहा, ‘‘जिस तरीके से लोगों ने पूंजी निवेश के लिये उत्तर प्रदेश को चुना है, उनका जो रुझान और उत्साह दिख रहा है। हमारा मानना है कि हमारे पास आने वाले पांच वर्षों के दौरान एक करोड़ नौजवान बेरोजगार होंगे, उसमें से 70 लाख को हम रोजगार के अवसर उपलब्ध कराएंगे। उन्होंने कहा कि उनकी सरकार ने कृषि को रोजगार के साथ जोड़ा है। चूंकि कृषि बहुत बड़ा क्षेत्र है, लिहाजा इसमें रोजगार की बहुत संभावनाएं हैं।
योगी ने कहा कि प्रदेश के 75 जिलों में बहुत से ऐसे हैं, जहां कोई परंपरागत उद्योग रहे हैं। उन्होंने कहा, ‘‘हम क्या उत्तर प्रदेश के अंदर ऐसा कर सकते हैं कि वन डिस्ट्रिक्ट वन प्रोडक्ट के आधार पर प्रदेश का विकास करें। भदोही का कालीन उद्योग, अलीगढ़ का ताला उद्योग, मुरादाबाद का पीतल उद्योग। उन्होंने कहा, वाराणसी के साड़ी उद्योग को कोई प्रोत्साहन नहीं मिला है। हम क्यों ना वन डिस्ट्रिक्ट वन प्रोडक्ट को जोड़ें।’’  उन्होंने कहा ‘‘हमें अपने युवाओं पर भरोसा करना चाहिये, जो विपरीत परिस्थितियों में भी मजबूती से खड़ा होता है। जब भी समाज के सामने संकट होता है तो युवा खड़ा होता है, मगर जब उसके रोजगार की बात आई तो कोई ठोस काम नहीं हुआ।
हमने नई औद्योगिक नीति में रोजगार को खास महत्व दिया है।’ मुख्यमंत्री ने कहा कि आज से 45-50 साल पहले उत्तर प्रदेश और बिहार के श्रमिक का प्रवास कलकत्ता की तरफ होता था, मगर वहां की ‘यूनियनबाजी’ ने सब चौपट कर दिया। आज बंगाल की क्या स्थिति है। उत्तर प्रदेश उन राज्यों में से हैं जिसने श्रम कानूनों को सरल बनाया है, लिहाजा लोग इस सूबे से जुड़कर कार्य करें।

देखें वीडियो ः

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ लिंक्डइन पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App